हिन्दी, हिंदी (Hindi): translationNotes

Updated ? hours ago # views See on DCS Draft Material

Mark

Mark front

मरकुस के सुसमाचार का परिचय

भाग 1: सामान्य परिचय

मरकुस की पुस्तक की रूपरेखा
  1. परिचय (1:1––13)
  2. गलील में यीशु की सेवकाई
    • आरम्भिक सेवकाई (1:14––3:6)
  3. यीशु लोगों के मध्य अधिक लोकप्रिय हो जाता है (3:7––5:43)
  4. गलील से दूर जाना और फिर लौटना (6:1––8:26)
  5. यरूशलेम की ओर बढ़ना, बार-बार जब यीशु ने अपनी मृत्यु की भविष्यद्वाणी की; शिष्यों ने गलत समझा, और यीशु उन्हें सिखाता है कि उसका अनुसरण करना कितना कठिन होगा (8:27––10:52)
  6. सेवकाई के अन्तिम दिन और यरूशलेम में अन्तिम संघर्ष की तैयारी (11:1-13:37)
  7. मसीह की मृत्यु और खाली क्रब (14:1––16:8)
मरकुस की पुस्तक में क्या है?

मरकुस का सुसमाचार नए नियम में चार पुस्तकों में से एक है जो यीशु मसीह के जीवन से कुछ का वर्णन करता है। सुसमाचार के लेखकों ने यीशु के जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में लिखा कि यीशु कौन है और उन्होंने क्या किया। मरकुस क्रूस पर यीशु की पीड़ा और मृत्यु के बारे में बहुत कुछ लिखता है। उसने अपने उन पाठकों को उत्साहित करने के लिए ऐसा किया जो सताए जा रहे थे। मरकुस ने यहूदी रीति-रिवाजों और कुछ अरामी शब्दों को भी समझाया है। यह संकेत दे सकता है कि मरकुस ने अपने अधिकांश पहले पाठकों के गैर-यहूदी होने की अपेक्षा की थी।

इस पुस्तक का शीर्षक किस प्रकार अनुवादित किया जाना चाहिए?

अनुवादक इस पुस्तक को इसके पारम्परिक शीर्षक, ""मरकुस का सुसमाचार , ""या"" मरकुस के अनुसार सुसमाचार"" से पुकारना चुन सकते हैं। वे एक ऐसा शीर्षक भी चुन सकते हैं, जो स्पष्ट हो सकता है, जैसे ""वह शुभ सन्देश जिसे मरकुस लिखा था।"" (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

मरकुस की पुस्तक किसने लिखी थी?

पुस्तक लेखक का नाम नहीं देती है। यद्यपि, आरम्भिक मसीही काल से, अधिकांश मसीहियों ने सोचा कि इसका लेखक मरकुस था। मरकुस को यूहन्ना मरकुस भी कहा जाता था। वह पतरस का घनिष्ठ मित्र था। मरकुस ने शायद वह नहीं देखा होगा जो यीशु ने कहा और किया था। परन्तु कई विद्वानों का सोचना है कि मरकुस ने अपने सुसमाचार में वह लिखा था जो पतरस ने उसे यीशु के बारे में बताया था।

भाग 2: महत्वपूर्ण धार्मिक और सांस्कृतिक धारणाएँ

यीशु की शिक्षण विधियाँ क्या थीं?

लोगों ने यीशु को रब्बी के रूप में माना। एक रब्बी परमेश्वर की व्यवस्था का शिक्षक होता है। यीशु ने उसी तरह के तरीकों से शिक्षा दी जैसे इस्राएल में अन्य धार्मिक शिक्षक देते थे। उनके पास ऐसे विद्यार्थी थे, जो जहाँ कहीं वह गया उसके पीछे गए। इन विद्यार्थियों को चेले कहा जाता था। वह अक्सर दृष्टान्त बताता था। दृष्टान्त वे कहानियाँ हैं जो नैतिक शिक्षा देती हैं। (देखें: व्यवस्था, मूसा की व्यवस्था, परमेश्वर की व्यवस्था, यहोवा की व्यवस्था और चेला, चेले और दृष्टान्त, दृष्टान्तों)

भाग 3: अनुवाद के महत्वपूर्ण विषय

समदर्शी सुसमाचार क्या हैं?

मत्ती, मरकुस, और लूका के सुसमाचार को समदर्शी सुसमाचार कहा जाता है क्योंकि उनके कई अनुच्छेद एक जैसे हैं। ""समदर्शी"" शब्द का अर्थ ""एक साथ देखने से है।""

इसके पाठ को ""समानांतर"" माना जाता है जब वे एक जैसे या दो या तीन सुसमाचारों में लगभग एक जैसे होते हैं। समानान्तर अनुच्छेदों का अनुवाद करते समय, अनुवादकों को एक ही जैसे शब्दों का उपयोग करना चाहिए और उन्हें यथासम्भव समान बनाना चाहिए।

यीशु ने स्वयं को ""मनुष्य का पुत्र"" क्यों कहा?

सुसमाचार में, यीशु स्वयं को ""मनुष्य का पुत्र"" कहते हैं। यह दानिय्येल 7:13-14 का एक सन्दर्भ है। इस अनुच्छेद में एक व्यक्ति को ""मनुष्य के पुत्र"" के रूप में वर्णित किया गया है। इसका अर्थ है कि वह व्यक्ति ऐसा था जो मनुष्य की तरह दिखता था। परमेश्वर ने मनुष्य के पुत्र को राष्ट्रों पर सर्वदा के लिए शासन करने का अधिकार दिया। और सभी जातियाँ व लोग सर्वदा उसकी आराधना करेंगी।

यीशु के समय के यहूदियों ने किसी के भी लिए शीर्षक के रूप में ""मनुष्य का पुत्र"" का उपयोग नहीं किया था। इसलिए, यीशु ने अपने आप को यह समझाने में सहायता दी कि वह वास्तव में कौन था। (देखें: मनुष्य का पुत्र, मनुष्य का पुत्र)

कई भाषाओं में ""मनुष्य का पुत्र"" शीर्षक का अनुवाद करना कठिन हो सकता है। पाठक शायद एक शाब्दिक अनुवाद को गलत समझ सकते हैं। अनुवादक विकल्पों पर विचार कर सकते हैं, जैसे कि ""एक मनुष्य""। शीर्षक को समझाने के लिए एक फुटनोट सम्मिलित करना भी सहायक हो सकता है।

मरकुस अक्सर समय की छोटी अवधियों का संकेत देने वाले शब्दों का उपयोग क्यों करता है?

मरकुस का सुसमाचार ""तुरन्त"" शब्द का उपयोग चालीस बार करता है। वह घटनाओं को और अधिक रोमांचक और ज्वलंत बनाने के लिए ऐसा करता है। यह पाठक को तुरन्त एक घटना से अगली घटना की तरफ ले जाता है।

मरकुस की पुस्तक के मूलपाठ में मुख्य विषय क्या हैं?

निम्नलिखित वचन बाइबल के पुराने संस्करणों में पाए जाते हैं परन्तु इन्हें सबसे आधुनिक संस्करणों में सम्मिलित नहीं किया गया है । अनुवादकों को परामर्श दिया जाता है कि इन वचनों को सम्मिलित न करें। यद्यपि, यदि अनुवादकों के क्षेत्र में, बाइबल के ऐसे पुराने संस्करण हैं, जिनमें इनमें से एक या अधिक वचन सम्मिलित हैं, तो अनुवादक उन्हें सम्मिलित कर सकते हैं। यदि वे सम्मिलित किए गए हैं, तो उन्हें यह इंगित करने के लिए वर्ग कोष्ठक ([ ]) के भीतर रखा जाना चाहिए कि वे कदाचित् मरकुस के सुसमाचार में मूल रूप से नहीं थे।

*""यदि किसी के सुनने के कान हों तो सुन ले।"" (7:16) *""जहाँ उनका कीड़ा नहीं मरता और आग नहीं बुझती"" (9:46) *""तब पवित्रशास्त्र का वह वचन पूरा हुआ जो कहता है कि वह अपराधियों के संग गिना गया,' (15:28)

निम्नलिखित अनुच्छेद आधुनिक पाण्डुलिपियों में नहीं मिलता है। अधिकांश बाइबलों में इस अनुच्छेद को सम्मिलित किया गया है, परन्तु आधुनिक बाइबल में इसे कोष्ठक में रखते हैं ([]) या किसी भी तरह से यह संकेत देते हैं कि यह अनुच्छेद मरकुस के सुसमाचार के मूल में नहीं रहा है। अनुवादकों को परामर्श दिया जाता है कि वे बाइबल के आधुनिक संस्करणों के जैसा ही कुछ कार्य करें।

*""सप्ताह के पहले दिन भोर होते ही वह जी उठ कर पहले-पहल मरियम मगदलीनी को जिसमें से उसने सात दुष्टात्माएँ निकाली थीं, दिखाई दिया। वह चली गयी और उन लोगों से कहा जो उसके साथ थे, जबकि वे शोक करते और रोते थे। उन्होंने सुना कि वह जीवित था और यह कि उसको दिखाई दिया था, परन्तु उन्होंने विश्वास नहीं किया। इन बातों के बाद जब वे देश में से बाहर निकल रहे थे, तब वह उनमें से दो को एक अलग रूप में दिखाई दिया। वे चले गए और बाकी के चेलों को बताया, परन्तु उन्होंने उन पर विश्वास नहीं किया। बाद में यीशु ग्यारह को दिखाई दिया जब वे मेज पर बैठे थे, और उसने उन्हें उनके अविश्वास और मन की कठोरता के लिए डाँटा, क्योंकि उन लोगों पर उन्होंने विश्वास नहीं किया था जिन्होंने मृतकों से जी उठने के बाद उसे देखा था। उसने उनसे कहा, ""तुम सारे जगत में जाकर सारी सृष्टि के लोगों को सुसमाचार प्रचार करो। जो विश्वास करे और बपतिस्मा ले उसी का उद्धार होगा, परन्तु जो विश्वास नहीं करता वह दोषी ठहराया जाएगा। ये चिन्ह उन लोगों के साथ प्रगट होंगे जो विश्वास करते हैं: मेरे नाम पर वे दुष्टात्माओं को बाहर निकाल देंगे। वे नई भाषाओं में बात करेंगे। वे अपने हाथों से साँपों को उठा लेंगे, और यदि वे प्राणनाशक वस्तु भी पी जाएँ तो भी उनकी कुछ हानि न होगी। वे बीमारों पर हाथ रखेंगे, और वे चंगे हो जाएंगे।' उनसे बात करने के बाद प्रभु, स्वर्ग में उठा लिया गया और परमेश्वर के दाहिने हाथ बैठ गया। चेलों ने उस स्थान से निकल कर सब जगह प्रचार किया, जबकि प्रभु ने उनके साथ काम किया और उनके साथ जाने वाले चिन्हों के द्वारा वचन की पुष्टि की।"" (16:9-20)

(देखें: लेखों के भेद)

Mark 1

मरकुस 01 सामान्य टिप्पणियाँ

संरचना और संरूपण

कुछ अनुवाद काव्य साहित्य की प्रत्येक पंक्ति को शेष पाठ की तुलना में पृष्ठ पर दाईं ओर निर्धारित करते हैं ताकि पढ़ने में आसानी हो। यूएलटी काव्य साहित्य के साथ 1:2-3 में यही करता है, जो पुराने नियम के शब्द हैं।

इस अध्याय में पाई जाने वाली विशेष धारणाएँ

""तू मुझे शुद्ध कर सकता है""

कुष्ठ त्वचा का एक रोग था जो एक व्यक्ति को अशुद्ध और परमेश्वर की सही रीति से आराधना करने में असमर्थ बना देता था। यीशु लोगों को शारीरिक रूप से ""शुद्ध"" या चंगा बनाने के साथ-साथ आत्मिक रूप से ""शुद्ध"" या परमेश्वर के साथ सही बनाने में सक्षम हैं। (देखें: शुद्ध, शुद्ध करेगा, शुद्ध किया, शुद्ध करना, शुद्ध, शुद्ध होने, धुलाई, धुलाई, धोया, धोया)

""परमेश्वर का राज्य निकट है""

विद्वान विवाद करते हैं कि इस समय ""परमेश्वर का राज्य"" उपस्थित था या ऐसा कुछ है जो अभी भी आ रहा है। अंग्रेजी अनुवाद अक्सर ""निकट"" वाक्यांश का उपयोग करते हैं, परन्तु यह अनुवादकों के लिए कठिनाई उत्पन्न कर सकता है। अन्य संस्करण ""आ रहा है"" का उपयोग करते हैं और ""निकट आ गया है।

Mark 1:1

मरकुस की पुस्तक भविष्यद्वक्ता यशायाह के यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले के आने की भविष्यद्वाणी के साथ आरम्भ होती है, जो यीशु को बपतिस्मा देता है। मरकुस लेखक है, जिसे यूहन्ना मरकुस भी कहा जाता है, जो चार सुसमाचारों में वर्णित मरियम नाम की कई स्त्रियों में से एक का पुत्र है। वह बरनबास का भतीजा भी है।

Υἱοῦ Θεοῦ

यह यीशु के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

Mark 1:2

πρὸ προσώπου σου

यह एक मुहावरा है जिसका अर्थ है ""तुझ से आगे।"" (देखें: मुहावरे)

προσώπου σου…τὴν ὁδόν σου

यहाँ ""तेरे"" शब्द यीशु को सन्दर्भित करता है और एकवचन है। जब आप इसका अनुवाद करते हैं, तो सर्वनाम ""तेरे"" का प्रयोग करें क्योंकि यह एक भविष्यवक्ता से उद्धरण है, और उसने यीशु के नाम का उपयोग नहीं किया। (देखें: तुम के प्रारूप)

ὃς

यह सन्देशवाहक को प्रकट करता है।

κατασκευάσει τὴν ὁδόν σου

ऐसा करना प्रभु के आगमन के लिए लोगों की तैयारी का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तेरे आगमन के लिए लोगों को तैयार करेगा"" (देखें: रूपक)

Mark 1:3

φωνὴ βοῶντος ἐν τῇ ἐρήμῳ

इसे एक वाक्य के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जंगल में बुलाए जाने वाले की आवाज़ सुनी जाती है"" या ""वे जंगल में बुलाए जाने वाले किसी की आवाज़ सुनते हैं

ἑτοιμάσατε τὴν ὁδὸν Κυρίου, εὐθείας ποιεῖτε τὰς τρίβους αὐτοῦ

इन दो वाक्यांशों का अर्थ एक ही बात है। (देखें: समरूपता)

ἑτοιμάσατε τὴν ὁδὸν Κυρίου

प्रभु के लिए मार्ग तैयार करो। ऐसा करना प्रभु के आने पर उसके सन्देश को सुनने के लिए तैयार होने का प्रतिनिधित्व करता है। लोग अपने पापों से पश्चाताप करके ऐसा करते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर के आने पर उसके सन्देश को सुनने के लिए तैयार रहो"" या ""पश्चाताप करो और परमेश्वर के आने के लिए तैयार रहो"" (देखें: रूपक और अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 1:4

इन वचनों में ""वह,"" ""उसे,"" और ""उसका"" शब्द यूहन्ना के सन्दर्भ में हैं।

ἐγένετο Ἰωάννης

सुनिश्चित करें कि आपका पाठक समझता है कि पिछले वचन में यशायाह भविष्यवक्ता द्वारा बोले जाने वाला सन्देशवाहक यूहन्ना था।

Mark 1:5

πᾶσα ἡ Ἰουδαία χώρα καὶ οἱ Ἱεροσολυμεῖται πάντες

पूरे देश"" शब्द उस देश में रहने वाले लोगों के लिए एक रूपक हैं और एक सामान्यकरण है जो कि प्रत्येक व्यक्ति के लिए नहीं, अपितु बड़ी सँख्या में लोगों को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यहूदिया और यरूशलेम के बहुत से लोग"" (देखें: रूपक और अतिशयोक्ति)

ἐβαπτίζοντο ὑπ’ αὐτοῦ ἐν τῷ Ἰορδάνῃ ποταμῷ, ἐξομολογούμενοι τὰς ἁμαρτίας αὐτῶν

उन्होंने एक ही समय में यह सब किया। लोगों ने बपतिस्मा लिया क्योंकि उन्होंने अपने पापों से पश्चाताप किया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब उन्होंने अपने पापों से पश्चाताप किया, तो यूहन्ना ने उन्हें यरदन नदी में बपतिस्मा दिया"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 1:7

ἐκήρυσσεν

यूहन्ना ने घोषणा की

οὗ οὐκ εἰμὶ ἱκανὸς, κύψας λῦσαι τὸν ἱμάντα τῶν ὑποδημάτων αὐτοῦ

यूहन्ना स्वयं को एक दास से तुलना यह दिखाने के लिए कर रहा है कि यीशु कितना महान है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं उसके जूते उतारने जैसा निम्न स्तर का काम करने के योग्य भी नहीं हूँ"" (देखें: रूपक)

τὸν ἱμάντα τῶν ὑποδημάτων αὐτοῦ

जब यीशु पृथ्वी पर था, तब लोग अक्सर चमड़े की बनी हुई जूतियाँ पहनते थे और चमड़े के पट्टियों से अपने पैरों को बाँधते थे।

κύψας

झुक कर

Mark 1:8

αὐτὸς δὲ βαπτίσει ὑμᾶς ἐν Πνεύματι Ἁγίῳ

यह रूपक यूहन्ना के पानी से बपतिस्मा की तुलना भविष्य के पवित्र आत्मा से बपतिस्मा से करता है। इसका अर्थ है कि यूहन्ना का बपतिस्मा लोगों को केवल प्रतीकात्मक रूप से उनके पापों से शुद्ध करता है। पवित्र आत्मा का बपतिस्मा वास्तव में लोगों को उनके पापों से शुद्ध करेगा। यदि सम्भव हो, तो यहाँ ""बपतिस्मा"" के लिए एक ही शब्द का उपयोग करें जैसा कि आपने दोनों के मध्य तुलना रखने के लिए यूहन्ना के बपतिस्मा के लिए उपयोग किया था। (देखें: रूपक)

Mark 1:9

ἐγένετο ἐν ἐκείναις ταῖς ἡμέραις

यह कहानी में एक नई घटना के आरम्भ को चिन्हित करता है। (देखें: नर्इ घटनाओं का परिचय)

ἐβαπτίσθη…ὑπὸ Ἰωάννου

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यूहन्ना ने उसे बपतिस्मा दिया"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 1:10

τὸ Πνεῦμα ὡς περιστερὰν καταβαῖνον ἐπ’ αὐτόν

सम्भावित अर्थ हैं 1) यह एक उपमा है, और आत्मा यीशु पर ऐसे उतरा जैसे एक पक्षी आकाश से पृथ्वी पर उतरता है या 2) आत्मा सचमुच में कबूतर की तरह दिखाई दिया जब वह यीशु पर उतरा था। (देखें: उपमा)

Mark 1:11

φωνὴ ἐγένετο ἐκ τῶν οὐρανῶν

यह परमेश्वर बोलने का प्रतिनिधित्व करता है। कभी-कभी लोग सीधे परमेश्वर को प्रकट करने से बचते हैं क्योंकि वे उसका सम्मान करते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर ने स्वर्ग से बात की"" (देखें: लक्षणालंकार और शिष्टोक्ति)

ὁ Υἱός…ὁ ἀγαπητός

यह यीशु के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। पिता उसके लिए अपने अनन्त प्रेम के कारण यीशु को अपना ""प्रिय पुत्र"" कहते हैं। (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

Mark 1:12

बपतिस्मा के बाद, यीशु 40 दिनों तक जंगल में है और फिर अपने चेलों को सिखाने और बुलाए जाने के लिए गलील को जाता है।

αὐτὸν ἐκβάλλει

यीशु को निकल जाने के लिए मजबूर किया

Mark 1:13

ἦν ἐν τῇ ἐρήμῳ

वह जंगल में रहा

τεσσεράκοντα ἡμέρας

40 दिन (देखें: संख्याएँ)

ἦν μετὰ

वह मध्य में था

Mark 1:14

μετὰ…τὸ παραδοθῆναι τὸν Ἰωάννην

यूहन्ना को जेल में डाल दिए जाने के बाद। इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उनके यूहन्ना को गिरफ्तार किए जाने के बाद"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

κηρύσσων τὸ εὐαγγέλιον

शुभ सन्देश के बारे में कई लोगों को बता रहा है

Mark 1:15

πεπλήρωται ὁ καιρὸς

अब समय है

ἤγγικεν ἡ Βασιλεία τοῦ Θεοῦ

यह परमेश्वर का अपने लोगों पर शासन करना आरम्भ करने का समय आ पहुँचा है

Mark 1:16

εἶδεν Σίμωνα καὶ Ἀνδρέαν

यीशु ने शमौन और अन्द्रियास को देखा

ἀμφιβάλλοντας ἐν τῇ θαλάσσῃ

इस कथन का पूर्ण अर्थ स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मछली पकड़ने के लिए पानी में जाल फेंकना"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 1:17

δεῦτε ὀπίσω μου

मेरे पीछे आओ या ""मेरे साथ आओ

ποιήσω ὑμᾶς γενέσθαι ἁλιεῖς ἀνθρώπων

इस रूपक का अर्थ है कि शमौन और अन्द्रियास लोगों को परमेश्वर का सच्चे सन्देश सिखाएँगे, ताकि अन्य लोग भी यीशु का अनुसरण करेंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""जैसे तुम मछली इकट्ठा करते हो, वैसे ही मैं तुमको मेरे लिए लोगों को इकट्ठा करना सिखाऊँगा"" (देखें: रूपक)

Mark 1:19

ἐν τῷ πλοίῳ

यह माना जा सकता है कि यह नाव याकूब और यूहन्ना से सम्बन्धित थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""उनकी नाव में"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

καταρτίζοντας τὰ δίκτυα

जाल की मरम्मत

Mark 1:20

ἐκάλεσεν αὐτούς

यह स्पष्ट रूप से बताने में सहायक हो सकता है कि यीशु ने याकूब और यूहन्ना को क्यों बुलाया। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्हें उनके साथ आने के लिए बुलाया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

τῶν μισθωτῶν

दास जो उनके लिए काम करते थे

ἀπῆλθον ὀπίσω αὐτοῦ

याकूब और यूहन्ना यीशु के साथ हो लिए।

Mark 1:21

यीशु सब्त के दिन कफरनहूम शहर के यहूदी अराधनालय में सिखाता है। एक व्यक्ति से दुष्टात्मा निकाल कर वह गलील के आस-पास के सभी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को चकित कर देता है।

εἰσπορεύονται εἰς Καφαρναούμ

कफरनहूम पहुँचे

Mark 1:22

ἦν γὰρ διδάσκων αὐτοὺς ὡς ἐξουσίαν ἔχων, καὶ οὐχ ὡς οἱ γραμματεῖς

शिक्षा देने वाले"" और ""शास्त्री"" के बारे में बात करते समय ""सिखाने"" का विचार स्पष्ट रूप से व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि वह उन्हें किसी ऐसे व्यक्ति के समान सिखा रहा था जिसके पास सिखाने का अधिकार है और वैसे नहीं, जैसे शास्त्री सिखाते थे"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 1:24

τί ἡμῖν καὶ σοί, Ἰησοῦ Ναζαρηνέ?

दुष्टात्माओं ने इस अलंकारिक प्रश्न को पूछा जिसका अर्थ था कि यीशु के पास उनके साथ हस्तक्षेप करने का कोई कारण नहीं है और इसलिए वे चाहते हैं कि वह उनके पास से चला जाए। वैकल्पिक अनुवाद: ""हे नासरत के यीशु, हमें अकेला छोड़ दो! हमारे साथ हस्तक्षेप करने का तेरे पास कोई कारण नहीं है।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἦλθες ἀπολέσαι ἡμᾶς

दुष्टात्माओं ने यीशु से उनको कष्ट न पहुँचाने का आग्रह करने के लिए इस अलंकारिक प्रश्न को पूछा। वैकल्पिक अनुवाद: ""हमें नष्ट मत करो!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 1:26

σπαράξαν αὐτὸν

यहाँ ""उसे"" शब्द दुष्टात्माओं से ग्रस्त मनुष्य को प्रकट करता है।

φωνῆσαν φωνῇ μεγάλῃ

जो चिल्ला रहा है वह दुष्टात्मा है, व्यक्ति नहीं।

Mark 1:27

συνζητεῖν πρὸς αὐτοὺς λέγοντας, τί ἐστιν τοῦτο? διδαχὴ καινή κατ’ ἐξουσίαν!…ὑπακούουσιν αὐτῷ!

लोगों ने यह दर्शाने के लिए दो प्रश्नों का उपयोग किया कि वे कितने आश्चर्यचकित थे। ये प्रश्न विस्मयकारी रूप में व्यक्त किया जा सकते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने एक-दूसरे से कहा, 'यह आश्चर्यजनक है! वह एक नए प्रकार की शिक्षा देता है, और वह अधिकार के साथ बोलता है! ... और वे उसका पालन करते हैं!'"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἐπιτάσσει

वह"" शब्द यीशु को सन्दर्भित करता है।

Mark 1:29

दुष्टात्माओं से ग्रस्त व्यक्ति को चंगा करने के बाद, यीशु ने शमौन की सास और कई अन्य लोगों को चंगा किया।

Mark 1:30

ἡ δὲ πενθερὰ Σίμωνος κατέκειτο πυρέσσουσα

अब"" शब्द कहानी में शमौन की सास को प्रस्तुत करता है और उसके बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी देता है। (देखें: नए एवं पुराने सहभागियों का परिचय और पृष्ठभूमि की जानकारी)

Mark 1:31

ἤγειρεν αὐτὴν

उसे खड़ा कर दिया या ""बिस्तर से बाहर निकलने में सक्षम बना दिया

ἀφῆκεν αὐτὴν ὁ πυρετός

आप स्पष्ट करना चाह सकते हैं कि उसे किसने चंगा किया। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु ने बुखार से उसे चंगा किया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

διηκόνει αὐτοῖς

आप स्पष्ट करना चाह सकते हैं कि उसने भोजन परोसा। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने उन्हें भोजन और पेय प्रदान किए"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 1:32

यहाँ ""वह"" शब्द यीशु को सन्दर्भित करता है।

πάντας τοὺς κακῶς ἔχοντας καὶ τοὺς δαιμονιζομένους

सब"" शब्द बड़ी सँख्या में आए हुए लोगों पर जोर देने के लिए बढ़ा चढ़ा कर बोला गया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बहुत से लोग जो बीमार थे या दुष्टात्माओं से ग्रसित थे"" (देखें: अतिशयोक्ति)

Mark 1:33

ἦν ὅλη ἡ πόλις ἐπισυνηγμένη πρὸς τὴν θύραν

नगर"" शब्द नगर में रहने वाले लोगों के लिए एक उपनाम है। यहाँ ""सारा"" शब्द कदाचित् इस बात पर जोर देने के लिए एक सामान्यकरण है कि शहर के अधिकांश लोग एकत्र हुए। वैकल्पिक अनुवाद: ""उस शहर के बहुत से लोग दरवाजे के बाहर इकट्ठे हुए"" (देखें: लक्षणालंकार और अतिशयोक्ति)

Mark 1:35

यहाँ ""वह"" और ""उसे"" शब्द यीशु का सन्दर्भ देते हैं।

यीशु लोगों को चंगा करने के समय के मध्य में प्रार्थना करने के लिए स्वयं निकल जाते थे। फिर वह पूरे गलील के नगरों में प्रचार करने, चंगा करने और दुष्टात्माओं को बाहर निकालने के लिए जाता है।

ἔρημον τόπον

एक स्थान जहाँ वह अकेला हो सकता है

Mark 1:36

Σίμων καὶ οἱ μετ’ αὐτοῦ

यहाँ ""उसे"" शमौन संदर्भ में है। इसके अतिरिक्त, उसके साथ उन लोगों में अन्द्रियास, याकूब, यूहन्ना और सम्भवतः अन्य लोग सम्मिलित थे।

Mark 1:37

πάντες ζητοῦσίν σε

सब"" शब्द यीशु को ढूँढ़ रहे बहुत से लोगों पर जोर देने के लिए बढ़ा चढ़ा कर बोला गया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बहुत से लोग तेरी खोज में हैं"" (देखें: अतिशयोक्ति)

Mark 1:38

यहाँ ""वह"" और ""मैं"" शब्द यीशु का उल्लेख करते हैं।

ἄγωμεν ἀλλαχοῦ

हमें किसी अन्य स्थान पर जाना होगा। यहाँ यीशु शमौन, अन्द्रियास, याकूब और यूहन्ना के साथ स्वयं को प्रकट करने के लिए ""हम"" शब्द का उपयोग करता है।

Mark 1:39

ἦλθεν…εἰς ὅλην τὴν Γαλιλαίαν

सारे"" शब्द इस बात पर ज़ोर देने के लिए बढ़ा चढ़ा कर बोला गया है कि यीशु अपनी सेवा के दौरान कई स्थानों पर गया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह गलील में कई स्थानों पर गया"" (देखें: अतिशयोक्ति)

Mark 1:40

ἔρχεται πρὸς αὐτὸν λεπρὸς, παρακαλῶν αὐτὸν καὶ γονυπετῶν λέγων αὐτῷ

एक कुष्ठ रोगी यीशु के पास आया था। उसने घुटने टेके और यीशु से विनती की और कहा

ἐὰν θέλῃς, δύνασαί με καθαρίσαι

पहले वाक्यांश में, ""मुझे शुद्ध कर सकता है"" शब्द को दूसरे वाक्यांश के कारण समझा गया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि तू मुझे शुद्ध करने के लिए इच्छुक है, तो तू मुझे शुद्ध कर सकता है"" (देखें: पदन्यूनता)

θέλῃς

चाहता है या ""इच्छा करता है

δύνασαί με καθαρίσαι

बाइबल के समय में, एक व्यक्ति जिसे किसी प्रकार की त्वचा की कुछ बीमारी थी वह तब तक अशुद्ध माना जाता था जब तक कि उसकी त्वचा पर्याप्त मात्रा में इतनी चंगी नहीं हो जाती थी कि वह अब और अधिक संक्रामक नहीं रहती थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""तू मुझे चंगा कर सकता है"" (देखें: रूपक)

Mark 1:41

σπλαγχνισθεὶς

यहाँ शब्द ""तरस"" एक मुहावरा है जिसका अर्थ किसी अन्य की आवश्यकता के बारे में मनोभाव महसूस करना है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसके लिए तरस से भर कर, यीशु ने"" या ""यीशु ने उस व्यक्ति के लिए तरस को महसूस किया, इसलिए उसने"" (देखें: मुहावरे)

θέλω

यह बताना सहायक हो सकता है कि यीशु क्या करने के इच्छुक हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं तुझे शुद्ध करने का इच्छुक हूँ"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 1:43

यहाँ उपयोग किया गया ""उसे"" शब्द उस कुष्ठ रोगी के संदर्भ में है जिसे यीशु ने चंगा किया था।

Mark 1:44

ὅρα μηδενὶ, μηδὲν εἴπῃς

निश्चित हो कि किसी से कुछ भी न कहना

σεαυτὸν δεῖξον τῷ ἱερεῖ

यीशु ने उस व्यक्ति से अपने आप को याजक को दिखाने के लिए कहा ताकि याजक उसकी त्वचा को देख सके कि उसका कुष्ठ रोग वास्तव में चला गया है। मूसा की व्यवस्था में लोगों को याजक के सामने स्वयं को उपस्थित करने की आवश्यकता होती थी, यदि वे अशुद्ध रहे थे परन्तु अब अशुद्ध नहीं थे। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

σεαυτὸν δεῖξον

यहाँ ""स्वयं"" शब्द कुष्ठरोग की त्वचा का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अपनी त्वचा दिखाओ"" (देखें: उपलक्षण अलंकार)

μαρτύριον αὐτοῖς

यदि सम्भव हो तो आपकी भाषा में ""उन्हें"" सर्वनाम का उपयोग करना सबसे अच्छा है। सम्भावित अर्थ हैं 1) ""याजकों के लिए एक गवाही"" या 2) ""लोगों के लिए एक गवाही।

Mark 1:45

ὁ δὲ ἐξελθὼν

वह"" शब्द यीशु द्वारा चंगा किए गए व्यक्ति के संदर्भ में है।

ἤρξατο…διαφημίζειν τὸν λόγον

क्या हुआ था इसके बारे में कई स्थानों पर लोगों को बताने के लिए यहाँ ""चारों ओर समाचार फैलाया"" एक रूपक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु ने जो किया था उसके बारे में कई स्थानों पर लोगों को बताना आरम्भ किया"" (देखें: और रूपक)

ὥστε

उस व्यक्ति ने इतना अधिक समाचार फैलाया कि

ὥστε μηκέτι αὐτὸν δύνασθαι φανερῶς εἰς πόλιν εἰσελθεῖν

यह उस व्यक्ति के इस समाचार को इतना अधिक फैलाने का परिणाम था। यहाँ ""खुल्लमखुल्ला"" ""सार्वजनिक रूप से"" के लिए एक रूपक है। यीशु नगरों में प्रवेश नहीं कर सका क्योंकि बहुत से लोग उसके चारों ओर भीड़ कर देंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""कि यीशु अब सार्वजनिक रूप से एक शहर में प्रवेश नहीं कर सकता"" या ""यीशु अब इस तरह से नगरों में प्रवेश नहीं कर सकता था कि बहुत से लोग उसे देख पाएँ"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἐρήμοις τόποις

एकांत स्थान या ""वे स्थान जहाँ कोई भी नहीं रहता

πάντοθεν

चारों ओर"" एक बढ़ा चढ़ा कर बोला गया शब्द है जो इस बात पर ज़ोर देता है कि कितने स्थानों से लोग आए थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""पूरे क्षेत्र से"" (देखें: अतिशयोक्ति)

Mark 2

मरकुस 02 सामान्य टिप्पणियाँ

इस अध्याय में विशेष धारणाएँ

""पापियों""

जब यीशु के समय के लोगों ने ""पापियों"" की बात की, तो वे उन लोगों के बारे में बात कर रहे थे जिन्होंने मूसा की व्यवस्था का पालन नहीं किया और इसकी अपेक्षा चोरी या यौन पापों जैसे पाप किए। जब यीशु ने कहा कि वह ""पापियों"" को बुलाने आया था, तो उसका अर्थ था कि केवल वे लोग ही जो विश्वास करते हैं कि वे पापी हैं, उसके अनुयायी हो सकते हैं। यह सच है भले ही अधिकांश लोग वैसे नहीं होते हैं जैसे कि लोग उन्हें ""पापी"" के रूप में सोचते हैं। (देखें: पाप, पापो, पाप करना, पापमय, पापी, पाप करते रहना)

उपवास और दावत

लोगों उपवास करेंगे, या लम्बे समय तक भोजन नहीं खाएँगे, जब वे उदास होते थे या परमेश्वर को दिखा रहे होते थे कि वे अपने पापों के लिए खेदित थे। जब वे विवाह जैसे समयों पर प्रसन्न होते थे, तो वे दावत का आयोजन किया करते थे, या ऐसा खाना करते थे जहाँ वे अधिक भोजन खाते थे। (देखें: उपवास, उपवास करना)

इस अध्याय में बोले जाने वाले महत्वपूर्ण आँकड़े

अलंकारिक प्रश्न

यहूदी अगुवों ने यह दिखाने के लिए अलंकारिक प्रश्नों का उपयोग किया कि यीशु ने जो कहा और किया है उसके कारण वे क्रोधित थे और उन्होंने विश्वास नहीं किया कि वह परमेश्वर का पुत्र था ([मरकुस 2:7](../../mrk/02/07.md)). यीशु ने यहूदी अगुवों को यह दिखाने के लिए उनका उपयोग किया कि वे घमण्डी थे (मरकुस 2:25-26)। (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 2:1

पूरे गलील में प्रचार करने और लोगों को चंगा करने के बाद, यीशु कफरनहूम लौट आया जहाँ वह एक लकवे के मारे व्यक्ति को चंगा करता है और उसके पाप क्षमा करता है।

ἠκούσθη ὅτι ἐν οἴκῳ ἐστίν

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वहाँ के लोगों ने सुना कि वह अपने घर में ठहरा हुआ था"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 2:2

καὶ συνήχθησαν πολλοὶ

वहाँ"" शब्द उस घर को प्रकट करता है जिसमें यीशु कफरनहूम में ठहरा हुआ था। वैकल्पिक अनुवाद: ""बहुत से लोग वहाँ इकट्ठे हुए"" या ""बहुत से लोग घर में आए"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

μηκέτι χωρεῖν, μηδὲ τὰ

यह घर के भीतर कोई स्थान नहीं होने को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसके भीतर उनके लिए और स्थान नहीं था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἐλάλει αὐτοῖς τὸν λόγον

यीशु ने उन्हें अपना सन्देश सुनाया

Mark 2:3

αἰρόμενον ὑπὸ τεσσάρων

उनमें से चार उसे उठाए हुए थे। ऐसा प्रतीत होता है कि उस समूह में चार से अधिक लोग थे जो उस व्यक्ति को यीशु के पास लेकर आए थे।

φέροντες…παραλυτικὸν

एक ऐसे व्यक्ति को ला रहे थे जो चलने या अपनी बाँहों का उपयोग करने में असमर्थ था

Mark 2:4

μὴ δυνάμενοι προσενέγκαι αὐτῷ

निकट नहीं जा सके जहाँ यीशु था

ἀπεστέγασαν τὴν στέγην…χαλῶσι

यीशु जिन घरों में रहते थे, उनकी समतल छतें मिट्टी से बनी थीं और वे खपरैलों से ढकी हुई थीं। छत में छेद बनाने की प्रक्रिया को और अधिक स्पष्ट रूप से समझाया जा सकता है या अधिक सामान्य बनाया जा सकता है ताकि इसे आपकी भाषा में समझा जा सके। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने ऊपरी छत के उस हिस्से से खपरैलें हटा दीं जहाँ यीशु था। और जब उन्होंने मिट्टी की छत को खोद दिया, तो उन्होंने नीचे उतारा"" या ""उन्होंने ऊपर छत में एक छेद बनाया जहाँ यीशु था, और फिर उन्होंने नीचे उतारा

Mark 2:5

ἰδὼν…τὴν πίστιν αὐτῶν

लोगों के विश्वास को देखकर। सम्भावित अर्थ हैं 1) कि केवल उन लोगों को ही विश्वास था जो लकवाग्रस्त व्यक्ति को उठाए हुए थे, या 2) कि लकवाग्रस्त व्यक्ति को और उन लोगों को जो उसे यीशु के पास लाए थे, सभी को विश्वास था। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

τέκνον

यहाँ ""पुत्र"" शब्द दिखाता है कि यीशु ने उस व्यक्ति की चिन्ता ऐसे की जैसे एक पुत्र की चिन्ता एक पिता करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मेरे पुत्र"" (देखें: रूपक)

ἀφέωνται σου αἱ ἁμαρτίαι

यदि सम्भव हो तो इस तरह से इसका अनुवाद करें कि यीशु स्पष्ट रूप से यह नहीं कहता कि उस व्यक्ति के पापों को कौन क्षमा करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तेरे पाप चले गए हैं"" या ""तुझे अपने पापों के लिए दाम नहीं चुकाना है"" या ""तेरे पाप तेरे विरूद्ध नहीं गिने जाते हैं

Mark 2:6

διαλογιζόμενοι ἐν ταῖς καρδίαις αὐτῶν

यहाँ ""उनके मन"" लोगों के विचारों के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""स्वयं ही सोच रहे थे"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 2:7

τί οὗτος οὕτως λαλεῖ?

शास्त्रियों ने इस प्रश्न का उपयोग अपने क्रोध को दिखाने के लिए किया था कि यीशु ने कहा था ""तेरे पाप क्षमा हुए।"" वैकल्पिक अनुवाद: ""इस व्यक्ति को इस तरह से बात नहीं करनी चाहिए!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

τίς δύναται ἀφιέναι ἁμαρτίας, εἰ μὴ εἷς ὁ Θεός

शास्त्रियों ने इस प्रश्न का उपयोग यह कहने के लिए किया था क्योंकि केवल परमेश्वर ही पाप क्षमा कर सकते हैं, इसलिए यीशु को यह नहीं कहना चाहिए कि ""तेरे पाप क्षमा हुए।"" वैकल्पिक अनुवाद: ""केवल परमेश्वर ही पाप क्षमा कर सकते हैं!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 2:8

τῷ πνεύματι αὐτοῦ

अपने अन्तर्मन में या ""स्वयं में

διαλογίζονται ἐν ἑαυτοῖς

प्रत्येक शास्त्री स्वयं ही सोच रहा था; वे एक-दूसरे से बात नहीं कर रहे थे।

τί ταῦτα διαλογίζεσθε ἐν ταῖς καρδίαις ὑμῶν

यीशु शास्त्रियों को यह बताने के लिए इस प्रश्न का उपयोग करता है कि वे जो सोच रहे हैं वह गलत है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम जो सोच रहे हो वह गलत है।"" या ""ऐसा मत सोचो कि मैं निन्दा कर रहा हूँ।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ταῦτα…ἐν ταῖς καρδίαις ὑμῶν

मन"" शब्द उनके आन्तरिक विचारों और इच्छाओं के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह तेरे भीतर"" या ""ये बातें"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 2:9

τί ἐστιν εὐκοπώτερον, εἰπεῖν τῷ παραλυτικῷ…ἆρον τὸν κράβαττόν σου καὶ περιπάτει?

यीशु इस प्रश्न का इसलिए उपयोग करता है कि शास्त्री इस बारे में सोचें कि कौन सी बात यह प्रमाणित कर सकती है कि वह वास्तव में पापों को क्षमा कर सकता है या नहीं। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैंने केवल लकवाग्रस्त व्यक्ति से कहा, 'तेरे पाप क्षमा हुए हैं।' आप सोच सकते हैं कि यह कहना कठिन है कि 'उठो, अपना बिस्तर उठाओ, और चलो,' क्योंकि यह प्रमाण कि मैं उसे चंगा कर सकता हूँ या नहीं, इस बात में दिखाया जाएगा कि वह उठता है और चलता है या नहीं।"" या ""तुम ऐसा सोच सकते हो कि लकवाग्रस्त व्यक्ति को यह कहना कि 'उठो, अपना बिस्तर उठाओ और चलो'"" यह कहने से आसान है कि ""तेरे पाप क्षमा हुए""। (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 2:10

ἵνα δὲ εἰδῆτε

परन्तु इसलिए कि तुम जान सको। ""तुम"" शब्द शास्त्रियों और भीड़ को दर्शाता है।

ὅτι ἐξουσίαν ἔχει ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου

यीशु स्वयं को ""मनुष्य का पुत्र"" के रूप में प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कि मैं मनुष्य का पुत्र हूँ और मेरे पास अधिकार है"" (देखें: प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरुष)

Mark 2:12

ἔμπροσθεν πάντων

जब सभी लोग देख रहे थे

Mark 2:13

यीशु गलील की झील के किनारे में भीड़ को उपदेश दे रहा है, और वह लेवी को उसका अनुसरण करने के लिए बुलाता है।

τὴν θάλασσαν

यह गलील की झील है, जिसे गन्नेसरत की झील के रूप में भी जाना जाता है।

ὁ ὄχλος ἤρχετο πρὸς αὐτόν

लोग वहाँ गए जहाँ वह था

Mark 2:14

Λευεὶν τὸν τοῦ Ἁλφαίου

हलफई लेवी का पिता था। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 2:15

अब यह दिन का अन्त है, और यीशु भोजन के लिए लेवी के घर पर है।

τῇ οἰκίᾳ αὐτοῦ

लेवी का घर

ἁμαρτωλοὶ

जिन लोगों ने मूसा की व्यवस्था का पालन नहीं किया था, परन्तु वह किया था जिसके लिए अन्य सोचते थे कि वे बहुत बुरे पाप थे

ἦσαν γὰρ πολλοὶ, καὶ ἠκολούθουν αὐτῷ

सम्भावित अर्थ हैं 1) ""क्योंकि वहाँ कई चुंगी लेने वाले और पापी लोग थे जो यीशु के पीछे हो लिए थे"" या 2) ""यीशु के कई चेले थे और वे उसके पीछे हो लिए थे।

Mark 2:16

μετὰ τῶν τελωνῶν καὶ ἁμαρτωλῶν ἐσθίει?

शास्त्रियों और फरीसियों ने इस प्रश्न को यह दिखाने के लिए पूछा कि उन्होंने यीशु के अतिथि सत्कार को अस्वीकार कर दिया है। इसे एक कथन के रूप में बताया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसे पापियों और चुंगी लेने वालों के साथ नहीं खाना चाहिए!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 2:17

यीशु उस बात का उत्तर देते हैं जो शास्त्रियों ने उसके चेलों से उसके चुंगी लेने वालों और पापियों के साथ भोजन करने के बारे में कही थी।

λέγει αὐτοῖς

उसने शास्त्रियों से कहा

οὐ χρείαν ἔχουσιν οἱ ἰσχύοντες ἰατροῦ, ἀλλ’ οἱ κακῶς ἔχοντες

यीशु ने उनको सिखाने के लिए बीमार लोगों और चिकित्सकों के बारे में इस कहावत का उपयोग किया कि केवल उन लोगों को ही जो जानते हैं कि वे पापी हैं यीशु की आवश्यकता है। (देखें: लोकोक्तियाँ)

ἰσχύοντες

स्वस्थ्य

οὐκ ἦλθον καλέσαι δικαίους, ἀλλὰ ἁμαρτωλούς

यीशु उसके सुनने वालों से यह समझने की अपेक्षा करता है कि वह उन लोगों के लिए आया है जो सहायता चाहते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं उन लोगों के लिए आया जो समझते हैं कि वे पापी हैं, न कि उन लोगों के लिए जो विश्वास करते हैं कि वे धर्मी हैं"" (देखें: व्यंग्यात्मक)

ἀλλὰ ἁμαρτωλούς

यह शब्द ""मैं बुलाने के लिए आया"" इससे पहले वाले वाक्यांश से समझे गए हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु मैं पापियों को बुलाने के लिए आया हूँ"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 2:18

यीशु यह दर्शाने के लिए दृष्टान्तों को कहता है कि उसके चेलों को उपवास क्यों नहीं करना चाहिए जिस समय वह उनके साथ है। (देखें: दृष्टांत)

οἱ Φαρισαῖοι νηστεύοντες…οἱ μαθηταὶ τῶν Φαρισαίων

ये दो वाक्यांश लोगों के उसी समूह को सन्दर्भित करते हैं, परन्तु दूसरा अधिक विस्तारित है। दोनों फरीसी पंथ के अनुयायियों का उल्लेख करते हैं, परन्तु वे फरीसियों के अगुवों पर ध्यान केन्द्रित नहीं करते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""फरीसियों के चेले उपवास कर रहे थे ... फरीसियों के चेले

ἔρχονται

कुछ लोग। इस वाक्यांश का विशेष रूप से यह बिना बताए अनुवाद करना कि ये लोग कौन हैं सबसे अच्छा है। यदि आपकी भाषा में आप और अधिक विस्तारित होना चाहते हैं, तो सम्भव अर्थ हैं 1) ये लोग यूहन्ना के चेलों या फरीसियों के चेलों में से नहीं थे या 2) ये लोग यूहन्ना के चेलों में से थे।

ἔρχονται καὶ λέγουσιν αὐτῷ

आया और यीशु से कहा

Mark 2:19

μὴ δύνανται οἱ υἱοὶ τοῦ νυμφῶνος ἐν ᾧ ὁ νυμφίος μετ’ αὐτῶν ἐστιν νηστεύειν?

यीशु इस प्रश्न का उपयोग उन लोगों को कुछ ऐसा याद दिलाने के लिए करता है जिसे वे पहले से जानते हैं और उसे उस पर और उसके चेलों पर लागू करने के लिए करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बाराती तब उपवास नहीं करते हैं जब दूल्हा उनके साथ होता है। इसके अपेक्षा वे उत्सव मनाते हैं और दावत करते हैं। ""(देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 2:20

ἀπαρθῇ…ὁ νυμφίος

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""दूल्हा दूर चला जाएगा"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

ἀπαρθῇ ἀπ’ αὐτῶν…νηστεύσουσιν

उनसे"" और ""वे"" शब्द विवाह में बारातियों का उल्लेख करते हैं।

Mark 2:21

οὐδεὶς ἐπίβλημα ῥάκους ἀγνάφου ἐπιράπτει ἐπὶ ἱμάτιον παλαιόν

पुराने वस्त्र पर एक नए कपड़े का पैबंद की सिलाई करने से वह पुराने वस्त्र में छेद करके खराब कर देगा यदि नए कपड़े का पैबंद अभी तक सिकुड़ा नहीं है। नए कपड़े और पुराने कपड़े दोनों नष्ट हो जाएंगे। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 2:22

यीशु एक और दृष्टान्त बताना आरम्भ कर देता है। यह नई मशक की अपेक्षा पुरानी मशक में नया दाखरस डालने के बारे में है। (देखें: दृष्टांत)

οἶνον νέον

अंगूर का रस। यह दाखरस को दर्शाता है जिसे अभी तक किण्वित नहीं किया गया है। यदि आपके क्षेत्र में अंगूर नहीं जाना जाता है, तो फलों के रस के लिए सामान्य शब्द का प्रयोग करें।

ἀσκοὺς παλαιούς

यह उन मशकों के लिए कहा जा रहा है जिन्हें कई बार उपयोग किया गया है।

ἀσκοὺς

ये जानवरों की खाल से बने हुए थैले थे। उन्हें ""दारखस की मशकें"" या ""चमड़े के थैले"" भी कहा जा सकता है।

ῥήξει ὁ οἶνος τοὺς ἀσκούς

नई दाखरस फैलती है क्योंकि यह किण्वित होती है, इसलिए यह पुरानी, भुरभुरी मशकों को फाड़ देगी।

ἀπόλλυται

नष्ट हो जाएगी

ἀσκοὺς καινούς

नई मशकें या ""दाखरस के नए थैले""। यह उन मशकों को दर्शाता है जिनका कभी उपयोग नहीं किया गया है।

Mark 2:23

यीशु यह दिखाने के लिए फरीसियों को पवित्रशास्त्र में से एक उदाहरण देता है कि क्यों सब्त के दिन बालें तोड़ने में चेले गलत नहीं थे।

τίλλοντες τοὺς στάχυας

दूसरों के खेतों में लगी बालें तोड़ लेना और इसे खाना चोरी नहीं माना जाता था। प्रश्न यह था कि क्या सब्त के दिन ऐसा करना उचित था। चेलों ने बालों के सिरों के उनमें से दानों को, या बीजों को खाने के लिए तोड़ा था। पूर्ण अर्थ दिखाने के लिए इसे बताया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""गेहूँ की बालों के सिरों को लो और बीजों को खा लो"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

τοὺς στάχυας

गेहूँ के पौधे का सबसे ऊपर वाला हिस्सा ""सिर"" है, जो कि एक प्रकार की लम्बी घास है। सिर पौधे के परिपक्व अनाज या बीज को सम्भालते हैं।

Mark 2:24

फरीसी इस बारे में एक प्रश्न पूछते हैं कि चेले क्या कर रहे थे (पद 23)।

ποιοῦσιν τοῖς Σάββασιν ὃ οὐκ ἔξεστιν

दूसरों के खेतों में से बालियाँ तोड़ना और उन्हें खाना (पद 23) चोरी नहीं माना जाता था। प्रश्न यह था कि क्या सब्त के दिन ऐसा करना उचित था।

ἴδε, τί ποιοῦσιν τοῖς Σάββασιν ὃ οὐκ ἔξεστιν?

फरीसियों ने यीशु की निन्दा करने के लिए उससे एक प्रश्न पूछा। इसे एक कथन के रूप में अनुवादित किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""देखो! वे सब्त के विषय में यहूदी व्यवस्था को तोड़ रहे हैं। ""(देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἴδε

इसे देखो या ""सुनो।"" यह एक शब्द है जो किसी को कुछ दिखाने के लिए उसका ध्यान आकर्षित करने के लिए उपयोग किया जाता है। यदि आपकी भाषा में कोई शब्द है जिसका प्रयोग एक व्यक्ति का किसी बात पर ध्यान आकर्षित करने के लिए किया जाता है, तो आप उसका उपयोग यहाँ कर सकते हैं।

Mark 2:25

यीशु फरीसियों से एक प्रश्न पूछकर उनको डाँटना आरम्भ करते हैं।

λέγει αὐτοῖς

यीशु ने फरीसियों से कहा

οὐδέποτε ἀνέγνωτε τί ἐποίησεν Δαυεὶδ…οἱ μετ’ αὐτοῦ?

दाऊद ने सब्त के दिन जो किया था वह शास्त्रियों और फरीसियों को स्मरण दिलाने के यीशु इस प्रश्न को पूछता है। प्रश्न बहुत लम्बा है, इसलिए इसे दो वाक्यों में विभाजित किया जा सकता है। (देखें: भाषणगत प्रश्न)

οὐδέποτε ἀνέγνωτε τί ἐποίησεν Δαυεὶδ…αὐτὸς

इसे एक आदेश के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""याद करो कि दाऊद ने जो किया उसके बारे में तुमने क्या पढ़ा है... उसने।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἀνέγνωτε τί…Δαυεὶδ

यीशु पुराने नियम में दाऊद के बारे में लिखी बात को प्रकट करता है। इसका अनुवाद अंतर्निहित जानकारी को दिखाने के लिए किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""पवित्रशास्त्र में पढ़ो कि दाऊद ने क्या"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 2:26

यीशु पद 25 में आरम्भ किए गए प्रश्न पूछे जाने को समाप्त करता है।

πῶς εἰσῆλθεν εἰς τὸν οἶκον τοῦ Θεοῦ…τοῖς σὺν αὐτῷ οὖσιν?

इसे पद 25 से अलग कथन के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह परमेश्वर के भवन में चला गया.... उनके साथ जो उसके साथ थे।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

πῶς εἰσῆλθεν

शब्द ""उसने"" दाऊद को दर्शाता है।

τοὺς ἄρτους τῆς Προθέσεως

यह पुराने नियम के समय में परमेश्वर को बलिदान के रूप में तम्बू या मन्दिर के भवन में सोने की मेज के ऊपर रखी गई बारह रोटियों को सन्दर्भित करता है।

Mark 2:27

τὸ Σάββατον διὰ τὸν ἄνθρωπον ἐγένετο

यीशु स्पष्ट करता है कि परमेश्वर ने सब्त की स्थापना क्यों की। इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर ने मनुष्यों के लिए सब्त बनाया"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

τὸν ἄνθρωπον

व्यक्ति या ""लोग"" या ""लोगों की आवश्कताएँ""। यह शब्द यहाँ पुरूषों और स्त्रियों दोनों को दर्शाता है। (देखें: जब पुल्लिंग शब्दों में स्त्रियाँ शामिल होती हैं)

οὐχ ὁ ἄνθρωπος διὰ τὸ Σάββατον

बनाया गया था"" ये शब्द पिछले वाक्यांश से समझे गए हैं। उन्हें यहाँ दोहराया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मनुष्य सब्त के लिए नहीं बनाया गया था"" या ""परमेश्वर ने मनुष्य को सब्त के लिए नहीं बनाया"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 3

मरकुस 03 सामान्य टिप्पणियाँ

इस अध्याय में विशेष धारणाएँ

सब्त

सब्त के दिन काम करना मूसा की व्यवस्था के विरूद्ध था। फरीसियों का मानना था कि सब्त के दिन एक बीमार व्यक्ति को चंगा करना ""काम"" था, इसलिए उन्होंने कहा कि जब यीशु ने सब्त के दिन किसी व्यक्ति को चंगा किया तो यीशु ने गलत किया। (देखें: व्यवस्था, मूसा की व्यवस्था, परमेश्वर की व्यवस्था, यहोवा की व्यवस्था)

""आत्मा के विरूद्ध निन्दा""

कोई भी निश्चित रूप से नहीं जानता कि लोग क्या करते हैं या जब वे इस पाप को करते हैं तो वे क्या कहते हैं। यद्यपि, वे सम्भवतः पवित्र आत्मा और उसके काम का अपमान करते हैं। पवित्र आत्मा के काम का भाग लोगों को यह समझाना है कि वे पापी हैं और उन्हें परमेश्वर की क्षमा को प्राप्त करने की आवश्यकता है। इसलिए, जो भी पाप करना बन्द करने का प्रयास नहीं करता है वह सम्भवतः आत्मा के विरूद्ध निन्दा कर रहा है। (देखें: निंदा, निन्दा करना, निन्दक और पवित्र आत्मा, परमेश्वर की आत्मा, प्रभु की आत्मा, आत्मा)

इस अध्याय के अनुवाद में आने वाली अन्य सम्भावित कठिनाइयाँ

बारह चेले

बारह चेलों की सूची निम्नलिखित है:

मत्ती में:

शमौन (पतरस ), अन्द्रियास, जब्दी के पुत्र याकूब, जब्दी के पुत्र यूहन्ना, फिलिप्पुस, बरतुल्मै, थोमा, मत्ती, हलफई के पुत्र याकूब, तद्दै, शमौन जेलोती और यहूदा इस्करियोती।

मरकुस:

शमौन (पतरस), अन्द्रियास, जब्दी के पुत्र याकूब और जब्दी के पुत्र यूहन्ना (जिनके पास उन्होंने बुअनरगिस नाम दिया, अर्थात् गर्जन का पुत्र), फिलिप्पुस, बरतुल्मै, मत्ती, थोमा, हलफई के पुत्र याकूब, तद्दै, शमौन जेलोती और यहूदा इस्करियोती।

लूका में:

शमौन (पतरस), अन्द्रियास, याकूब, यूहन्ना, फिलिप्पुस, बरतुल्मै, मत्ती, थोमा, हलफई का पुत्र याकूब, शमौन (जिसे जलोती भी कहा जाता था), याकूब का पुत्र यहूदा, और यहूदा इस्करियोती।

तद्दै शायद याकूब के पुत्र यहूदा ही है।

भाइयों और बहनों

अधिकांश लोग उन लोगों ""भाई"" और ""बहन"" कह कर पुकारते हैं जिनके माता-पिता एक ही होते हैं और उन्हें उनके जीवन में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण लोग समझते हैं। बहुत से लोग एक ही दादा-दादी वालों को भी ""भाई"" और ""बहन"" कह कर पुकारते हैं। इस अध्याय में यीशु कहता है कि उसके लिए सबसे महत्वपूर्ण लोग वे हैं जो परमेश्वर की आज्ञा मानते हैं। (देखें: भाई)

Mark 3:1

यीशु यहूदी आराधनालय में सब्त के दिन एक व्यक्ति को चंगा करता है और दिखाता है कि फरीसियों ने सब्त के नियमों के साथ जो कुछ भी किया था, उसके बारे में वह कैसा महसूस करता है। फरीसियों और हेरोदियों ने यीशु को मार डालने की योजना बनाना आरम्भ कर दिया।

ἄνθρωπος, ἐξηραμμένην ἔχων τὴν χεῖρα

एक अपंग हाथ वाला एक व्यक्ति

Mark 3:2

παρετήρουν αὐτὸν, εἰ τοῖς Σάββασιν θεραπεύσει αὐτόν

कुछ लोगों ने यीशु को ध्यान से देखा कि क्या वह सूखे हाथ वाले व्यक्ति को ठीक करेगा या नहीं

παρετήρουν αὐτὸν

कुछ फरीसी। बाद में, मरकुस 3:6 में, यह लोग फरीसियों के रूप में पहचाने गए हैं।

ἵνα κατηγορήσωσιν αὐτοῦ

यदि यीशु उस दिन उस व्यक्ति को चंगा कर देता, तो फरीसी उस पर सब्त के दिन काम करके व्यवस्था को तोड़ने का आरोप लगाएँगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""ताकि वे उस पर गलत काम करने का आरोप लगा सकें"" या ""ताकि वे उस पर व्यवस्था को तोड़ने का आरोप लगा सकें"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 3:3

εἰς τὸ μέσον

इस भीड़ के मध्य में

Mark 3:4

ἔξεστιν τοῖς Σάββασιν ἀγαθοποιῆσαι…ἢ ἀποκτεῖναι?

यीशु ने उन्हें चुनौती देने के लिए ऐसा कहा। वह चाहता था कि वे यह स्वीकार करें कि सब्त के दिन लोगों को चंगा करना उचित है। (देखें: भाषणगत प्रश्न)

τοῖς Σάββασιν ἀγαθοποιῆσαι ἢ κακοποιῆσαι, ψυχὴν σῶσαι ἢ ἀποκτεῖναι

ये दो वाक्यांश अपने अर्थ में समान हैं, इसके अलावा दूसरा अधिक विशिष्ट है। (देखें: समरूपता)

κακοποιῆσαι, ψυχὴν σῶσαι ἢ ἀποκτεῖναι

क्या यह उचित है"" को दोहराना उपयोगी हो सकता है, जब इसी प्रश्न को यीशु फिर से एक अन्य तरीके से पूछ रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्या प्राण को बचाना उचित है या मार डालना"" (देखें: पदन्यूनता)

ψυχὴν

यह भौतिक जीवन को प्रकट करता है और एक व्यक्ति के लिए उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कोई मर रहा है"" या ""किसी का प्राण"" (देखें: लक्षणालंकार)

οἱ δὲ ἐσιώπων

परन्तु उन्होंने उसे उत्तर देने से इंकार कर दिया

Mark 3:5

περιβλεψάμενος

यीशु ने चारों ओर देखा

συνλυπούμενος

बहुत ज्यादा दुःखी था

ἐπὶ τῇ πωρώσει τῆς καρδίας αὐτῶν

यह रूपक वर्णन करता है कि कैसे फरीसी सूखे हाथ वाले व्यक्ति पर तरस खाने के इच्छुक नहीं थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि वे व्यक्ति पर तरस करने के इच्छुक नहीं थे"" (देखें: रूपक)

ἔκτεινον τὴν χεῖρα σου

अपने हाथ को आगे बढ़ा

ἀπεκατεστάθη ἡ χεὶρ αὐτοῦ

इसे एक सक्रिय रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु ने उसके हाथ को चंगा किया"" या ""यीशु ने उसके हाथ को पहले जैसा कर दिया"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 3:6

συμβούλιον ἐποίουν

एक योजना को बनाना आरम्भ कर दिया

τῶν Ἡρῳδιανῶν

यह एक अनौपचारिक राजनीतिक दल का नाम है जो हेरोदस अन्तिपास का समर्थन करता है।

ὅπως αὐτὸν ἀπολέσωσιν

वे यीशु को कैसे मार सकते हैं

Mark 3:7

लोगों की एक बड़ी भीड़ यीशु का अनुसरण करती है, और वह कई लोगों को चंगा करता है।

τὴν θάλασσαν

यह गलील की झील को दर्शाता है।

Mark 3:8

τῆς Ἰδουμαίας

यही वह क्षेत्र है, जिसे पहले एदोम के नाम से जाना जाता था, जिसमें यहूदिया प्रान्त के दक्षिणी भाग को सम्मिलित किया गया था।

ὅσα ἐποίει

यह यीशु के उन आश्चर्यकर्मों को दर्शाता है जिन्हें वह कर रहा था। वैकल्पिक अनुवाद: ""महान आश्चर्यकर्म जो यीशु कर रहा था

ἦλθον πρὸς αὐτόν

वहाँ आया जहाँ यीशु था

Mark 3:9

वचन 9 बताता है कि यीशु ने अपने चेलों से उसके आसपास लोगों की बड़ी भीड़ के कारण क्या करने के लिए कहा था। वचन 10 बताता है कि इतनी बड़ी भीड़ यीशु के आसपास क्यों थी। यूएसटी अनुवाद के जैसे इन वचनों में दी गई जानकारी को घटनाओं को क्रमानुसार प्रस्तुत करने के लिए ऊपर-नीचे किया जा सकता है। (देखें: घटनाओं का क्रम)

εἶπεν τοῖς μαθηταῖς αὐτοῦ, ἵνα πλοιάριον…μὴ θλίβωσιν αὐτόν

जैसे कि बड़ी भीड़ यीशु की ओर बढ़ रही थी, इसलिए उसे उनके द्वारा कुचले जाने का खतरा था। वे जानबूझकर उसे नहीं कुचलेंगे। यह केवल इसलिए था क्योंकि वहाँ बहुत से लोग थे।

Mark 3:10

πολλοὺς γὰρ ἐθεράπευσεν, ὥστε…ἵνα αὐτοῦ ἅψωνται ὅσοι εἶχον μάστιγας

यह बताता है कि इतने सारे लोग यीशु के चारों ओर जमा क्यों थे इसलिए उसने सोचा कि वे उसे कुचल सकते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसलिए, क्योंकि यीशु ने कई लोगों को चंगा किया था, हर कोई ... उसे छूने के लिए"" (देखें: शब्दों और वाक्यांशों को जोड़ना)

πολλοὺς γὰρ ἐθεράπευσεν

जितने"" शब्द बड़ी संख्या में लोगों को दर्शाता है जो यीशु से पहले ही चंगे हो चुके थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि उसने कई लोगों को चंगा किया"" (देखें: पदन्यूनता)

ἐπιπίπτειν αὐτῷ, ἵνα αὐτοῦ ἅψωνται ὅσοι εἶχον μάστιγας

उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि उनका मानना था कि यीशु को छूने से वे चंगे हो जाएँगे। यह स्पष्ट रूप से व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सभी बीमार लोगों ने उत्सुकता से उसे छूने का प्रयास किया ताकि वे चंगे हो जाएँ"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 3:11

αὐτὸν ἐθεώρουν

यीशु को देखा

προσέπιπτον αὐτῷ καὶ ἔκραζον λέγοντα

यहाँ ""वे"" अशुद्ध आत्माओं को प्रकट करता है। यह वे हैं जो उन लोगों से कामों को करवा रही हैं जिनको उन्होंने जकड़ा हुआ था। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने उन लोगों को जिनको उन्होंने जकड़ा हुआ था उसके सामने झुकने और उससे विनती करने के लिए मजबूर कर दिया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

προσέπιπτον αὐτῷ

अशुद्ध आत्माएँ यीशु के सामने नहीं झुकीं क्योंकि वे उससे प्रेम करती थीं या उसकी आराधना करना चाहती थीं। वे उसके सामने झुक गईं क्योंकि वे उससे डरती थीं।

σὺ εἶ ὁ Υἱὸς τοῦ Θεοῦ

यीशु के पास अशुद्ध आत्माओं के ऊपर अधिकार है क्योंकि वह ""परमेश्वर का पुत्र"" है।

ὁ Υἱὸς τοῦ Θεοῦ

यह यीशु के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

Mark 3:12

πολλὰ ἐπετίμα αὐτοῖς

यीशु ने कठोरता से अशुद्ध आत्माओं को आदेश दिया

μὴ αὐτὸν φανερὸν ποιήσωσιν

यह प्रकट करने के लिए नहीं कि वह कौन था

Mark 3:13

यीशु उन लोगों को चुनता है जो वह अपना प्रेरित बनाना चाहता है।

Mark 3:14

ἵνα ὦσιν μετ’ αὐτοῦ, καὶ ἵνα ἀποστέλλῃ αὐτοὺς κηρύσσειν

ताकि वे उसके साथ रहें और वह उन्हें सन्देश प्रचार करने के लिए भेजे

Mark 3:16

ἐπέθηκεν ὄνομα τῷ Σίμωνι, Πέτρον

लेखक बारह प्रेरितों के नामों की सूची देना आरम्भ करता है। शमौन पहला सूचीबद्ध व्यक्ति है।

Mark 3:17

ἐπέθηκεν αὐτοῖς

वाक्यांश ""जिनका"" जब्दी के दोनों पुत्रों याकूब और उसके भाई यूहन्ना को सन्दर्भित करता है।

ὀνόματα Βοανηργές, ὅ ἐστιν υἱοὶ βροντῆς

यीशु ने उन्हें यह कहा क्योंकि वे गर्जन की तरह थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""बुअनरगिस नाम, जिसका अर्थ है ऐसे लोग जो गर्जन की तरह हैं"" या ""बुअनरगिस नाम, जिसका अर्थ है गर्म स्वभाव वाले लोग"" (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 3:18

Θαδδαῖον

यह एक व्यक्ति का नाम है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 3:19

ὃς καὶ παρέδωκεν αὐτόν

जिसने"" शब्द यहूदा इस्करियोती को दर्शाता है जो यीशु को धोखा देगा।

Mark 3:20

καὶ ἔρχεται εἰς οἶκον

तब यीशु घर गया जहाँ वह रह रहा था।

μὴ δύνασθαι αὐτοὺς μηδὲ ἄρτον φαγεῖν

रोटी"" शब्द भोजन का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु और उसके चेले बिल्कुल भी नहीं खा सके थे"" या ""वे कुछ भी नहीं खा सके"" (देखें: उपलक्षण अलंकार)

Mark 3:21

ἐξῆλθον κρατῆσαι αὐτόν

उसके परिवार के सदस्य उस घर पर आए, ताकि वे उसे पकड़ सकें और उन्हें उनके साथ घर जाने के लिए मजबूर कर सकें।

ἔλεγον γὰρ

वे"" शब्द के सम्भावित अर्थ हैं 1) उसके रिश्तेदार या 2) भीड़ में से कुछ लोग।

ἐξέστη

यीशु का परिवार इस मुहावरे का उपयोग यह दर्शाने के लिए करता है कि वे क्या सोचते हैं कि वह जो अभिनय कर रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""पागल"" या ""मन ठीकाने नहीं"" (देखें: मुहावरे)

Mark 3:22

ἐν τῷ ἄρχοντι τῶν δαιμονίων, ἐκβάλλει τὰ δαιμόνια

बालजबूल की शक्ति से, जो दुष्टात्माओं का शासक है, यीशु दुष्टात्माओं को बाहर निकाल देता है

Mark 3:23

यीशु एक दृष्टान्त के साथ बताता है कि क्यों लोगों के लिए यह सोचना मूर्खता है कि यीशु शैतान के द्वारा नियन्त्रित है। (देखें: दृष्टांत)

προσκαλεσάμενος αὐτοὺς

यीशु ने लोगों को उसके पास आने के लिए बुलाया

πῶς δύναται Σατανᾶς Σατανᾶν ἐκβάλλειν?

शास्त्रियों के यह कहने कि उसने बालजबूल के द्वारा दुष्टात्माओं को बाहर निकाला के उत्तर में यीशु ने इस आलंकारिक प्रश्न को पूछा। यह प्रश्न एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""शैतान स्वयं को बाहर नहीं निकाल सकता!"" या ""शैतान अपनी बुरी आत्माओं के विरूद्ध नहीं जाता है!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 3:24

ἐὰν βασιλεία ἐφ’ ἑαυτὴν μερισθῇ

शब्द ""राज्य"" उन लोगों के लिए उपनाम है जो राज्य में रहते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि एक राज्य में रहने वाले लोग एक-दूसरे के विरूद्ध विभाजित होते हैं तो"" (देखें: लक्षणालंकार)

οὐ δύναται σταθῆναι

यह वाक्यांश एक रूपक है जिसका अर्थ है कि लोग अब एक नहीं होंगे और वे नष्ट हो जाएंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""सहन नहीं कर सकता"" या ""नष्ट हो जाएगा"" (देखें: रूपक और विडंबना)

Mark 3:25

οἰκία

यह उन लोगों के लिए एक उपनाम है जो एक घर में रहते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""परिवार"" या ""घराना"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 3:26

εἰ ὁ Σατανᾶς ἀνέστη ἐφ’ ἑαυτὸν καὶ ἐμερίσθη

अपने"" शब्द एक प्रतिबिम्बित सर्वनाम है जो वापस शैतान की ओर दर्शाता है, और यह उसकी बुरी आत्माओं के लिए भी एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि शैतान और उसकी दुष्ट आत्माएँ एक-दूसरे से लड़ रही थीं"" या ""यदि शैतान और उसकी दुष्ट आत्माएँ एक-दूसरे के विरूद्ध उठती हैं और विभाजित होती हैं"" (देखें: कर्मकर्त्ता सर्वनाम और लक्षणालंकार)

ἐμερίσθη, οὐ δύναται στῆναι

यह एक रूपक है जिसका अर्थ है कि वह नष्ट हो जाएगा और बना नहीं रह सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक होना रुक जाएगा"" या ""बना नहीं रह सकता है और उसका अन्त हो गया है"" या ""नष्ट हो जाएगा और उसका अन्त हो गया है"" (देखें: रूपक)

Mark 3:27

διαρπάσει

किसी व्यक्ति के कीमती सामान और सम्पत्ति चोरी करने के लिए

Mark 3:28

ἀμὴν, λέγω ὑμῖν

यह इंगित करता है कि निम्न कथन विशेष रूप से सत्य और महत्वपूर्ण है।

τοῖς υἱοῖς τῶν ἀνθρώπων

जो लोग मनुष्य से उत्पन्न हुए हैं। इस अभिव्यक्ति का उपयोग लोगों की मानवता पर जोर देने के लिए किया जाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोग

βλασφημήσωσιν

बोले

Mark 3:30

ἔλεγον

लोग कह रहे थे

πνεῦμα ἀκάθαρτον ἔχει

यह एक मुहावरा है जिसका अर्थ है एक अशुद्ध आत्मा से जकड़ा हुआ होना। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक अशुद्ध आत्मा से जकड़ा हुआ है"" (देखें: मुहावरे)

Mark 3:31

καὶ ἔρχονται ἡ μήτηρ αὐτοῦ καὶ οἱ ἀδελφοὶ αὐτοῦ

तब यीशु की माँ और भाई आए

ἀπέστειλαν πρὸς αὐτὸν καλοῦντες αὐτόν

उन्होंने किसी को यह बताने के लिए भीतर भेजा कि वे बाहर थे और उसे उनसे मिलने के लिए बाहर आना चाहिए

Mark 3:32

ζητοῦσίν σε

तेरे लिए पूछ रहे हैं

Mark 3:33

τίς ἐστιν ἡ μήτηρ μου, καὶ οἱ ἀδελφοί μου?

यीशु लोगों को सिखाने के लिए इस प्रश्न का उपयोग करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं तुम्हें बताउँगा कि वास्तव में मेरी माँ और भाई कौन हैं"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 3:35

ὃς…ἂν ποιήσῃ…οὗτος…ἐστίν

जो लोग करते हैं ... वे हैं

οὗτος ἀδελφός μου καὶ ἀδελφὴ καὶ μήτηρ ἐστίν

यह एक रूपक है जिसका अर्थ है कि यीशु के चेले यीशु के आत्मिक परिवार से सम्बन्धित हैं। यह अपने भौतिक परिवार से सम्बन्धित होने से अधिक महत्वपूर्ण है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह व्यक्ति मेरे भाई, बहन या माँ की तरह है"" (देखें: रूपक)

Mark 4

मरकुस 04 सामान्य टिप्पणियाँ

संरचना और संरूपण

मरकुस 4: 3-10 एक दृष्टान्त बनाता है। दृष्टान्त 4: 14-23 में बताया गया है।

कुछ अनुवाद पढ़ने के लिए आसान बनाने के लिए पाठ के शेष अंश की तुलना में काव्य की प्रत्येक पंक्ति को दाईं ओर से लिखते हैं। यूएलटी अनुवाद 4:12 के काव्य के साथ ऐसा ही करता है, जो पुराने नियम के वचन हैं।

इस अध्याय में विशेष धारणाएँ

दृष्टान्त

दृष्टान्त यीशु द्वारा कही गई छोटी कहानियाँ थीं ताकि लोग आसानी से वह शिक्षा समझें जिन्हें वह उन्हें सिखाने का प्रयास कर रहा था। उसने उन कहानियों को भी बताया कि जो लोग उस पर विश्वास नहीं करना चाहते थे वे सच नहीं समझ पाएँगे.

Mark 4:1

जब यीशु ने झील के किनारे एक नाव पर से सिखाया था, उसने उन्हें भूमियों का दृष्टान्त बताया। (देखें: दृष्टांत)

τὴν θάλασσαν

यह गलील की झील है।

Mark 4:3

ἀκούετε! ἰδοὺ…ὁ σπείρων

ध्यान दें! एक किसान

σπεῖραι

किसान द्वारा बोए जाने वाले जिन सारे बीजों की बात यहाँ की गई है वे मानो एक बीज ही हैं। ""उसके बीज

Mark 4:4

ἐν τῷ σπείρειν, ὃ μὲν ἔπεσεν παρὰ τὴν ὁδόν

जब उसने भूमि पर बीज डाल दिया। विभिन्न संस्कृतियों में लोग विभिन्न तरीकों से बीज बोते हैं। इस दृष्टान्त में बीज उगने के लिए तैयार भूमि पर बीज डाल कर बोए गए थे।

ὃ μὲν…κατέφαγεν αὐτό

किसान द्वारा बोए जाने वाले जिन सारे बीजों की बात यहाँ की गई है वे मानो एक बीज ही हैं। ""कुछ बीज ... उन्हें चुग लिया

Mark 4:5

ἄλλο…οὐκ εἶχεν…ἐξανέτειλεν…τὸ μὴ ἔχειν

किसान द्वारा बोए जाने वाले जिन सारे बीजों की बात यहाँ की गई है वे मानो एक बीज ही हैं। ""अन्य बीज ... उनको नहीं मिली ... वे उग आए ... उनको नहीं मिली

ἐξανέτειλεν

पथरीली भूमि पर गिरा बीज जल्दी से बढ़ने लगा

γῆν

यह भूमि की उस ढीली मिट्टी को प्रकट करती है जिसमें तुम बीज लगा सकते हो।

Mark 4:6

ἐκαυματίσθη

यह पौधों को दर्शाता है। यह सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसने पौधों को खराब कर दिया"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

διὰ τὸ μὴ ἔχειν ῥίζαν ἐξηράνθη

क्योंकि पौधे कोई जड़ नहीं पकड़ पाए थे, वे सूख गए

Mark 4:7

ἄλλο…συνέπνιξαν αὐτό…οὐκ ἔδωκεν

किसान द्वारा बोए जाने वाले जिन सारे बीजों की बात यहाँ की गई है वे मानो एक बीज ही हैं। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया Mark 4:3. ""अन्य बीज ... उन्हें दबा दिया ... वे फल नहीं लाए

Mark 4:8

αὐξανόμενα, καὶ ἔφερεν εἰς τριάκοντα, καὶ ἓν ἑξήκοντα, καὶ ἓν ἑκατόν

प्रत्येक पौधे द्वारा उत्पादित अनाज की मात्रा की तुलना उस अकेले बीज से की जा रही है, जिससे यह उगा था। यहाँ काकपदों को उपयोग वाक्यांशों को छोटा करने के लिए किया गया है परन्तु उन्हें लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कुछ पौधों ने मनुष्य द्वारा बोए गए बीज से बीस गुना से अधिक फल दिया, कुछ ने साठ गुना अधिक अनाज का उत्पादन किया, और कुछ ने सौ गुना अधिक अनाज का उत्पादन किया"" (देखें: पदन्यूनता)

τριάκοντα…ἑξήκοντα…ἑκατόν

30 ... 60 ... 100। इन्हें अंकों के रूप में लिखा जा सकता है। (देखें: संख्याएँ)

Mark 4:9

ὃς ἔχει ὦτα ἀκούειν, ἀκουέτω

यीशु इस बात पर बल दे रहा है कि उसने जो कहा है वह महत्वपूर्ण है और इसे समझने में और अभ्यास में लाने में कुछ प्रयास लग सकता है। यह वाक्यांश ""कान हों"" यहाँ समझने और पालन करने की इच्छा के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो भी सुनने के लिए तैयार है, सुनो"" या ""जो भी समझने के लिए तैयार है, उसे समझने दो और मानने दो"" (देखें: लक्षणालंकार)

ὃς ἔχει…ἀκουέτω

क्योंकि यीशु सीधे अपने दर्शकों से बात कर रहा है, इसलिए तुम यहाँ द्वितीय पुरुष का उपयोग करना पसन्द कर सकते हो। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि तुम सुनना चाहते हो, सुनो"" या ""यदि तुम समझने के इच्छुक हो, तो समझो और मानो"" (देखें: प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरुष)

Mark 4:10

ὅτε ἐγένετο κατὰ μόνας

इसका अर्थ यह नहीं है कि यीशु पूरी तरह से अकेला था; अपितु, भीड़ चली गई थी और यीशु केवल उन बारहों और उसके कुछ अन्य घनिष्ठ अनुयायियों के साथ था।

Mark 4:11

ὑμῖν…δέδοται

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। ""परमेश्वर ने तुम्हें दिया है"" या ""मैंने तुम्हें दिया है"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

ἐκείνοις…τοῖς ἔξω

परन्तु उन लोगों के लिए जो तुम में से नहीं हैं। यह उन सभी अन्य लोगों को प्रकट करता है जो उन बारहों या यीशु के अन्य घनिष्ठ अनुयायियों में से नहीं थे।

ἐν παραβολαῖς τὰ πάντα γίνεται

यह कहा जा सकता है कि यीशु लोगों को दृष्टान्त देता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैंने दृष्टान्त में सब कुछ कहा है"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 4:12

βλέποντες…ἀκούοντες

यह माना जाता है कि यीशु उन लोगों के बारे में बात कर रहा है जो देख रहे थे जो वह उनको दिखाता है और वह सुन रहे थे जो वह उनको बता रहा था। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब वे देखते हैं कि मैं क्या कर रहा हूँ ... जब वे सुनते हैं कि मैं क्या कह रहा हूँ"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

βλέπωσι καὶ μὴ ἴδωσιν

यीशु लोगों की समझ की बात करता है कि वास्तव में देखते समय वे क्या देखते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे देखते हैं और नहीं समझते"" (देखें: रूपक)

ἐπιστρέψωσιν

परमेश्वर की ओर मुड़ें। यहाँ ""मुड़ जाएँ"" ""पश्चाताप"" के लिए एक रूपक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे पश्चाताप करेंगे"" (देखें: रूपक)

Mark 4:13

यीशु अपने अनुयायियों को भूमि के दृष्टान्त की व्याख्या बताता है और फिर उन्हें एक दीपक का उपयोग करने के बारे में बताता है जिसमें छिपी बातें प्रगट हो जाएँगी।

καὶ λέγει αὐτοῖς

तब यीशु ने अपने चेलों से कहा

οὐκ οἴδατε τὴν παραβολὴν ταύτην, καὶ πῶς πάσας τὰς παραβολὰς γνώσεσθε?

यीशु ने इन प्रश्नों का उपयोग यह दिखाने के लिए किया कि वह कितना दुःखी था कि उसके चेले उसके दृष्टान्त को समझ नहीं पाए। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि तुम इस दृष्टान्त को समझ नहीं सकते, तो सोचो कि तुम्हारे लिए अन्य सभी दृष्टान्तों को समझना कितना कठिन होगा।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 4:14

ὁ σπείρων

बीज बोने वाले किसान प्रतिनिधित्व करता है

τὸν λόγον

वचन"" परमेश्वर के सन्देश का प्रतिनिधित्व करता है। सन्देश को बोना इसकी शिक्षा देने का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह व्यक्ति जो लोगों को परमेश्वर का सन्देश सिखाता है"" (देखें: लक्षणालंकार और रूपक)

Mark 4:15

οὗτοι δέ εἰσιν οἱ παρὰ τὴν ὁδὸν

कुछ लोग उन बीजों की तरह हैं जो सड़क के किनारे गिरते हैं या ""कुछ लोग सड़क की तरह हैं जहाँ कुछ बीज गिरे

τὴν ὁδὸν

सड़क

ὅταν ἀκούσωσιν

यहाँ ""जो"" शब्द ""वचन"" या ""परमेश्वर के सन्देश"" के सन्दर्भ में है।

Mark 4:16

οὗτοί εἰσιν…οἱ

और कुछ लोग बीज की तरह हैं। यीशु यह बताना आरम्भ करता है कि कैसे कुछ लोग पथरीली भूमि पर गिरने वाले बीजों की तरह हैं। (देखें: रूपक)

Mark 4:17

οὐκ ἔχουσιν ῥίζαν ἐν ἑαυτοῖς

यह उन पौधों से एक तुलना है जिनकी जड़े गहरी नहीं हैं। इस रूपक का अर्थ है कि वे लोग पहले उत्साहित थे जब उन्होंने वचन को प्राप्त किया था, परन्तु वे इसके प्रति दृढ़ता से समर्पित नहीं थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""और वे उन पौधों की तरह हैं जिनमें जड़ें नहीं हैं"" (देखें: रूपक)

οὐκ…ῥίζαν

जड़ों के गहरे न होने पर जोर देने के लिए इसे बढ़ा चढ़ा कर बोला गया है। (देखें: अतिशयोक्ति)

इस दृष्टान्त में, ""रहते हैं"" का अर्थ है ""विश्वास करते हैं।"" वैकल्पिक अनुवाद: ""अपने विश्वास में बने रहते हैं"" (देखें: रूपक)

γενομένης θλίψεως ἢ διωγμοῦ διὰ τὸν λόγον

यह समझाने में सहायक हो सकता है कि विपत्ति इसलिए आती है क्योंकि लोगों ने परमेश्वर के सन्देश पर विश्वास किया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""विपत्ति या क्लेश आते हैं क्योंकि उन्होंने परमेश्वर के सन्देश पर विश्वास किया है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

σκανδαλίζονται

इस दृष्टान्त में, ""ठोकर"" का अर्थ है ""परमेश्वर के सन्देश पर विश्वास करना बन्द कर देना"" (देखें: रूपक)

Mark 4:18

ἄλλοι εἰσὶν οἱ εἰς τὰς ἀκάνθας σπειρόμενοι

यीशु यह बताना आरम्भ करते हैं कि कैसे कुछ लोग झाड़ियों के मध्य गिरने वाले बीज की तरह होते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""और अन्य लोग उन बीजों की तरह हैं जो झाड़ियों के मध्य में बोए गए थे"" (देखें: रूपक)

Mark 4:19

αἱ μέριμναι τοῦ αἰῶνος

इस जीवन की परेशानियाँ या ""इस वर्तमान जीवन के बारे में चिन्ताएँ

ἡ ἀπάτη τοῦ πλούτου

धन का लोभ

εἰσπορευόμεναι, συνπνίγουσιν τὸν λόγον

जैसे-जैसे यीशु झाड़ियों के मध्य गिरने वाले बीजों की तरह के लोगों के बारे में बात करता है, वह बताता है कि इच्छाएँ और परेशानियाँ उनके जीवन में वचन के साथ क्या करती हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""उनमें समाकर परमेश्वर सन्देश को उनके जीवन में दबा देता है जैसे झाड़ियाँ पौधों को दबा देती हैं।"" (देखें: रूपक)

ἄκαρπος γίνεται

वचन उनमें फसल उत्पन्न नहीं करता है

Mark 4:20

ἐκεῖνοί εἰσιν οἱ ἐπὶ τὴν γῆν τὴν καλὴν σπαρέντες

यीशु यह बताना आरम्भ करता है कि कुछ लोग अच्छी भूमि में बोए गए बीज की तरह होते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""अच्छी मिट्टी में बोए गए बीज की तरह"" (देखें: रूपक)

τριάκοντα, καὶ ἓν ἑξήκοντα, καὶ ἓν ἑκατόν

यह पौधों से उत्पादन होने वाले गेहूँ को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कुछ तीस अनाज उत्पन्न करते हैं, कुछ साठ अनाज उत्पन्न करते हैं, और कुछ सौ अनाज उत्पन्न करते हैं"" या ""कुछ बोए गए का 30 गुणा अनाज उत्पन्न करते हैं, कुछ बोए गए का 60 गुणा उत्पन्न करते हैं, और कुछ बोए गए का 100 गुणा उत्पन्न करते हैं"" (देखें: पदन्यूनता or संख्याएँ)

Mark 4:21

καὶ ἔλεγεν αὐτοῖς

यीशु ने भीड़ से कहा

μήτι ἔρχεται ὁ λύχνος ἵνα ὑπὸ τὸν μόδιον τεθῇ, ἢ ὑπὸ τὴν κλίνην?

यह प्रश्न एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम निश्चित रूप से घर के भीतर एक दीपक को एक टोकरी के नीचे या बिस्तर के नीचे रखने के लिए नहीं जलाते हो!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 4:22

οὐ γάρ ἐστιν κρυπτὸν, ἐὰν μὴ ἵνα φανερωθῇ…ἔλθῃ εἰς φανερόν

इसे सकारात्मक रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""छिपा हुआ सब कुछ प्रकट हो जाएगा, और जो कुछ भी गुप्त में है वह खुले में बाहर आ जाएगा"" (देखें: विडंबना)

οὐ…ἐστιν κρυπτὸν…οὐδὲ ἐγένετο ἀπόκρυφον

ऐसा कुछ भी नहीं है जो छिपा हुआ है ... ऐसा कुछ भी नहीं है जो गुप्त में है इन दोनों वाक्यांशों का एक ही अर्थ है। यीशु इस बात पर ज़ोर दे रहा है कि गुप्त सब कुछ ज्ञात किया जाएगा। (देखें: समरूपता)

Mark 4:23

εἴ τις ἔχει ὦτα ἀκούειν, ἀκουέτω

यीशु इस बात पर बल दे रहा है कि उसने जो कहा है वह महत्वपूर्ण है और इसे समझने में और अभ्यास में लाने में कुछ प्रयास लग सकता है। वाक्यांश ""सुनने के कान"" यहाँ समझने और पालन करने की इच्छा के लिए एक उपनाम है। देखें कि आपने इस जैसे वाक्यांश का अनुवाद कैसे किया है मरकुस 4:9। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो भी सुनने के लिए तैयार है, सुनो"" या ""जो भी समझने के लिए तैयार है, उसे समझने दो और मानने दो"" (देखें: लक्षणालंकार)

εἴ τις…ἀκουέτω

क्योंकि यीशु सीधे अपने दर्शकों से बात कर रहा है, इसलिए तुम यहाँ द्वितीय पुरुष का उपयोग करना पसन्द कर सकते हो। देखें कि आपने इस जैसे वाक्यांश का अनुवाद कैसे किया है मरकुस 4:9। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि तुम सुनना चाहते हो, सुनो"" या ""यदि तुम समझने के इच्छुक हो, तो समझो और मानो"" (देखें: प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरुष)

Mark 4:24

ἔλεγεν αὐτοῖς

यीशु ने भीड़ से कहा

ἐν ᾧ μέτρῳ μετρεῖτε

सम्भावित अर्थ है 1) यीशु एक शाब्दिक उपाय के बारे में बात कर रहा है और दूसरों को उदारता से दे रहा है या 2) यह एक रूपक है जिसमें यीशु ""समझने"" की बात करता है जैसे कि यह ""मापना"" था। (देखें: रूपक)

μετρηθήσεται ὑμῖν, καὶ προστεθήσεται ὑμῖν

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर तुम्हारे लिए उसी माप से मापेंगे, और वह इसको तुम्हारे साथ जोड़ देगा"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 4:25

δοθήσεται αὐτῷ…καὶ ὃ ἔχει ἀρθήσεται ἀπ’ αὐτο

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसको परमेश्वर और अधिक दे देगा ... उससे परमेश्वर ले लेगा"" या ""परमेश्वर उसे और अधिक दे देगा ... परमेश्वर उससे ले लेगा"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 4:26

फिर यीशु परमेश्वर के राज्य की व्याख्या करने के लिए लोगों को दृष्टान्तों को बताते है, जिसे बाद में वह अपने चेलों को समझाते हैं। (देखें: दृष्टांत)

οὕτως…ἄνθρωπος βάλῃ τὸν σπόρον

यीशु परमेश्वर के राज्य को एक किसान के समान बताता है जो अपने बीज बोता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक किसान की तरह जो अपने बीज बोता है"" (देखें: उपमा)

Mark 4:27

καθεύδῃ καὶ ἐγείρηται, νύκτα καὶ ἡμέραν

यह ऐसा कुछ है जो मनुष्य आदत से करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह हर रात सोता है और हर दिन उठता है"" या ""वह हर रात सोता है और अगले दिन उठता है

दिन के मध्य में है या ""दिन के मध्य में सक्रिय है

ὡς οὐκ οἶδεν αὐτός

यद्यपि वह व्यक्ति नहीं जानता कि बीज कैसे अंकुरित होता है और बढ़ता है

Mark 4:28

χόρτον

डंठल या अंकुरित

στάχυν

डन्ठल या पौधे के सबसे ऊपर वाला भाग जो फल धारण करता है

Mark 4:29

εὐθὺς ἀποστέλλει τὸ δρέπανον

यहाँ ""हँसिया"" एक उपनाम है जो कि किसान या उन लोगों के लिए उपयोग किया गया है जिन्हें किसान फसल की कटाई के लिए भेजता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह तुरन्त फसल की कटाई के लिए एक हँसिया के साथ खेत में जाता है"" या ""वह तुरन्त फसल की कटाई के लिए लोगों को खेतों में भेजता है"" (देखें: लक्षणालंकार)

δρέπανον

फसल काटने के लिए उपयोग होने वाला एक घुमावदार फल या एक धारदार आरी

ὅτι παρέστηκεν ὁ θερισμός

यहाँ वाक्यांश ""आ गया"" फसल के लिए कटाई के लिए पके होने के लिए एक मुहावरा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि फसल कटाई के लिए तैयार है"" (देखें: मुहावरे)

Mark 4:30

πῶς ὁμοιώσωμεν τὴν Βασιλείαν τοῦ Θεοῦ, ἢ ἐν τίνι αὐτὴν παραβολῇ θῶμεν?

यीशु ने इस प्रश्न को उसके सुनने वालों को यह सोचने के लिए प्रेरित करने हेतु पूछा कि परमेश्वर का राज्य क्या है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इस दृष्टान्त के साथ मैं समझा सकता हूँ कि परमेश्वर का राज्य कैसा है।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 4:31

ὅταν σπαρῇ

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब कोई इसे बोता है"" या ""जब कोई इसे लगाता है

Mark 4:32

ποιεῖ κλάδους μεγάλους

सरसों के पेड़ को इसकी शाखाओं को बड़ा होने के कारण वर्णित किया गया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बड़ी शाखाओं के साथ"" (देखें: मानवीकरण)

Mark 4:33

ἐλάλει αὐτοῖς τὸν λόγον

यहाँ ""परमेश्वर के सन्देश"" के लिए वचन एक उपलक्ष्य अलंकार है। ""उन्हें"" शब्द भीड़ को सन्दर्भित करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने उन्हें परमेश्वर का सन्देश सिखाया"" (देखें: उपलक्षण अलंकार)

καθὼς ἠδύναντο ἀκούειν

और यदि वे थोड़ा समझने में सक्षम थे, तो वह उन्हें और अधिक बताता रहा

Mark 4:34

κατ’ ἰδίαν

इसका अर्थ है कि वह भीड़ से दूर था, परन्तु उसके शिष्य अभी भी उसके साथ थे।

ἐπέλυεν πάντα

यहाँ ""सब बातों का"" एक बढ़ा चढ़ा कर बोला गया शब्द है। उसने अपने सभी दृष्टान्तों को समझाया। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने अपने सभी दृष्टान्तों को समझाया"" (देखें: अतिशयोक्ति)

Mark 4:35

जैसे ही यीशु और उसके चेले लोगों की भीड़ से बचने के लिए एक नाव में जाते हैं, एक बड़ा तूफान उठता है। उनके चेले डर जाते हैं जब वे देखते हैं कि हवा और समुद्र भी यीशु की आज्ञा मानते हैं।

λέγει αὐτοῖς

यीशु ने अपने चेलों से कहा

τὸ πέραν

गलील की झील के दूसरी ओर या ""झील की दूसरी ओर

Mark 4:37

γίνεται λαῖλαψ μεγάλη ἀνέμου

यहाँ ""उसे"" ""आरम्भ हुआ"" के लिए एक मुहावरा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक हिंसक तूफान आरम्भ हुआ"" (देखें: मुहावरे)

ἤδη γεμίζεσθαι τὸ πλοῖον

यह बताना सहायक हो सकता है कि नाव पानी से भर रही थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""नाव पानी से भरने के खतरे में थी"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 4:38

यहाँ ""आप ही"" जोर देता है कि यीशु नाव के पिछले हिस्से में अकेला था। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु ही अकेला थे"" (देखें: कर्मकर्त्ता सर्वनाम)

τῇ πρύμνῃ

यह नाव के बहुत पीछे का भाग है। ""नाव का पिछला हिस्सा

ἐγείρουσιν αὐτὸν

वे"" शब्द चेलों को दर्शाता है। अगला वचन पद 39, में एक समान विचार की तुलना करें, ""वह उठ गया।"" ""वह"" यीशु को प्रकट करता है।

οὐ μέλει σοι ὅτι ἀπολλύμεθα?

चेलों ने अपने डर को व्यक्त करने के लिए इस प्रश्न को पूछा। यह प्रश्न एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो हो रहा है उस पर तुम्हें ध्यान देने की आवश्यकता है; हम सब मरने वाले हैं!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἀπολλύμεθα

हम"" शब्द में चेले और यीशु सम्मिलित हैं। (देखें: समावेशी और अनन्य ‘‘हम’’)

Mark 4:39

σιώπα, πεφίμωσο

ये दो वाक्यांश समान हैं और यीशु हवा और समुद्र के साथ क्या करवाना चाहता था इस बात पर बल देते हैं। (देखें: दोहरात्मक)

γαλήνη μεγάλη

समुद्र पर एक बड़ी स्थिरता या ""समुद्र पर एक बड़ी शांति

Mark 4:40

καὶ εἶπεν αὐτοῖς

और यीशु ने अपने चेलों से कहा

τί δειλοί ἐστε? οὔπω ἔχετε πίστιν

यीशु अपने चेलों से इस बात पर विचार करने के लिए इन प्रश्नों से पूछता है कि जब वह उनके साथ है तो वे क्यों डरते हैं। इन प्रश्नों को कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तम्हें डरना नहीं चाहिए। तुम्हें अधिक विश्वास होना चाहिए। ""(देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 4:41

τίς ἄρα οὗτός ἐστιν, ὅτι καὶ ὁ ἄνεμος καὶ ἡ θάλασσα ὑπακούει αὐτῷ?

यीशु के किए हुए कार्य के कारण चेले आश्चर्य में इस प्रश्न को पूछते हैं। यह प्रश्न एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह व्यक्ति साधारण लोगों की तरह नहीं है, यहाँ तक कि हवा और समुद्र भी उसकी आज्ञा का पालन करते हैं!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 5

मरकुस 05 सामान्य टिप्पणियाँ

इस अध्याय में अनुवाद की सम्भावित कठिनाइयाँ

""तलीता, कूमी""

शब्द ""तालिता, कूमी"" ([मरकुस 5:41](../../mrk/05/41.md)) अरामी भाषा से हैं। मरकुस उन्हें उनके सुनाई देने वाले तरीके में लिखता है और फिर उनका अनुवाद करता है। (देखें: शब्दों की प्रति बनाना या उधार लेना)

Mark 5:1

यीशु के बड़े तूफान को शांत करने के बाद, वह एक ऐसे व्यक्ति को चंगा करता है जिसमें कई दुष्टात्माएँ थीं, परन्तु गिरासेनिया में स्थानीय लोग उसके चंगा होने के बारे में प्रसन्न नहीं हैं, और वे यीशु से वहाँ से चले जाने के लिए प्रार्थना करते हैं।

ἦλθον

वे"" शब्द यीशु और उसके चेलों को प्रकट करता है।

τῆς θαλάσσης

यह गलील की झील को दर्शाता है।

τῶν Γερασηνῶν

यह नाम उन लोगों को प्रकट करता है जो गिरासेनिया में रहते हैं। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 5:2

ἐν πνεύματι ἀκαθάρτῳ

यह एक मुहावरा है जिस का अर्थ एक मनुष्य का अशुद्ध आत्मा के द्वारा ""नियन्त्रित"" या ""ग्रसित"" होना है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक अशुद्ध आत्मा द्वारा नियन्त्रित"" या ""जो एक अशुद्ध आत्मा से ग्रसित है"" (देखें: मुहावरे)

Mark 5:4

αὐτὸν πολλάκις…δεδέσθαι

इसे सक्रिय रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोगों ने उसे कई बार बाँधा था"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

τὰς πέδας συντετρῖφθαι

इसे सक्रिय रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने अपनी साँकलों को तोड़ दिया था"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

πέδαις

धातु के टुकड़े जो लोग कैदियों के हाथों और पैरों में डालते हैं और उन वस्तुओं को जंजीरों से जोड़ते हैं जो हिलते नहीं हैं ताकि कैदी हिल नहीं पाए

οὐδεὶς ἴσχυεν αὐτὸν δαμάσαι

वह व्यक्ति इतना मजबूत था कि कोई भी उसे वश में नहीं कर सका। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह इतना मजबूत था कि कोई भी उसे अपने वश में करने के लिए पर्याप्त शक्तिशाली नहीं था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

αὐτὸν δαμάσαι

उसे नियन्त्रित करो

Mark 5:5

κατακόπτων ἑαυτὸν λίθοις

अक्सर जब एक व्यक्ति दुष्टात्मा द्वारा ग्रसित कर लिया जाता है, तो वह दुष्टात्मा उस व्यक्ति को स्वयं को नष्ट करने जैसे कि स्वयं को काटना जैसे कामों को करने के लिए मजबूर करता है।

Mark 5:6

καὶ ἰδὼν τὸν Ἰησοῦν ἀπὸ μακρόθεν

जब उस व्यक्ति ने पहली बार यीशु को देखा, तो यीशु नाव से बाहर निकल रहा था। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

προσεκύνησεν

इसका अर्थ है कि वह आराधना के कारण नहीं, बल्कि सम्मान और आदर से यीशु के सामने घुटने टेकने लगा।

Mark 5:7

यूएसटी अनुवाद के जैसे इन वचनों में दी गई जानकारी को घटनाओं को क्रमानुसार प्रस्तुत करने के लिए ऊपर-नीचे किया जा सकता है। (देखें: घटनाओं का क्रम)

κράξας

अशुद्ध आत्मा पुकार उठा

τί ἐμοὶ καὶ σοί Ἰησοῦ, Υἱὲ τοῦ Θεοῦ τοῦ Ὑψίστου?

अशुद्ध आत्मा इस प्रश्न को डर के कारण पूछता है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हे यीशु, परमप्रधान परमेश्वर के पुत्र, मुझे अकेला छोड़ दे! मेरे साथ हस्तक्षेप करने का तेरे पास कोई कारण नहीं है। ""(देखें: भाषणगत प्रश्न)

Ἰησοῦ…μή με βασανίσῃς

यीशु के पास अशुद्ध आत्माओं को कष्ट देने की शक्ति है।

Υἱὲ τοῦ Θεοῦ τοῦ Ὑψίστου

यह यीशु के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

ὁρκίζω σε τὸν Θεόν

यहाँ अशुद्ध आत्मा परमेश्वर की शपथ ले रही है जब वह यीशु से अनुरोध करती है। इस बात पर विचार करें कि इस प्रकार का अनुरोध तुम्हारी भाषा में कैसे किया जाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं परमेश्वर के सम्मुख तुझसे विनती करता हूँ"" या ""मैं परमेश्वर की शपथ खाता हूँ और तुझसे विनती करता हूँ

Mark 5:9

ἐπηρώτα αὐτόν

और यीशु ने उस अशुद्ध आत्मा से पूछा

λέγει αὐτῷ, Λεγιὼν ὄνομά μοι, ὅτι πολλοί ἐσμεν.

एक आत्मा यहाँ बहुतों के लिए बोल रही थी। उसने उनसे ऐसे बात की जैसे कि वे एक सेना थी, रोमी सेना की लगभग 6,000 सैनिकों की एक इकाई। वैकल्पिक अनुवाद: ""और आत्मा ने उससे कहा, 'हमें एक सेना कहो, क्योंकि इस मनुष्य के भीतर हम कई हैं।'"" (देखें: रूपक)

Mark 5:12

παρεκάλεσαν αὐτὸν

अशुद्ध आत्माओं ने यीशु से विनती की

Mark 5:13

ἐπέτρεψεν αὐτοῖς

यह स्पष्ट रूप से यह बताने में सहायक हो सकता है कि यीशु ने उन्हें क्या करने की अनुमति दी। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु ने अशुद्ध आत्माओं को ऐसा करने की अनुमति दी जैसा करने की अनुमति उन्होंने माँगी थी"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

सूअर दौड़ पड़े

εἰς τὴν θάλασσαν, ὡς δισχίλιοι, καὶ ἐπνίγοντο ἐν τῇ θαλάσσῃ

आप इसे एक अलग वाक्य बना सकते हैं: ""झील में। वहाँ लगभग दो हजार सूअर थे, और वे झील में डूब गए

ὡς δισχίλιοι

लगभग 2,000 सूअर (देखें: संख्याएँ)

Mark 5:14

εἰς τὴν πόλιν καὶ εἰς τοὺς ἀγρούς

यह स्पष्ट रूप से व्यक्त किया जा सकता है कि पुरुषों ने अपनी सूचना उन लोगों को दी जो शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""शहर और ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 5:15

τὸν λεγεῶνα

यह उन कई दुष्टात्माओं का नाम था जो उस मनुष्य के भीतर थीं। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 5:9

σωφρονοῦντα

यह एक मुहावरा है जिसका अर्थ है कि वह स्पष्टता से सोच रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सामान्य मन वाला"" या ""स्पष्टता से सोचना"" (देखें: मुहावरे)

ἐφοβήθησαν

वे"" शब्द उन लोगों के समूह को प्रकट करता है जो यह देखने के लिए बाहर गए थे कि क्या हुआ था।

Mark 5:16

οἱ ἰδόντες, πῶς ἐγένετο

वे लोग जिन्होंने देखा था कि क्या हुआ था

Mark 5:18

ὁ δαιμονισθεὶς

यद्यपि वह व्यक्ति अब दुष्टात्माओं से ग्रसित नहीं है, फिर भी वह इस तरह से वर्णित है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह व्यक्ति जो दुष्टात्माओं से ग्रसित था

Mark 5:19

καὶ οὐκ ἀφῆκεν αὐτόν

यीशु ने उस व्यक्ति को क्या करने की अनुमति नहीं दी, इसे स्पष्ट रूप से व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु उसने उस व्यक्ति को उनके साथ आने की अनुमति नहीं दी"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 5:20

τῇ Δεκαπόλει

यह एक ऐसे क्षेत्र का नाम है जिसका अर्थ है दस शहर। यह गलील की झील के दक्षिणपूर्व में स्थित है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

πάντες ἐθαύμαζον

यह बताना सहायक हो सकता है कि लोग आश्चर्यचकित क्यों हुए। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे सभी लोग आश्चर्यचकित थे जिन्होंने सुना कि व्यक्ति ने क्या कहा था"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 5:21

गिरासेनियों के क्षेत्र में दुष्टात्माओं से ग्रसित रहने वाले व्यक्ति को चंगा करने के बाद, यीशु और उसके चेले झील के पार कफरनहूम में लौट आए, जहाँ यहूदी आराधनालय के सरदारों में से एक यीशु को अपनी बेटी को चंगा करने के लिए कहता है।

τὸ πέραν

इस वाक्यांश में जानकारी जोड़ना सहायतापूर्ण हो सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""झील के दूसरी ओर"" (देखें: पदन्यूनता)

παρὰ τὴν θάλασσαν

झील के किनारे पर या ""किनारे पर

τὴν θάλασσαν

यह गलील की झील है।

Mark 5:22

Ἰάειρος

यह एक व्यक्ति का नाम है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 5:23

ἐπιθῇς τὰς χεῖρας

हाथों को रखना किसी भविष्यद्वक्ता या शिक्षक का किसी पर अपना हाथ रखकर चंगाई या आशीष प्रदान करने को प्रकट करता है। इस प्रकरण में, याईर यीशु से अपनी बेटी को चंगा करने के लिए कह रहा है।

ἵνα σωθῇ καὶ ζήσῃ

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""और उसे चंगा करो और उसे जीवित कर दो"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 5:24

καὶ ἀπῆλθεν μετ’ αὐτοῦ

अतः यीशु याईर के साथ गया। यीशु के चेले भी उसके साथ गए। वैकल्पिक अनुवाद: ""अतः यीशु और चेले याईर के साथ गए"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

συνέθλιβον αὐτόν

इसका अर्थ है कि वे यीशु के चारों ओर रहते थे और यीशु के निकट रहने के लिए स्वयं से एक दूसरे को दबाते थे।

Mark 5:25

जबकि यीशु उस व्यक्ति की छोटी 12 वर्षीय लड़की को चंगा करने के लिए मार्ग पर है, वहीं एक औरत जो 12 साल से बीमार है, अपनी चंगाई के लिए यीशु को छूकर बाधा डालती है।

καὶ γυνὴ οὖσα

अब इंगित करता है कि इस स्त्री को कहानी में प्रस्तुत किया जा रहा है। ध्यान दें कि आपकी भाषा में नए लोगों को एक कहानी में कैसे प्रस्तुत किया जाता है। (देखें: नए एवं पुराने सहभागियों का परिचय)

ἐν ῥύσει αἵματος δώδεκα ἔτη

उस स्त्री के कोई खुला घाव नहीं था; अपितु, उसका मासिक लहू बहना बन्द नहीं होता था। इस स्थिति का उल्लेख करने के लिए आपकी भाषा में एक विनम्र तरीका हो सकता है। (देखें: शिष्टोक्ति)

δώδεκα ἔτη

12 वर्षों से (देखें: संख्याएँ)

Mark 5:26

εἰς τὸ χεῖρον ἐλθοῦσα

उसकी बीमारी और भी बुरी हो गई थी या ""उसका लहू बहना बढ़ गया था

Mark 5:27

τὰ περὶ τοῦ Ἰησοῦ

उसने यीशु के बारे में समाचार को सुना था कि उसने लोगों को कैसे चंगा किया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""कि यीशु ने लोगों को चंगा किया था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

τοῦ ἱματίου

बाहरी वस्त्र या अंगरखा

Mark 5:28

σωθήσομαι

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह मुझे ठीक करेगा"" या ""उसकी सामर्थ मुझे ठीक करेगी"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 5:29

ἴαται ἀπὸ τῆς μάστιγος

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उस बीमारी ने उसे छोड़ दिया था"" या ""वह अब बीमार नहीं रही"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 5:30

τὴν ἐξ αὐτοῦ δύναμιν ἐξελθοῦσαν

जब उस स्त्री ने यीशु को छुआ, तो यीशु ने महसूस किया कि उसकी सामर्थ्य उसको चंगा कर रही है। जब यीशु ने उसे चंगा किया तो यीशु ने स्वयं की चंगा करने वाली सामर्थ्य को निकलते हुए पाया। वैकल्पिक अनुवाद: ""कि उसकी चंगा करने वाली सामर्थ ने स्त्री को चंगा किया था

Mark 5:31

τὸν ὄχλον συνθλίβοντά σε

इसका अर्थ है कि वे यीशु के चारों ओर रहते थे और यीशु के निकट रहने के लिए स्वयं से एक दूसरे को दबाते थे। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 5:24

Mark 5:33

προσέπεσεν αὐτῷ

उसके सामने घुटने टेक दिए उसने यीशु के सामने सम्मान और समर्पण के कार्य के रूप में घुटने टेक दिए।

εἶπεν αὐτῷ πᾶσαν τὴν ἀλήθειαν

सब हाल सच-सच"" वाक्यांश कि उसने उसे कैसे छुआ था और चंगी हुई थी को सन्दर्भित करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसे पूरी सच्चाई बताई कि उसने उसे कैसे छुआ था"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 5:34

θυγάτηρ

यीशु इस स्थिति का प्रयोग लाक्षणिक रूप में स्त्री के विश्वासी होने को प्रकट करने के लिए कर रहा था।

ἡ πίστις σου

मुझ पर तेरा विश्वास

Mark 5:35

ἔτι αὐτοῦ λαλοῦντος

जब यीशु बोल रहा था

ἔρχονται ἀπὸ τοῦ ἀρχισυναγώγου

सम्भावित अर्थ हैं 1) ये लोग याईर के घर से आए थे या 2) याईर ने पहले उन लोगों को यीशु को मिलने को जाने के लिए आदेश दिए थे या 3) इन लोगों को उस व्यक्ति ने भेजा था जो याईर की अनुपस्थिति में यहूदी आराधनालय के अगुवे के रूप में अध्यक्ष था।

τοῦ ἀρχισυναγώγου

याईर ""यहूदी आराधनालय का अगुवा"" है।

λέγοντες

यहूदी आराधनालय, याईर से कह रहा है

τί ἔτι σκύλλεις τὸν διδάσκαλον?

यह प्रश्न एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अब गुरू को परेशान करना बेकार है।"" या ""अब गुरू को परेशान करने की कोई आवश्यकता नहीं है।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

τὸν διδάσκαλον

यह यीशु को दर्शाता है।

Mark 5:36

यूएसटी अनुवाद के जैसे 37 और 38 के वचनों में दी गई जानकारी की घटनाओं को क्रमानुसार प्रस्तुत करने के लिए ऊपर-नीचे किया जा सकता है। (देखें: घटनाओं का क्रम) और )

μόνον πίστευε

यदि आवश्यक हो, तो आप यह बता सकते हैं कि याईर को किस बात पर विश्वास करने के लिए यीशु आदेश दे रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बस विश्वास कर कि मैं तेरी पुत्री को जीवित कर सकता हूँ

Mark 5:37

οὐκ ἀφῆκεν

यीशु ने अनुमति नहीं दी थी

μετ’ αὐτοῦ συνακολουθῆσαι

उसके साथ आने के लिए। यह व्यक्त करना सहायक हो सकता है कि वे कहाँ जा रहे थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसके साथ याईर के घर में"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 5:38

θεωρεῖ

यीशु ने देखा

Mark 5:39

λέγει αὐτοῖς

यीशु ने रोते हुए लोगों से कहा

τί θορυβεῖσθε καὶ κλαίετε?

यीशु ने उन्हें उनकी विश्वास की कमी को देखने में सहायता करने के लिए इस प्रश्न को पूछा। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह परेशान होने और रोने का समय नहीं है।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

τὸ παιδίον οὐκ ἀπέθανεν, ἀλλὰ καθεύδει

यीशु नींद के लिए सामान्य शब्द का उपयोग करता है, और इसका अनुवाद भी वैसा ही होना चाहिए।

Mark 5:40

κατεγέλων αὐτοῦ

यीशु ने नींद के लिए सामान्य शब्द का प्रयोग किया (पद 39)। पाठक को यह समझना चाहिए कि जो लोग यीशु की बात सुनते हैं वे उस पर हँसते हैं क्योंकि वे वास्तव में एक मृत व्यक्ति और सोने वाले व्यक्ति के मध्य का अन्तर जानते हैं और उन्हें लगता है कि वह नहीं जानता है।

ἐκβαλὼν πάντας

अन्य सभी लोगों को घर के बाहर भेज दिया

τοὺς μετ’ αὐτοῦ

यह पतरस, याकूब और यूहन्ना को साथ लेता है।

εἰσπορεύεται ὅπου ἦν τὸ παιδίον

यह बताना सहायक हो सकता है कि बच्चा कहाँ है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उस कमरे में गया जहाँ बच्चा लेटा हुआ था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 5:41

ταλιθὰ, κοῦμ!

यह एक अरामी वाक्य है, जिसके द्वारा यीशु ने उसकी भाषा में छोटी लड़की से बात की थी। इन शब्दों को अपनी वर्णमाला में लिखें जैसे वे हैं। (देखें: शब्दों की प्रति बनाना या उधार लेना)

Mark 5:42

ἦν…ἐτῶν δώδεκα

वह 12 वर्ष की आयु की थी (देखें: संख्याएँ)

Mark 5:43

διεστείλατο αὐτοῖς πολλὰ ἵνα μηδεὶς γνοῖ τοῦτο, καὶ

इसे प्रत्यक्ष उद्धरण के रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने उन्हें कठोरता से आदेश दिया, 'इस बारे में किसी को भी पता नहीं होना चाहिए!' तब ""या"" उसने उन्हें कठोरता से आदेश दिया, 'मैंने जो कुछ किया है उसके बारे में किसी को मत बताओ!' फिर"" (देखें: प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष उद्धरण)

διεστείλατο αὐτοῖς πολλὰ

उसने दृढ़ता से उन्हें आदेश दिया

καὶ εἶπεν δοθῆναι αὐτῇ φαγεῖν

इसे प्रत्यक्ष उद्धरण के रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""और उसने उनसे कहा, 'उसे खाने के लिए कुछ दो।'"" (देखें: प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष उद्धरण)

Mark 6

मरकुस 06 सामान्य टिप्पणियाँ

इस अध्याय में विशेष धारणाएँ

""तेल के साथ अभिषेक""

प्राचीनकाल में पूर्व के निकट में, लोग बीमार लोगों पर जैतून का तेल डालकर चंगा करने की प्रयास करते थे।

Mark 6:1

यीशु अपने गृह नगर लौटता है, जहाँ उसे स्वीकार नहीं किया गया है।

τὴν πατρίδα αὐτοῦ

यह नासरत शहर को दर्शाता है, जहाँ यीशु पला-बढ़ा था और जहाँ उसका परिवार रहता था। इसका अर्थ यह नहीं है कि उसके पास पूरी पृथ्वी का स्वामित्व है।

Mark 6:2

τίς ἡ σοφία ἡ δοθεῖσα τούτῳ

इस प्रश्न को, जिसमें निष्क्रिय निर्माण सम्मिलित है, सक्रिय रूप में पूछा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह ज्ञान क्या है जिसे उसने प्राप्त किया है?

διὰ τῶν χειρῶν αὐτοῦ γινόμεναι

यह वाक्यांश जोर देता है कि आश्चर्यकर्मों को यीशु स्वयं करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कि वह स्वयं काम करता है

Mark 6:3

οὐχ οὗτός ἐστιν ὁ τέκτων, ὁ υἱὸς τῆς Μαρίας, καὶ ἀδελφὸς Ἰακώβου, καὶ Ἰωσῆτος, καὶ Ἰούδα, καὶ Σίμωνος? καὶ οὐκ εἰσὶν αἱ ἀδελφαὶ αὐτοῦ ὧδε πρὸς ἡμᾶς?

इन प्रश्नों को एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह केवल एक साधारण बढ़ई है! हम उसे और उसके परिवार को जानते हैं। हम उसकी मां मरियम को जानते हैं। हम उसके छोटे भाइयों याकूब, योसेस, यहूदा और शमौन को जानते हैं। और उनकी छोटी बहनें भी हमारे साथ यहाँ रहती हैं। ""(देखें: भाषणगत प्रश्न और नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 6:4

αὐτοῖς

भीड़ को

οὐκ ἔστιν προφήτης ἄτιμος, εἰ μὴ

यह वाक्य सकारात्मक तुल्यता पर जोर देने के लिए एक दोगुनी नकारात्मक का उपयोग करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक भविष्यवक्ता को सदैव सम्मानित किया जाता है, बजाए इसके कि"" या ""एकमात्र स्थान जहाँ एक भविष्यवक्ता को सम्मानित नहीं किया जाता है"" (देखें: दोहरे नकारात्मक)

Mark 6:5

ὀλίγοις ἀρρώστοις, ἐπιθεὶς τὰς χεῖρας

भविष्यद्वक्ताओं और शिक्षक उन्हें चंगा करने या उन्हें आशीष देने के लिए लोगों पर अपना हाथ रखेंगे। इस घटना में, यीशु लोगों को चंगा कर रहा था।

Mark 6:7

यूएसटी अनुवाद के जैसे वचन 8 और 9 में यीशु के निर्देशों को फिर से व्यवस्थित किया जा सकता है कि उसने चेलों को क्या करने के लिए कहा था, और उसने चेलों को क्या नहीं करने के लिए कहा था को अलग करने के लिए। (देखें: पद सेतु)

यीशु अपने चेलों को प्रचार करने और चंगा करने के लिए दो-दो की जोड़ियों में भेजता है।

προσκαλεῖται τοὺς δώδεκα

यहाँ ""बुलाया"" शब्द का अर्थ है कि उसने बारहों को उसके पास आने के लिए बुलाया।

δύο δύο

दो-दो करके या ""जोड़े में"" (देखें: संख्याएँ)

Mark 6:8

μὴ ἄρτον

यहाँ ""रोटी"" सामान्य रूप से भोजन के लिए एक उपलक्ष्य अंलकार है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कोई भोजन नहीं"" (देखें: उपलक्षण अलंकार)

Mark 6:10

ἔλεγεν αὐτοῖς

यीशु ने बारहों से कहा

μένετε ἕως ἂν ἐξέλθητε ἐκεῖθεν

यहाँ ""रहें"" उस घर पर खाने और सोने के लिए प्रतिदिन जाने का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उस घर में तब तक खाओ और सोओ जब तक कि तुम उस स्थान को नहीं छोड़ते"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 6:11

εἰς μαρτύριον αὐτοῖς

उनके विरूद्ध एक गवाही के रूप में। यह समझाने में सहायक हो सकता है कि यह गतिविधि उनके लिए एक गवाही थी। ""उनके लिए एक गवाही के रूप में। ऐसा करके, तुम यह प्रमाणित करोगे कि उन्होंने तुम्हारा स्वागत नहीं किया है ""(देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 6:12

ἐξελθόντες

वे"" शब्द बारहों को दर्शाता है और इसमें यीशु सम्मिलित नहीं है। साथ ही, यह बताने में सहायक हो सकता है कि वे विभिन्न नगरों को चले गए। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे विभिन्न नगरों को चले गए"" (देखें: पदन्यूनता)

μετανοῶσιν

यहाँ ""से मन फिराओ"" एक रूपक है जिसका अर्थ कुछ करने से रुक जाना है। वैकल्पिक अनुवाद: ""पाप करना बंद करो"" या ""उनके पापों का पश्चाताप करो"" (देखें: रूपक)

Mark 6:13

δαιμόνια πολλὰ ἐξέβαλλον

यह कहना उपयोगी हो सकता है कि उन्होंने दुष्टात्माओं को लोगों में से बाहर निकाला। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने लोगों में से कई दुष्टात्माओं को बाहर निकाला"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 6:14

जब हेरोदेस यीशु के आश्चर्यकर्मों के बारे में सुनता है, तो वह यह सोच कर घबरा जाता है कि किसी ने यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले को मरे हुओं में जीवित कर दिया है। (हेरोदेस ने यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले को मरवा दिया था।)

ἤκουσεν ὁ βασιλεὺς Ἡρῴδης

ये"" शब्द उन सब कामों को सन्दर्भित करता है जो यीशु और उसके चेले विभिन्न शहरों में कर रहे थे, जिसमें दुष्टात्माओं को बाहर निकालना और लोगों को चंगा करना सम्मिलित था।

ἔλεγον, ὅτι Ἰωάννης ὁ βαπτίζων ἐγήγερται

कुछ लोग कह रहे थे कि यीशु यूहन्ना बपतिस्मा देने वाला था। इसे अधिक स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कुछ कह रहे थे, 'वह यूहन्ना बपतिस्मा देने वाला है जो पहले था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Ἰωάννης ὁ βαπτίζων ἐγήγερται

जी उठा यहाँ ""फिर से जीवित कर दिया गया"" के लिए उपयोग किया गया एक मुहावरा है। इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले को फिर से जीवित कर दिया गया है"" या ""परमेश्वर ने यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले को फिर से जीवित कर दिया है"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य और मुहावरे)

Mark 6:15

ἄλλοι δὲ ἔλεγον, ὅτι Ἠλείας ἐστίν

यह बताना सहायक हो सकता है कि क्यों कुछ लोगों ने सोचा कि वह एलिय्याह था। वैकल्पिक अनुवाद: ""कुछ अन्य ने कहा, 'वह एलिय्याह है, जिसे परमेश्वर ने फिर से भेजने का वादा किया था।'"" देखें:

Mark 6:16

वचन 17 में लेखक हेरोदेस के बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी देना आरम्भ कर देता है और उसने यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले का सिर क्यों कटवा दिया था। (देखें: पृष्ठभूमि की जानकारी)

ὃν ἐγὼ ἀπεκεφάλισα

हेरोदेस स्वयं को प्रकट करने के लिए ""मैंने"" शब्द का उपयोग करता है। ""मैंने"" शब्द हेरोदेस के सैनिकों के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जिसे मैंने अपने सैनिकों को सिर काटने का आदेश दिया"" (देखें: लक्षणालंकार)

ἠγέρθη

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""फिर से जीवित हो गया है"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 6:17

ὁ Ἡρῴδης, ἀποστείλας ἐκράτησεν τὸν Ἰωάννην, καὶ ἔδησεν αὐτὸν ἐν φυλακῇ

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हेरोदेस ने अपने सैनिकों को यूहन्ना को गिरफ्तार करने के लिए भेजा और उसे लाकर जेल में डलवा दिया था"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

ἀποστείλας

पाने के लिए आदेश दिया

διὰ Ἡρῳδιάδα

हेरोदियास के कारण से

τὴν γυναῖκα Φιλίππου, τοῦ ἀδελφοῦ αὐτοῦ

उसके भाई फिलिप्पुस की पत्नी। हेरोदेस का भाई वही फिलिप्पुस एक ही फिलिप्पुस नहीं है जो प्रेरितों के काम या फिलिप्पुस की पुस्तक में एक प्रचारक था जो यीशु के बारह शिष्यों में से एक था। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

ὅτι αὐτὴν ἐγάμησεν

क्योंकि हेरोदेस ने उससे विवाह किया था

Mark 6:19

ἤθελεν αὐτὸν ἀποκτεῖναι, καὶ οὐκ ἠδύνατο

हेरोदियास इस वाक्यांश का विषय है और ""वह"" एक उपनाम है क्योंकि वह चाहती थी कि कोई यूहन्ना को मार डाले। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह चाहती थी कि कोई उसे मार डाले, परन्तु वह उसे मार नहीं सकी थी"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 6:20

ὁ γὰρ Ἡρῴδης ἐφοβεῖτο τὸν Ἰωάννην, εἰδὼς

अधिक स्पष्ट रूप से दिखाने के लिए इन दो खण्डों को अलग-अलग तरीके से जोड़ा जा सकता है कि हेरोदेस यूहन्ना से क्यों डरता था। वैकल्पिक अनुवाद: ""हेरोदेस यूहन्ना से इसलिए डरता था क्योंकि वह जानता था"" (देखें: शब्दों और वाक्यांशों को जोड़ना)

εἰδὼς αὐτὸν ἄνδρα δίκαιον

हेरोदेस जानता था कि यूहन्ना धर्मी था

ἀκούσας αὐτοῦ

यूहन्ना को सुनना

Mark 6:21

लेखक हेरोदेस की और यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले का सिर काटे जाने की पृष्ठभूमि की जानकारी देना जारी रखता है। (देखें: पृष्ठभूमि की जानकारी)

δεῖπνον ἐποίησεν, τοῖς μεγιστᾶσιν αὐτοῦ…τῆς Γαλιλαίας

यहाँ ""वह"" शब्द हेरोदेस को प्रकट करता है और उसके दास के लिए एक उपनाम है जिसे उसने भोजन तैयार करने का आदेश दिया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने गलील के अपने अधिकारियों के लिए रात का खाना बनाया था"" या ""उसने गलील के अपने अधिकारियों को खाने और मनाने के लिए आमंत्रित किया

δεῖπνον

एक औपचारिक भोजन या दावत

Mark 6:22

αὐτοῦ Ἡρῳδιάδος

स्वयं"" शब्द एक कर्मकर्ता सर्वनाम इस बात पर जोर देने के लिए प्रयोग किया जाता है कि यह महत्वपूर्ण था कि वह हेरोदियास की अपनी बेटी थी जिसने रात के खाने पर नृत्य किया था। (देखें: कर्मकर्त्ता सर्वनाम)

εἰσελθούσης

कमरे में आया

Mark 6:23

ἐάν με αἰτήσῃς…τῆς βασιλείας μου

यदि तू यह माँगे तो मैं तुझे अपने स्वामित्व और राज्य का आधा हिस्सा तक दे दूँगा

Mark 6:24

ἐξελθοῦσα

कमरे से बाहर चला गया

Mark 6:25

πίνακι

एक तखते पर या ""एक बड़ी लकड़ी की थाल में पर

Mark 6:26

διὰ τοὺς ὅρκους καὶ τοὺς συνανακειμένους

शपथ की विषय वस्तु को, और शपथ तथा रात्रिभोज के मेहमानों के मध्य सम्बन्ध को स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि उसके भोजन करने वाले मेहमानों ने उसे शपथ लेते सुना था कि वह उसे वह कुछ भी देगा जो वह उससे मांगेगी"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 6:28

ἐπὶ πίνακι

एक परात में

Mark 6:29

ἀκούσαντες, οἱ μαθηταὶ αὐτοῦ

जब यूहन्ना के चेले

Mark 6:30

चेलों के प्रचार और चंगाई करने से लौटने के बाद, वे कहीं पर अकेले रहने के लिए जाते हैं, परन्तु बहुत से लोग हैं जो यीशु को शिक्षा देते हुए सुनने के लिए आते हैं। जब देर हो जाती है, तो वह लोगों को खिलाता है और फिर हर किसी को दूर भेज देता है जिस समय वह अकेले प्रार्थना करता है।

Mark 6:31

ἔρημον τόπον

ऐसा स्थान जहाँ लोग नहीं हैं

ἦσαν…οἱ ἐρχόμενοι καὶ οἱ ὑπάγοντες πολλοί

इसका अर्थ है कि लोग लगातार प्रेरितों के पास आ रहे थे और फिर उनसे दूर जा रहे थे।

οὐδὲ…εὐκαίρουν

उन्हें"" शब्द प्रेरितों को सन्दर्भित करता है।

Mark 6:32

καὶ ἀπῆλθον

यहाँ ""वे"" शब्द में प्रेरित और यीशु दोनों सम्मिलित हैं।

Mark 6:33

εἶδον αὐτοὺς ὑπάγοντας

लोगों ने यीशु और प्रेरितों को जाते हुए देखा

πεζῇ

लोग भूमि पर से पैदल जा रहे हैं, जो कि चेलों के नाव द्वारा जाने के विपरीत है।

Mark 6:34

εἶδεν πολὺν ὄχλον

यीशु ने एक बड़ी भीड़ देखी

ἦσαν ὡς πρόβατα μὴ ἔχοντα ποιμένα

यीशु उन लोगों की भेड़ों से तुलना करता है जो उलझन में हैं जब उनके चरवाहे उनका नेतृत्व करने के लिए उनके पास नहीं हैं। (देखें: उपमा)

Mark 6:35

καὶ ἤδη ὥρας πολλῆς γενομένης

इसका अर्थ है कि दिन ढल चुका था। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब देर हो रही थी"" या ""दोपहर के अंत में"" (देखें: मुहावरे)

ἔρημός ἐστιν ὁ τόπος

यह उस स्थान को दर्शाता है जहाँ लोग नहीं हैं। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 6:31

Mark 6:37

ὁ δὲ ἀποκριθεὶς εἶπεν αὐτοῖς

परन्तु यीशु ने उत्तर दिया और अपने चेलों से कहा

ἀπελθόντες, ἀγοράσωμεν δηναρίων διακοσίων ἄρτους, καὶ δώσομεν αὐτοῖς φαγεῖν?

चेले इस प्रश्न को यह कहने के लिए पूछते हैं कि इस भीड़ के लिए पर्याप्त भोजन खरीदने में सक्षम होने में उनके पास कोई तरीका नहीं है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हम इस भीड़ को खिलाने के लिए पर्याप्त रोटी नहीं खरीद सकते, भले ही हमारे पास दो सौ दीनार होती!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

δηναρίων διακοσίων

200 दीनार। ""दीनार"" शब्द का एकवचन रूप ""दिनारिस"" है। एक दिनारिस एक दिन की मजदूरी के तुल्य एक रोमी चाँदी का सिक्का था। (देखें: बाइबल में धन और संख्याएँ)

Mark 6:38

ἄρτους

रोटी की लोई का पिंड जिसे आकार देकर पकाया गया होता है

Mark 6:39

τῷ χλωρῷ χόρτῳ

स्वस्थ घास के लिए आपकी भाषा में उपयोग किए गए रंग के शब्द से घास का वर्णन करें, जो रंग हरा हो सकता है या नहीं।

Mark 6:40

πρασιαὶ, κατὰ ἑκατὸν καὶ κατὰ πεντήκοντα

यह प्रत्येक समूह में लोगों की संख्या को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कुछ समूहों में लगभग पचास लोग और अन्य समूहों में लगभग सौ लोग"" (देखें: संख्याएँ और अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 6:41

ἀναβλέψας εἰς τὸν οὐρανὸν

इसका अर्थ है कि वह आकाश की ओर ऊपर देखता है, जो उस स्थान से जुड़ा हुआ है जहाँ परमेश्वर रहता है।

εὐλόγησεν

उसने एक आशीष बोली या ""उसने धन्यवाद दिया

καὶ τοὺς δύο ἰχθύας ἐμέρισεν πᾶσιν

उसने दो मछलियों के टुकड़े किए ताकि सभी को कुछ मिल सके

Mark 6:43

ἦραν

सम्भावित अर्थ हैं 1) ""चेलों ने उठाया"" या 2) ""लोगों ने उठाया।

κλάσματα δώδεκα κοφίνων πληρώματα

रोटी के टुकड़ों से भरी बारह टोकरियाँ

δώδεκα κοφίνων

12 टोकरियाँ (देखें: संख्याएँ)

Mark 6:44

πεντακισχίλιοι ἄνδρες

5,000 पुरुष (देखें: संख्याएँ)

ἦσαν οἱ φαγόντες τοὺς ἄρτους, πεντακισχίλιοι ἄνδρες

स्त्रियों और बच्चों की संख्या की गणना नहीं की गई थी। यदि यह समझ में नहीं आया है कि स्त्रियाँ और बच्चे उपस्थित थे, तो इसे स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""और वहाँ पाँच हजार पुरुष थे जिन्होंने रोटियाँ खाई थीं। उन्होंने स्त्रियों और बच्चों की गिनती भी नहीं की थी"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 6:45

εἰς τὸ πέραν

यह गलील की झील को दर्शाता है। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""गलील की झील के दूसरी ओर"" (देखें: पदन्यूनता)

Βηθσαϊδάν

यह गलील की झील के उत्तरी किनारे पर एक शहर है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 6:46

ἀποταξάμενος αὐτοῖς

जब लोग चले गए थे

Mark 6:48

एक तूफान उठता है जब चेले झील को पार करने का प्रयास कर रहे हैं। यीशु को पानी पर चलते हुए देखना उनको भयभीत कर देता है। वे समझ नहीं पाते हैं कि कैसे यीशु तूफान को शांत कर सकता है।

τετάρτην φυλακὴν

यह सुबह के 3 बजे और सूर्योदय के मध्य का समय है। (देखें: क्रमसूचक संख्याएँ)

Mark 6:49

φάντασμά

एक मृत व्यक्ति की आत्मा या किसी अन्य प्रकार की आत्मा

Mark 6:50

θαρσεῖτε…μὴ φοβεῖσθε

इन दो वाक्यों के अर्थ समान हैं, उसके चेलों पर जोर डालने के लिए कि उन्हें डरने की आवश्यकता नहीं थी। यदि आवश्यक हो तो उन्हें एक में जोड़ा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मुझ से मत डरो!"" (देखें: समरूपता)

Mark 6:51

λείαν ἐν ἑαυτοῖς ἐξίσταντο

यदि तुमको अधिक विशेष होने की आवश्यकता है, तो यह बता सकते हैं कि इसके द्वारा आश्चर्यचकित थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो कुछ भी उसने किया था वे उसे लेकर पूरी तरह से आश्चर्यचकित थे"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 6:52

ἐπὶ τοῖς ἄρτοις

यहाँ वाक्यांश ""उन रोटियों"" इस बात को प्रकट करता है जब यीशु ने रोटियों को बढ़ा दिया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसका अर्थ क्या था जब यीशु ने रोटियों को बढ़ा दिया था"" या ""इसका अर्थ क्या था जब यीशु ने कुछ रोटियों को बहुत सारी बना दिया था"" (देखें: लक्षणालंकार)

ἦν αὐτῶν ἡ καρδία πεπωρωμένη

एक कठोर मन होना समझने के लिए बहुत हठीला होने का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे समझने के लिए बहुत अधिक हठीले थे"" (देखें: रूपक)

Mark 6:53

जब यीशु और उसके चेले अपनी नाव में गन्नेसरत पहुँचे, तो लोग उससे मिलते हैं और लोगों को चंगा करने के लिए उसके पास ले आते हैं। जहाँ कहीं भी वे जाते हैं ऐसा ही होता है।

Γεννησαρὲτ

यह गलील की झील के उत्तर-पश्चिम के क्षेत्र का नाम है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 6:55

περιέδραμον ὅλην τὴν χώραν

यह बताना सहायक हो सकता है कि वे इस क्षेत्र से होकर क्यों गए। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे पूरे जिले में से होकर गए ताकि दूसरों को यह बताएँ कि यीशु वहाँ था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

περιέδραμον…ἤκουον

वे"" शब्द उन लोगों को सन्दर्भित करता है जिन्होंने यीशु को पहचान लिया था, न कि चेलों को।

τοὺς κακῶς ἔχοντας

यह वाक्यांश लोगों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बीमार लोग"" (देखें: आम विशेषण)

Mark 6:56

ὅπου ἂν εἰσεπορεύετο

जहाँ कहीं भी यीशु ने प्रवेश किया

ἐτίθεσαν

यहाँ ""वे"" लोगों को सन्दर्भित करता है। यह यीशु के चेलों का उल्लेख नहीं करता है।

τοὺς ἀσθενοῦντας

यह वाक्यांश लोगों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बीमार लोग"" (देखें: आम विशेषण)

παρεκάλουν αὐτὸν

सम्भावित अर्थ हैं 1) ""बीमारों ने उससे विनती की"" या 2) ""लोगों ने उससे विनती की।

ἅψωνται

शब्द ""उन्हें"" बीमारों को दर्शाता है।

τοῦ κρασπέδου τοῦ ἱματίου αὐτοῦ

उसके वस्त्र का किनारा या ""उसके कपड़े का छोर

ὅσοι ἂν

वे सभी जो

Mark 7

मरकुस 07 सामान्य टिप्पणियाँ

संरचना और संरूपण

कुछ अनुवाद पढ़ने में आसान बनाने के लिए पाठ के शेष भाग की तुलना में काव्य को प्रत्येक पंक्ति को दाईं ओर निर्धारित करते हैं। यूएलटी अनुवाद 7: 6-7 में काव्य के साथ ऐसा करता है, जो पुराने नियम से वचन हैं।

इस अध्याय में पाई जाने वाली विशेष धारणाएँ

हाथ धोने

फरीसियों ने कई चीजें धो दीं गन्दे नहीं थे क्योंकि वे यह प्रयास कर रहे कि परमेश्वर यह सोचे कि वे अच्छे थे। उन्होंने खाने से पहले अपने हाथ धोए, भले ही उनके हाथ गन्दे नहीं थे। और भले ही मूसा की व्यवस्था ने यह नहीं कहा कि उन्हें ऐसा करना है। यीशु ने उनसे कहा कि वे गलत थे और यह कि लोग सही बातों को सोचकर और सही काम करके परमेश्वर को प्रसन्न करते हैं। (देखें: व्यवस्था, मूसा की व्यवस्था, परमेश्वर की व्यवस्था, यहोवा की व्यवस्था और शुद्ध, शुद्ध करेगा, शुद्ध किया, शुद्ध करना, शुद्ध, शुद्ध होने, धुलाई, धुलाई, धोया, धोया)

इस अध्याय में अनुवाद सम्बन्धित अन्य सम्भावित कठिनाइयाँ

""इप्फत्तह""

यह एक अरामी शब्द है। मरकुस ने यूनानी अक्षरों का उपयोग करके इसे सुनाई देने के तरीके में लिखा है और फिर समझाया कि इसका क्या अर्थ है। (देखें: शब्दों की प्रति बनाना या उधार लेना)

Mark 7:1

यीशु फरीसियों और शास्त्रियों को डाँटते हैं।

συνάγονται πρὸς αὐτὸν

यीशु के चारों ओर इकट्ठा हुए

Mark 7:2

वचन 3 और 4 में, लेखक फरीसियों की धोने सम्बन्धी परम्पराओं के बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी देता है ताकि यह दिखाया जा सके कि फरीसियों को इस बात पर चिन्ता क्यों थी कि यीशु के चेलों ने खाने से पहले हाथ नहीं धोए थे। यूएसटी अनुवाद के जैसे इस जानकारी को समझने में आसान बनाने के लिए क्रमानुसार ऊपर-नीचे किया जा सकता है। (देखें: पृष्ठभूमि की जानकारी और पद सेतु)

ἰδόντες

फरीसियों और शास्त्रियों ने देखा

τοῦτ’ ἔστιν ἀνίπτοις

अशुद्ध"" शब्द बताता है कि क्यों चेलों के हाथ अशुद्ध थे। इसे सक्रिय रूप में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अर्थात्, उन हाथों से जिनको उन्होंने धोया नहीं था"" या ""अर्थात्, उन्होंने अपने हाथ धोए नहीं थे"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 7:3

τῶν πρεσβυτέρων

यहूदी पुरनिए अपने समुदायों में अगुवे थे और लोगों के लिए न्यायी भी थे।

Mark 7:4

χαλκίων

ताम्बे का बर्तन या ""धातु का डिब्बा

मेज या ""खाट"" उस समय, यहूदी भोजन करते समय झुक जाते थे।

Mark 7:5

διὰ τί οὐ περιπατοῦσιν οἱ μαθηταί σου κατὰ τὴν παράδοσιν τῶν πρεσβυτέρων, ἀλλὰ κοιναῖς χερσὶν ἐσθίουσιν τὸν ἄρτον?

यहाँ चलना ""आज्ञा मानना"" के लिए एक रूपक है। फरीसियों और शास्त्रियों ने यीशु के अधिकार को चुनौती देने के लिए पूछा। इसे दो कथनों के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तेरे चेले हमारे प्राचीनों की परम्पराओं का उल्लंघन करते हैं! उन्हें हमारे संस्कारों को मानते हुए अपने हाथ धोने चाहिए।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न और रूपक)

ἄρτον

यह एक उपलक्ष्य अंलकार है, जो सामान्य रूप से भोजन का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""भोजन"" (देखें: उपलक्षण अलंकार)

Mark 7:6

यहाँ यीशु भविष्यवक्ता यशायाह को उद्धत करते हैं, जिसने कई वर्ष पहले पवित्रशास्त्र लिखा था।

τοῖς χείλεσίν

यहाँ ""होंठ"" बोलने के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे जो कहते हैं उसके द्वारा"" (देखें: लक्षणालंकार)

ἡ δὲ καρδία αὐτῶν πόρρω ἀπέχει ἀπ’ ἐμοῦ

यहाँ ""मन"" किसी व्यक्ति के विचारों या भावनाओं को दर्शाता है। यह कहने का एक तरीका है कि लोग वास्तव में परमेश्वर को समर्पित नहीं हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु वे वास्तव में मुझसे प्रेम नहीं करते हैं"" (देखें: लक्षणालंकार और मुहावरे)

Mark 7:7

μάτην δὲ σέβονταί με

वे मेरी आराधना बेकार में करते हैं या ""वे व्यर्थ में मेरी आराधना करते हैं

Mark 7:8

यीशु शास्त्रियों और फरीसियों को डाँटना जारी रखता है।

ἀφέντες

आज्ञा मानने से इन्कार

κρατεῖτε

को दृढ़ता से पकड़ते हो या ""केवल मानते हो

Mark 7:9

καλῶς ἀθετεῖτε τὴν ἐντολὴν τοῦ Θεοῦ…τὴν παράδοσιν ὑμῶν τηρήσητε

यीशु अपने श्रोताओं को परमेश्वर के आदेश को त्यागने के लिए डाँटने हेतु ताने के तौर पर इस वक्तव्य का उपयोग करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम सोचते हो कि तुमने अच्छा किया है कि तुमने परमेश्वर के आदेश को कैसे इन्कार कर दिया है ताकि तुम अपनी परम्पराओं को मानो, परन्तु तुमने जो किया है वह बिल्कुल अच्छा नहीं है"" (देखें: व्यंग्यात्मक)

καλῶς ἀθετεῖτε τὴν ἐντολὴν τοῦ Θεοῦ…τὴν παράδοσιν ὑμῶν τηρήσητε

तुम कितनी कुशलता से अस्वीकार करते हो

Mark 7:10

ὁ κακολογῶν πατέρα

जो शाप देता है

θανάτῳ τελευτάτω

अवश्य मार डाला जाए

ὁ κακολογῶν πατέρα ἢ μητέρα θανάτῳ τελευτάτω

यह सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अधिकारियों को एक ऐसे व्यक्ति को मृत्युदण्ड देना चाहिए जो अपने पिता या माता के बारे में बुरा बोलता हो"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 7:11

κορβᾶν, (ὅ ἐστιν δῶρον), ὃ ἐὰν ἐξ ἐμοῦ ὠφεληθῇς

शास्त्रियों की परम्परा ने कहा कि एक बार धन या अन्य बातों का मन्दिर के लिए वादा किया गया है, तो वे किसी अन्य उद्देश्य के लिए उपयोग नहीं किए जा सकते थे।

κορβᾶν

यहाँ कुरबान एक इब्रानी शब्द है जो उन चीजों को प्रकट करता है जो लोग परमेश्वर को देने का वादा करते हैं। अनुवादक सामान्य रूप से भाषा वर्णमाला का उपयोग करके इसे लक्षित भाषा में लिप्यंतरित करते हैं। कुछ अनुवादक इसके अर्थ का अनुवाद करते हैं, और फिर उसके बाद आने वाले मरकुस के स्पष्टीकरण के अर्थ को छोड़ देते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर के लिए एक उपहार है"" या ""परमेश्वर का है"" (देखें: शब्दों की प्रति बनाना या उधार लेना)

δῶρον

यह वाक्यांश इब्रानी शब्द ""कुरबान"" का अर्थ बताता है। इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। मरकुस ने अर्थ समझाया है ताकि उसके गैर-यहूदी पाठक समझ सकें कि यीशु ने क्या कहा था। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैंने इसे परमेश्वर को दे दिया है"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 7:12

वचन 11 और 12 में, यीशु दिखाता है कि कैसे फरीसी लोगों को सिखाते हैं कि उन्हें अपने माता-पिता का सम्मान करने के लिए परमेश्वर के आदेश का पालन नहीं करना है। पद 11 में यीशु ने बताता है कि फरीसी लोगों को अपनी सम्पत्ति के बारे में क्या कहने की अनुमति देते हैं, और पद 12 में वह बताता है कि कैसे यह अपने माता-पिता की सहायता करने वाले लोगों के प्रति फरीसियों के व्यवहार को प्रगट करता है। इस जानकारी को अपने माता-पिता की सहायता करने वाले लोगों के प्रति फरीसियों के व्यवहार के बारे में पहले बताने के लिए आगे-पीछे किया जा सकता है और फिर बताओ कि फरीसी लोगों को अपनी सम्पत्ति के बारे में क्या कहने की अनुमति देते हैं। (देखें: पद सेतु)

οὐκέτι ἀφίετε αὐτὸν οὐδὲν ποιῆσαι τῷ πατρὶ ἢ τῇ μητρί

ऐसा करने से, फरीसी लोगों को अपने माता-पिता की देखभाल नहीं करने की अनुमति दे रहे हैं, यदि वे परमेश्वर को देने का वादा करते हैं तो वे उन्हें क्या देते हैं। वचन 11 में आप इन शब्दों को ""जो कुछ भी सहायता"" से आरम्भ होने वाले शब्दों से पहले कर सकते हैं: ""तुम किसी व्यक्ति को अपने पिता या उसकी माता के लिए कुछ भी करने की अनुमति उसके यह कहने के बाद नहीं देते हो कि, 'तुमने मुझसे जो कुछ भी सहायता प्राप्त की है वह कुरबानी है।' (कुरबानी का अर्थ है 'परमेश्वर को दिया गया।') ""(देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 7:13

ἀκυροῦντες

निरस्त कर दिया या के साथ समाप्त कर दिया

παρόμοια τοιαῦτα πολλὰ ποιεῖτε

तुम ऐसे ही अन्य कामों को कर रहे हो

Mark 7:14

यीशु लोगों को यह समझने में सहायता करने के लिए एक दृष्टांत कहते हैं कि वह शास्त्रियों और फरीसियों से क्या कह रहा है। (देखें: दृष्टांत)

προσκαλεσάμενος

यीशु ने कहा

ἀκούσατέ μου πάντες καὶ σύνετε

सुनो"" और ""समझो"" शब्द सम्बन्धित हैं। यीशु जोर देने के लिए एक साथ उनका उपयोग करता है कि जो वह कह रहा है उस पर उसके सुनने वालों को पूरा ध्यान देना चाहिए। (देखें: दोहरात्मक)

σύνετε

यह बताना सहायक हो सकता है कि यीशु उन्हें क्या समझने के लिए कह रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह समझने का प्रयास करें कि मैं तुम को क्या बताने वाला हूँ"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 7:15

οὐδέν…ἔξωθεν τοῦ ἀνθρώπου

एक व्यक्ति जो खाता है यीशु उसके बारे में बात कर रहा है। यह ""व्यक्ति से जो निकलता है"" के विपरीत है। वैकल्पिक अनुवाद: ""किसी व्यक्ति के बाहर से कुछ भी नहीं जिसे वह खा सकता है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

τὰ ἐκ τοῦ ἀνθρώπου ἐκπορευόμενά

यह उन बातों को बतलाता है जो एक व्यक्ति करता है या कहता है। यह ""किसी व्यक्ति के बाहर जो है वह उसके भीतर प्रवेश करता है"" के विपरीत में है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो वह कहता है या करता है यही एक व्यक्ति से बाहर निकलता है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 7:17

चेले अभी भी यह नहीं समझते कि यीशु ने शास्त्रियों, फरीसियों और भीड़ से क्या कहा है। यीशु ने उसके अर्थ को और अधिक अच्छी तरह से उनको समझाया।

καὶ

मुख्य कहानी में विराम को चिन्हित करने के लिए यहाँ इस शब्द का उपयोग किया गया है। यीशु अब भीड़ से दूर अपने चेलों के साथ एक घर में है।

Mark 7:18

यीशु एक प्रश्न पूछने के द्वारा अपने चेलों को सिखाना आरम्भ करता है।

οὕτως καὶ ὑμεῖς ἀσύνετοί ἐστε?

यीशु अपनी निराशा को व्यक्त करने के लिए इस प्रश्न का उपयोग करता है कि वे समझते नहीं है। इसे एक कथन के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैंने जो कुछ कहा और किया है, उसके बाद मैं तुमसे समझने की अपेक्षा करूँगा।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 7:19

यीशु अपने चेलों को सिखाने के लिए उपयोग कर रहे प्रश्न को पूछना समाप्त करता है।

ὅτι…εἰς τὸν ἀφεδρῶνα ἐκπορεύεται?

यह प्रश्न का अन्त है जो पद 18 में ""क्या तुम नहीं देखते"" शब्दों से आरम्भ होता है। यीशु अपने चेलों को कुछ ऐसा सिखाने के लिए इस प्रश्न का उपयोग करता है जो उन्हें पहले ही पता होना चाहिए। इसे एक कथन के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। ""तुमको पहले ही यह समझना चाहिए कि जो भी बाहर से किसी व्यक्ति में प्रवेश करता है वह उसे अशुद्ध नहीं कर सकता है, क्योंकि यह उसके मन में नहीं जा सकता है, परन्तु यह उसके पेट में जाता है और फिर शौच में निकल जाता है।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

οὐκ εἰσπορεύεται αὐτοῦ εἰς τὴν καρδίαν

यहाँ ""मन"" किसी व्यक्ति के अन्तर्मन या दिमाग के लिए एक उपनाम है। यहाँ यीशु का अर्थ है कि भोजन किसी व्यक्ति के चरित्र को प्रभावित नहीं करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह उसके अन्तर्मन में नहीं जा सकता है"" या ""यह उसके दिमाग में नहीं जा सकता है"" (देखें: लक्षणालंकार)

οὐκ εἰσπορεύεται

यहाँ ""यह"" किसी व्यक्ति के अंदर जाने वाली चीज को सन्दर्भित करता है; अर्थात्, एक व्यक्ति क्या खाता है।

(καθαρίζων πάντα τὰ βρώματα

यह स्पष्ट रूप से समझाने में सहायक हो सकता है कि इस वाक्यांश का अर्थ क्या है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सभी खाद्य पदार्थ शुद्ध हैं, जिसका अर्थ है कि बिना इस बात पर विचार किए लोग किसी भी भोजन को खा सकते हैं कि परमेश्वर खाने वाले को अशुद्ध मानता है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 7:20

ἔλεγεν

यीशु ने कहा

τὸ ἐκ τοῦ ἀνθρώπου ἐκπορευόμενον, ἐκεῖνο κοινοῖ τὸν ἄνθρωπον

जो उससे बाहर आता है वह एक व्यक्ति को अशुद्ध करता है

Mark 7:21

ἐκ τῆς καρδίας…οἱ διαλογισμοὶ οἱ κακοὶ ἐκπορεύονται

यहाँ ""मन"" किसी व्यक्ति के अन्तर्मन या दिमाग के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: "" अन्तर्मन से बाहर, बुरे विचार आते हैं"" या ""दिमाग से बाहर, बुरे विचार आते हैं"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 7:22

ἀσέλγεια

किसी की वासनापूर्ण इच्छाओं को नियन्त्रित नहीं करना

Mark 7:23

ἔσωθεν ἐκπορεύεται

यहाँ ""भीतर"" शब्द किसी व्यक्ति के मन का वर्णन करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""किसी व्यक्ति के मन के भीतर से आना"" या ""किसी व्यक्ति के विचारों के भीतर से आना"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 7:24

जब यीशु सूर से चला जाता है, तो वह एक अन्यजाति स्त्री की बेटी को चंगा करता है जिसमें असाधारण विश्वास होता है।

Mark 7:25

εἶχεν…πνεῦμα ἀκάθαρτον

यह एक मुहावरा है जिसका अर्थ है कि वह अशुद्ध आत्मा से ग्रसित थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक अशुद्ध आत्मा से ग्रसित थी"" (देखें: मुहावरे)

προσέπεσεν

घुटने टेक दिए। यह सम्मान और समर्पण का एक कार्य है।

Mark 7:26

ἡ δὲ γυνὴ ἦν Ἑλληνίς, Συροφοινίκισσα τῷ γένει

अब"" शब्द मुख्य कहानी में एक विराम को चिन्हित करता है, क्योंकि यह वाक्य हमें स्त्री के बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी देता है। (देखें: पृष्ठभूमि की जानकारी)

Συροφοινίκισσα

यह स्त्री की राष्ट्रीयता का नाम है। उसने सीरिया के फिनीके क्षेत्र में जन्म लिया था। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 7:27

ἄφες πρῶτον χορτασθῆναι τὰ τέκνα; οὐ γάρ ἐστιν καλόν…τοῖς κυναρίοις βαλεῖν

यहाँ यीशु यहूदियों के बारे में बोलता है मानो कि वे सन्तान हैं और अन्यजातियों के बारे में मानो कि वे कुत्ते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""इस्राएलियों की संतान को पहले खिलाया जाना चाहिए। क्योंकि बच्चों की रोटी लेकर अन्यजातियों के आगे फेंक देना अच्छा नहीं है, जो कुत्तों की तरह हैं ""(देखें: रूपक)

ἄφες πρῶτον χορτασθῆναι τὰ τέκνα

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हमें पहले इस्राएलियों की संतान को खिलाना है"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

ἄρτον

यह सामान्य रूप से भोजन को सन्दर्भित करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""भोजन"" (देखें: उपलक्षण अलंकार)

τοῖς κυναρίοις

यह छोटे कुत्तों को पालतू जानवरों के रूप में रखे जाने को प्रकट करता है।

Mark 7:29

ὕπαγε

यीशु का अर्थ था कि उसे अब उसकी पुत्री की सहायता करने के लिए उससे कहने के लिए रुकने की आवश्यकता नहीं थी। वह ऐसा करेगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""अब तुम जा सकती हो"" या ""तुम शान्ति से घर जा सकती हो"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἐξελήλυθεν τὸ δαιμόνιον, ἐκ τῆς θυγατρός σου

यीशु ने उस अशुद्ध आत्मा को उस स्त्री की पुत्री को छोड़ने के लिए मजबूर किया। यह स्पष्ट रूप से व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैंने बुरी आत्मा को तेरी बेटी को छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 7:31

सूर में लोगों को चंगा करने के बाद, यीशु गलील की झील पर जाता है। वहाँ वह एक बहरा व्यक्ति को चंगा करता है, जो लोगों को आश्चर्यचकित करता है।

πάλιν ἐξελθὼν ἐκ τῶν ὁρίων Τύρου

सूर के क्षेत्र को छोड़ दिया

ἀνὰ μέσον τῶν ὁρίων

सम्भावित अर्थ हैं 1) ""क्षेत्र में"" क्योंकि यीशु दिकापुलिस के क्षेत्र में झील पर था या 2) ""क्षेत्र से होते हुए"" क्योंकि यीशु झील पर जाने के लिए दिकापुलिस के क्षेत्र में से होते हुआ गया।

Δεκαπόλεως

यह एक ऐसे क्षेत्र का नाम है जिसका अर्थ है दस शहर। यह गलील की झील के दक्षिणपूर्व में स्थित है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 5:20। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 7:32

φέρουσιν

और लोग लेकर आए

κωφὸν

जो सुनने में सक्षम नहीं था

παρακαλοῦσιν αὐτὸν ἵνα ἐπιθῇ αὐτῷ τὴν χεῖρα

भविष्यद्वक्ताओं और शिक्षक उन्हें चंगा करने या उन्हें आशीष देने के लिए लोगों पर अपना हाथ रखेंगे। इस प्रकरण में, लोग एक व्यक्ति को चंगा करने के लिए यीशु से विनती कर रहे हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने यीशु से आग्रह किया कि वह चंगा करने के लिए उस व्यक्ति पर अपना हाथ रखे"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 7:33

ἀπολαβόμενος αὐτὸν

यीशु उस व्यक्ति को ले गया

ἔβαλεν τοὺς δακτύλους αὐτοῦ εἰς τὰ ὦτα αὐτοῦ

यीशु उस व्यक्ति के कानों में अपनी उंगलियाँ डाल रहा है।

πτύσας, ἥψατο τῆς γλώσσης αὐτοῦ

यीशु थूकता है और फिर व्यक्ति की जीभ को छूता है।

πτύσας

यह बताना सहायक हो सकता है कि यीशु अपनी उंगलियों पर थूकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अपनी उंगलियों पर थूकने के बाद"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 7:34

ἀναβλέψας εἰς τὸν οὐρανὸν

इसका अर्थ है कि वह आकाश की ओर ऊपर देखता है, जो उस स्थान से जुड़ा हुआ है जहाँ परमेश्वर रहता है।

ἐφφαθά

यहाँ लेखक अरामी शब्द से कुछ सन्दर्भित करता है। इस शब्द को आपकी वर्णमाला का उपयोग करके आपकी भाषा में नकल किया जाना चाहिए। (देखें: शब्दों की प्रति बनाना या उधार लेना)

ἐστέναξεν

इसका अर्थ है कि वह चिल्लाया या उसने एक लम्बी गहरी साँस छोड़ दी जिसे सुना जा सकता था। यह सम्भवतः उस व्यक्ति के लिए यीशु की सहानुभूति को दिखाता है।

λέγει αὐτῷ

उस व्यक्ति से कहा

Mark 7:35

ἠνοίγησαν αὐτοῦ αἱ ἀκοαί

इसका अर्थ है कि वह सुन पाने में सक्षम था। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसके कान खुले गए थे और वह सुनने में सक्षम था"" या ""वह सुनने में सक्षम था

ἐλύθη ὁ δεσμὸς τῆς γλώσσης αὐτοῦ

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु ने उसे ले लिया जिसने उसकी जीभ को बोलने से रोका हुआ था"" या ""यीशु ने उसकी जीभ खोल दी"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 7:36

ὅσον…αὐτοῖς διεστέλλετο, αὐτοὶ

यह उसके उनको आदेश देने कि उसने जो कुछ भी किया है उसके बारे में किसी को न बताएँ को संदर्भित करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जितना अधिक उसने उन्हें किसी को न बताने का आदेश दिया"" (देखें: पदन्यूनता)

μᾶλλον περισσότερον

अधिक व्यापक रूप से या ""और अधिक

Mark 7:37

ὑπέρ περισσῶς ἐξεπλήσσοντο

पूरी तरह से चकित थे या ""अत्यन्त आश्चर्यचकित थे"" या ""सभी सोच से परे आश्चर्यचकित थे

τοὺς κωφοὺς…ἀλάλους

ये लोगों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बहरे लोग ... गूँगे लोग"" या ""जो लोग नहीं सुन सकते ... जो लोग बात नहीं कर सकते"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 8

मरकुस 08 सामान्य टिप्पणियाँ

इस अध्याय में विशेष धारणाएँ

रोटी

जब यीशु ने एक आश्चर्यकर्म किया और लोगों की एक बड़ी भीड़ के लिए रोटी की व्यवस्था की, तो सम्भवतः उन्होंने उस बारे में सोचा जब परमेश्वर ने इस्राएल के लोगों को चमत्कारी रूप से भोजन प्रदान किया था जब वे जंगल में थे।

खमीर वह तत्व है जो पकाए जाने से पहले रोटी को लम्बा बनाता है। इस अध्याय में, यीशु खमीर का उपयोग उन बातों के लिए रूपक के रूप में करता है जो लोगों के सोचने, बोलने और कार्य करने के तरीके को परिवर्तित करती है। (देखें: रूपक)

""व्यभिचारी पीढ़ी""

जब यीशु ने लोगों को ""व्यभिचारी पीढ़ी"" कहा, तो वह उन्हें बता रहा था कि वे परमेश्वर के प्रति विश्वासयोग्य नहीं थे। (देखें: विश्वासयोग्य, विश्वासयोग्यता और परमेश्‍वर की प्रजा, मेरी प्रजा)

इस अध्याय में बोले जाने वाले महत्वपूर्ण पात्र

अलंकारिक प्रश्न

यीशु ने चेलों को शिक्षा देने के दोनों तरीके के रूप में कई अलंकारिक प्रश्नों का उपयोग किया (मरकुस 8:17-21) और लोगों को डाँटना (मरकुस 8:12)। (देखें: भाषणगत प्रश्न)

इस अध्याय में अनुवाद सम्बन्धी अन्य सम्भावित कठिनाइयाँ

विरोधाभास

एक विरोधाभास एक सच्चा कथन होता है जो किसी असम्भव बात का वर्णन करते हुए प्रतीत होता है। यीशु एक विरोधाभास का उपयोग करता है जब वह कहता है, ""क्योंकि जो कोई अपना प्राण बचाना चाहता है वह उसे खोएगा, और जो कोई मेरे लिये अपना प्राण खोता है, वह उसे पा लेगा"" (मरकुस 8:35-37).

Mark 8:1

एक बड़ी और भूखी भीड़ यीशु के साथ है। इससे पहले कि यीशु और उसके चेले दूसरे स्थान पर जाने के लिए एक नाव पर चढ़ते हैं वह उन्हें केवल सात रोटियों और कुछ मछली का उपयोग करके खिलाता है।

ἐν ἐκείναις ταῖς ἡμέραις

इस वाक्यांश का उपयोग कहानी में एक नई घटना को प्रस्तुत करने के लिए किया गया है। (देखें: नर्इ घटनाओं का परिचय)

Mark 8:2

ἤδη ἡμέραι τρεῖς προσμένουσίν μοι, καὶ οὐκ ἔχουσιν τι φάγωσιν

यह तीसरा दिन है कि ये लोग मेरे साथ हैं, और उनके पास खाने के लिए कुछ भी नहीं है

Mark 8:3

ἐκλυθήσονται

सम्भावित अर्थ हैं 1) शाब्दिक, ""वे अस्थायी रूप से चेतना को खो सकते हैं"" या 2) बढ़ा चढ़ा कर बोली गई अतिव्यक्ति, ""वे कमजोर हो सकते हैं।"" (देखें: अतिशयोक्ति)

Mark 8:4

πόθεν τούτους δυνήσεταί τις ὧδε χορτάσαι ἄρτων ἐπ’ ἐρημίας?

चेले आश्चर्य व्यक्त कर रहे हैं कि यीशु उनसे पर्याप्त भोजन खोजने में सक्षम होने की अपेक्षा करेगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह स्थान इतनी निर्जन है कि इन लोगों को सन्तुष्ट करने के लिए पर्याप्त रोटी पाने के लिए यहाँ कोई स्थान नहीं है!"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἄρτων

रोटियाँ लोई के पिंड होते हैं जिन्हें आकार देकर पकाया जाता है।

Mark 8:5

ἠρώτα αὐτούς

यीशु ने अपने चेलों से पूछा

Mark 8:6

παραγγέλλει τῷ ὄχλῳ ἀναπεσεῖν ἐπὶ τῆς γῆς

इसे प्रत्यक्ष उद्धरण के रूप में लिखा जा सकता है। ""यीशु ने भीड़ को आज्ञा दी, ""भूमि पर बैठ जाओ'"" (देखें: प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष उद्धरण)

ἀναπεσεῖν

जब कोई मेज न हो, चाहे बैठे हों या लेटे हों, तब संस्कारिक रूप से लोग कैसे खाते हैं, इसके लिए अपनी भाषा का शब्द प्रयोग करें।

Mark 8:7

καὶ εἶχαν

यहाँ ""उनसे"" शब्द का उपयोग यीशु और उसके चेलों के सन्दर्भ में किया गया है।

εὐλογήσας αὐτὰ

यीशु ने मछली के लिए धन्यवाद दिया

Mark 8:8

ἔφαγον

लोगों ने खाया

ἦραν

चेलों ने उठाए

περισσεύματα κλασμάτων ἑπτὰ σπυρίδας

यह मछली और रोटी के टूटे हुए टुकड़ों को दर्शाता है जो लोगों के खाने के बाद छोड़ दिए गए थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""रोटी और मछली के बचे हुए टूटे टुकड़े, जिनसे सात बड़ी टोकरियाँ भर गई थीं"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 8:9

καὶ ἀπέλυσεν αὐτούς

उसने कब उन्हें विदा किया इसको स्पष्ट करना सहायक हो सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उनके खाने के पश्चात्, यीशु ने उन्हें विदा किया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 8:10

ἦλθεν εἰς τὰ μέρη Δαλμανουθά

यह स्पष्ट करना सहायक हो सकता है कि वे दलमनूता को कैसे पहुँचे। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे गलील की झील के चारों ओर जलयात्रा करके दलमनूता क्षेत्र में गए"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Δαλμανουθά

यह गलील की झील के उत्तर-पश्चिमी किनारे पर स्थित एक स्थान का नाम है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 8:11

दलमनूता में, यीशु फरीसियों को एक चिन्ह देने से इंकार कर देता है इससे पहले कि वह और उसके चेले एक नाव में चढ़े और निकल गए।

ζητοῦντες παρ’ αὐτοῦ

के लिए उन्होंने उससे पूछा

σημεῖον ἀπὸ τοῦ οὐρανοῦ

वे एक चिन्ह चाहते थे जो प्रमाणित करेगा कि यीशु का अधिकार और सामर्थ्य परमेश्वर की ओर से थे। सम्भावित अर्थ हैं 1) ""स्वर्ग"" शब्द परमेश्वर के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर से एक संकेत"" या 2) शब्द ""स्वर्गीय"" आकाश को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""आकाश की ओर से एक संकेत"" (देखें: लक्षणालंकार)

πειράζοντες αὐτόν

फरीसियों ने यीशु को इस बात को साबित करने के लिए जाँचने का प्रयास किया कि वह परमेश्वर की ओर से था। कुछ जानकारी स्पष्ट की जा सकती है। वैकल्पिक अनुवाद: ""साबित करने के लिए कि परमेश्वर ने उसे भेजा था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 8:12

ἀναστενάξας τῷ πνεύματι αὐτοῦ

इसका अर्थ है कि वह चिल्लाया या उसने एक लम्बी गहरी साँस छोड़ दी जिसे सुना जा सकता था। यह सम्भवतः यीशु की गहरी उदासी को दिखाता है कि फरीसियों ने उस पर विश्वास करने से इंकार कर दिया। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 7:34

τῷ πνεύματι αὐτοῦ

स्वयं में

τί ἡ γενεὰ αὕτη ζητεῖ σημεῖον?

यीशु उन्हें डाँट रहा है। यह प्रश्न एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इस पीढ़ी को एक चिन्ह नहीं ढूँढ़ना चाहिए।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἡ γενεὰ αὕτη

जब यीशु ""इस पीढ़ी"" के बारे में बोलता है, तो वह उस समय में रहने वाले लोगों को दर्शा कर रहा है। वहाँ इस समूह में फरीसी सम्मिलित हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम और इस पीढ़ी के लोग"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

εἰ δοθήσεται…σημεῖον

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं एक चिन्ह नहीं दूँगा"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 8:13

ἀφεὶς αὐτοὺς, πάλιν ἐμβὰς

यीशु के चेले उसके साथ गए। कुछ जानकारी स्पष्ट की जा सकती है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने उन्हें छोड़ दिया, अपने चेलों के साथ फिर से एक नाव पर चढ़ गया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

εἰς τὸ πέραν

यह गलील की झील का वर्णन करता है, जिसे स्पष्ट रूप से बताया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""झील के दूसरी ओर"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 8:14

जिस समय यीशु और उसके चेले नाव में हैं, वे फरीसियों और हेरोदेस के मध्य समझ की कमी के बारे में चर्चा करते हैं, यद्यपि उन्होंने कई चिन्ह देखे थे।

καὶ

मुख्य कहानी में विराम को चिन्हित करने के लिए यहाँ इस शब्द का उपयोग किया गया है। यहाँ लेखक चेलों का रोटी लाना भूल जाने के बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी बताता है। (देखें: पृष्ठभूमि की जानकारी)

εἰ μὴ ἕνα ἄρτον

नकारात्मक वाक्यांश ""नहीं है"" का प्रयोग इस बात पर जोर देने के लिए किया गया है कि उनके पास कितनी कम रोटी थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""केवल एक रोटी"" (देखें: विडंबना)

Mark 8:15

ὁρᾶτε, βλέπετε

इन दो स्थितियों का एक ही सामान्य अर्थ है और जोर देने के लिए यहाँ दोहराया गया है। उन्हें संयुक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""ध्यान रखो"" (देखें: दोहरात्मक)

τῆς ζύμης τῶν Φαρισαίων καὶ τῆς ζύμης Ἡρῴδου

यहाँ यीशु अपने चेलों से एक रूपक में बात कर रहा है जो वे समझते नहीं हैं। यीशु फरीसियों और हेरोदेस की शिक्षाओं की तुलना खमीर के साथ कर रहा है, परन्तु इसका अनुवाद करते समय आपको इसकी व्याख्या नहीं करनी चाहिए क्योंकि यह स्वयं चेलों की समझ में नहीं आया था। (देखें: रूपक)

Mark 8:16

ὅτι ἄρτους οὐκ ἔχουσιν

इस कथन में, यह बताना सहायक हो सकता है कि यीशु ने जो कहा था ""यह"" उसे दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने ऐसा इसलिए कहा होगा क्योंकि हमारे पास रोटी नहीं है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἄρτους οὐκ ἔχουσιν

नहीं"" शब्द एक बढ़ा चढ़ा कर बोला गया शब्द है। चेलों के पास एक रोटी भी नहीं थी (मरकुस 8:14), परन्तु यह कोई भी रोटी नहीं होने से बहुत अलग नहीं था। वैकल्पिक अनुवाद: ""बहुत थोड़ी रोटी"" (देखें: अतिशयोक्ति)

Mark 8:17

τί διαλογίζεσθε ὅτι ἄρτους οὐκ ἔχετε?

यहाँ यीशु अपने चेलों को हल्के रूप में डाँट रहा है क्योंकि उन्हें समझना चाहिए था कि वह किस के बारे में बात कर रहा था। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम्हें यह नहीं सोचना चाहिए कि मैं वास्तविक रोटी के बारे में बात कर रहा हूँ।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

οὔπω νοεῖτε, οὐδὲ συνίετε?

इन प्रश्नों के एक जैसे ही अर्थ हैं और इन्हें जोर देने के लिए एक साथ उपयोग किया गया है कि वे समझते नहीं थे। इसे एक प्रश्न या एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्या तुम अभी भी नहीं समझते?"" या ""जो बातें मैं कहता हूँ और करता हूँ, अब से उनको तुम्हें जान लेना और समझ लेना चाहिए।"" (देखें: समरूपता और भाषणगत प्रश्न)

πεπωρωμένην ἔχετε τὴν καρδίαν ὑμῶν?

यहाँ ""मन"" किसी व्यक्ति के दिमाग के लिए एक उपनाम है। समझने में सक्षम नहीं होना या इच्छुक नहीं होना के लिए ""मन सुस्त हो गए हैं"" वाक्यांश एक रूपक है। यीशु चेलों को डाँटने के लिए एक प्रश्न का उपयोग करता है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम्हारी सोच इतनी सुस्त हो गई है!"" या ""तुम समझने में इतने धीमे हो कि मेरे कहने का क्या अर्थ है!"" (देखें: लक्षणालंकार और रूपक और भाषणगत प्रश्न)

Mark 8:18

ὀφθαλμοὺς ἔχοντες, οὐ βλέπετε? καὶ ὦτα ἔχοντες, οὐκ ἀκούετε? καὶ οὐ μνημονεύετε?

यीशु धीरे-धीरे अपने चेलों को डाँटता चला जाता है। इन प्रश्नों को कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम्हारे पास आँखें हैं, परन्तु तुम समझ नहीं पाते कि तुम क्या देखते हो। तुम्हारे पास कान हैं, परन्तु तुम समझ नहीं पाते कि तुम क्या सुनते हैं। तुमको याद रखना चाहिए। ""(देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 8:19

τοὺς πεντακισχιλίους

यह यीशु के द्वारा खिलाए गए 5,000 लोगों के संदर्भ में है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह 5,000 लोग"" (देखें: लक्षणालंकार और संख्याएँ)

πόσους κοφίνους κλασμάτων πλήρεις ἤρατε?

कब उन्होंने टुकड़ों की टोकरियों को एकत्र किया था यह बताना सहायक हो सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सभी के द्वारा भोजन को खा लेने के पश्चात् तुमने रोटी के टूटे हुए टुकडों से भरी कितनी टोकरियों को एकत्र किया था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 8:20

τοὺς τετρακισχιλίους

यह यीशु के द्वारा खिलाए गए 4,000 लोगों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""4,000 लोग"" (देखें: लक्षणालंकार और संख्याएँ)

πόσων σπυρίδων πληρώματα κλασμάτων ἤρατε?

कब उन्होंने इन्हें इकट्ठा किया यह बताना सहायक हो सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सभी के द्वारा भोजन को खा लेने के पश्चात् तुमने रोटी के टूटे हुए टुकडों से भरी कितनी टोकरियों को एकत्र किया था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 8:21

πῶς οὔπω συνίετε?

यीशु चेलों के द्वारा समझ न पाने के कारण हल्के से उन्हें डाँट रहा है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अब से तुम्हें वे बातें समझ में आनी चाहिए जिन्हें मैं कहता और करता हूँ।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 8:22

जब यीशु और उसके चेले बैतसैदा में अपनी नाव से उतरते हैं, तो यीशु एक अन्धे व्यक्ति को चंगा करता है।

Βηθσαϊδάν

यह गलील की झील के उत्तरी किनारे पर एक शहर है। देखें कि आपने इस शहर के नाम का अनुवाद कैसे किया है मरकुस 6:45. (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

ἵνα αὐτοῦ ἅψηται

यह बताना सहायक हो सकता है कि वे क्यों चाहते थे कि यीशु उस व्यक्ति को छूए। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसे चंगा करने के लिए उसे छूने के लिए"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 8:23

πτύσας εἰς τὰ ὄμματα αὐτοῦ…ἐπηρώτα αὐτόν

जब यीशु ने उस व्यक्ति की आँखों पर थूक दिया था ... यीशु ने उस व्यक्ति से पूछा

Mark 8:24

ἀναβλέψας

उस व्यक्ति ने ऊपर देखा

βλέπω τοὺς ἀνθρώπους, ὅτι ὡς δένδρα ὁρῶ περιπατοῦντας

वह व्यक्ति चारों ओर लोगों को चलते हुए देखता है, अभी भी वे उसे स्पष्ट नहीं दिखाई देते हैं, इसलिए वह उनकी तुलना पेड़ों से करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हाँ, मैं लोगों को देखता हूँ! वे चारों ओर चल-फिर रहे हैं, परन्तु मैं उन्हें स्पष्ट रूप से नहीं देख पाता। वे पेड़ों की तरह दिखते हैं ""(देखें: उपमा)

Mark 8:25

εἶτα πάλιν ἐπέθηκεν

तब यीशु ने फिर एक और बार

καὶ διέβλεψεν καὶ ἀπεκατέστη

उसकी दृष्टि ठीक हो गई थी"" वाक्यांश को सक्रिय रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उस व्यक्ति की दृष्टि को ठीक करना, और फिर उस व्यक्ति ने अपनी आँखें खोलीं"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 8:27

यीशु और उसके चेले कैसरिया फिलिप्पी के गाँवों को जाने वाले रास्ते पर इसबारे में बात करते हैं कि यीशु कौन है और उसके साथ क्या होगा।

Mark 8:28

οἱ δὲ εἶπαν αὐτῷ λέγοντες

उन्होंने उत्तर दिया,

Ἰωάννην τὸν Βαπτιστήν

चेलों ने उत्तर दिया कि यह वही था जिसके लिए कुछ लोगों ने कहा था कि वह यीशु था। यह और अधिक स्पष्ट रूप से प्रकट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कुछ लोग कहते हैं कि तू यूहन्ना बपतिस्मा देने वाला है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἄλλοι…ἄλλοι

कोई-कोई"" शब्द अन्य लोगों को दर्शाता है। यह यीशु के प्रश्न के प्रति उनके प्रतिउत्तरों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अन्य लोग कहते हैं कि तू ... है और अन्य लोग कहते हैं कि तू ... है"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 8:29

αὐτὸς ἐπηρώτα αὐτούς

यीशु ने अपने चेलों से पूछा

Mark 8:30

ἐπετίμησεν αὐτοῖς ἵνα μηδενὶ λέγωσιν περὶ αὐτοῦ

यीशु नहीं चाहते थे कि वे किसी को यह बताए कि वह मसीह था। इसे और अधिक स्पष्ट किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त, इसे प्रत्यक्ष उद्धरण के रूप में भी लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु ने उन्हें चेतावनी दी कि वे किसी को भी यह न बताएँ कि वह मसीह है"" या ""यीशु ने उन्हें चेतावनी दी, 'किसी को भी मत बताना कि मैं मसीह हूँ' (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना और प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष उद्धरण)

Mark 8:31

τὸν Υἱὸν τοῦ Ἀνθρώπου

यह यीशु के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

ἀποδοκιμασθῆναι ὑπὸ τῶν πρεσβυτέρων…καὶ μετὰ τρεῖς ἡμέρας ἀναστῆναι

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह कि पुरनिए और महायाजक और शास्त्री उसे अस्वीकार कर देंगे, और लोग उसे मार डालेंगे, और तीन दिनों के बाद वह जी उठेगा"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 8:32

παρρησίᾳ τὸν λόγον ἐλάλει

उसने इस तरह से ऐसा कहा जो कि समझने में आसान था

ἤρξατο ἐπιτιμᾶν αὐτῷ

पतरस ने यीशु को उन बातों को कहने के बारे में डाँटा जो उसने मनुष्य के पुत्र के साथ घटित होने के लिए कही थीं। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इन बातों को कहने के लिए उसे डाँटना करना आरम्भ कर दिया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 8:33

यीशु के मरने और जी उठने की इच्छा न रखने के कारण पतरस को डाँटने के पश्चात्, यीशु अपने चेलों और भीड़ दोनों को बताते हैं कि कैसे उसका अनुसरण किया जाए।

ὕπαγε ὀπίσω μου, Σατανᾶ, ὅτι οὐ φρονεῖς

यीशु के कहने का अर्थ है कि पतरस शैतान की तरह काम कर रहा है क्योंकि परमेश्वर ने यीशु को जो काम करने के लिए भेजा है पतरस उसे वह पूरा करने से रोकने का प्रयास कर रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मेरे पास से दूर हो जाओ, क्योंकि तुम शैतान की तरह व्यवहार कर रहे हो! तुम स्थिर नहीं हो रहे हो ""(देखें: रूपक)

ὕπαγε ὀπίσω μου

मुझसे दूर चले जाओ

Mark 8:34

ὀπίσω μου ἀκολουθεῖν

यहाँ यीशु के पीछे चलना उसके चेलों में से एक होने का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मेरा चेला बनो"" या ""मेरे चेलों में से एक बनो"" (देखें: रूपक)

ἀπαρνησάσθω ἑαυτὸν

अपनी इच्छाओं के अधीन नहीं होना है या ""अपनी इच्छाओं को त्यागना है

ἀράτω τὸν σταυρὸν αὐτοῦ, καὶ ἀκολουθείτω μοι

अपना क्रूस उठाए और मेरे पीछे हो ले। क्रूस पीड़ा और मृत्यु का प्रतिनिधित्व करता है। क्रूस उठाना पीड़ित होने और मरने के लिए इच्छुक होने का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""पीड़ित होने और मरने तक भी मेरी आज्ञा का पालन करना है"" (देखें: लक्षणालंकार और रूपक)

ἀκολουθείτω μοι

यीशु के पीछे चलना यहाँ उसकी आज्ञा का पालन करने का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मेरी आज्ञा का पालन करो"" (देखें: रूपक)

Mark 8:35

ὃς γὰρ ἐὰν θέλῃ

जो कोई भी चाहता है उसके लिए

τὴν ψυχὴν

यह सांसारिक जीवन और आत्मिक जीवन दोनों के विषय है।

ἕνεκεν ἐμοῦ καὶ τοῦ εὐαγγελίου

मेरे लिए और सुसमाचार के लिए। यीशु उन लोगों के बारे में बात कर रहा है जो अपने प्राण इसलिए गँवा देते हैं क्योंकि वे यीशु और सुसमाचार के पीछे चलते हैं। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि वह मेरे पीछे चलता है और दूसरों को सुसमाचार बताता है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 8:36

τί γὰρ ὠφελεῖ ἄνθρωπον, κερδήσῃ τὸν κόσμον ὅλον καὶ ζημιωθῆναι τὴν ψυχὴν αὐτοῦ?

इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यहाँ तक कि यदि कोई व्यक्ति पूरे संसार को भी प्राप्त कर ले, तौभी यह उसे लाभ नहीं पहुँचाएगा यदि वह अपने जीवन को ही खो देता है।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

κερδήσῃ τὸν κόσμον ὅλον καὶ ζημιωθῆναι τὴν ψυχὴν αὐτοῦ

इसे ""यदि"" शब्द से आरम्भ होने वाली शर्त के रूप में भी व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि वह मेरे पीछे चलता है और दूसरों को सुसमाचार बताता है"" देखें:

κερδήσῃ τὸν κόσμον ὅλον

पूरे संसार"" बहुत धन के लिए एक बढ़ा चढ़ा कर बोला गया एक शब्द है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो कुछ भी वह कभी चाहता था उसे प्राप्त कर ले"" (देखें: अतिशयोक्ति)

ζημιωθῆναι

कुछ गँवा देना उसे खो देना है या किसी अन्य व्यक्ति का इसको ले लेना है।

Mark 8:37

τί γὰρ δοῖ ἄνθρωπος ἀντάλλαγμα τῆς ψυχῆς αὐτοῦ?

इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""ऐसा कुछ भी नहीं है जिसे कोई व्यक्ति अपने जीवन के बदले दे सकता है।"" या ""कोई भी अपने जीवन के बदले में कुछ भी नहीं दे सकता है।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

τί…δοῖ ἄνθρωπος

यदि आपकी भाषा ""देने"" में यह माँग करती है कि जो कुछ दिया गया है उसे कोई प्राप्त करे, तो ""परमेश्वर"" को प्राप्तकर्ता के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक व्यक्ति परमेश्वर को क्या दे सकता है

Mark 8:38

ἐπαισχυνθῇ με καὶ τοὺς ἐμοὺς λόγους

मेरे और मेरे सन्देश के कारण शर्मिन्दा है

ἐν τῇ γενεᾷ ταύτῃ, τῇ μοιχαλίδι καὶ ἁμαρτωλῷ

यीशु इस पीढ़ी को ""व्यभिचारी"" कहता है, जिसका अर्थ है कि वे परमेश्वर के साथ अपने सम्बन्ध में विश्वासघाती हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""इस पीढ़ी के लोगों ने जिन्होंने ईश्वर के विरूद्ध व्यभिचार किया है और वे बहुत ही बड़े पापी हैं"" या ""इस पीढ़ी के लोगों में जो ईश्वर के प्रति अविश्वासी हैं और बहुत ही बड़े पापी हैं"" (देखें: रूपक)

ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου

यह यीशु के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

ὅταν ἔλθῃ

जब वह वापस आता है

ἐν τῇ δόξῃ τοῦ Πατρὸς αὐτοῦ

जब यीशु लौटता है तो उसके पिता के समान ही उसकी महिमा होगी।

μετὰ τῶν ἀγγέλων τῶν ἁγίων

पवित्र स्वर्गदूतों के साथ

Mark 9

मरकुस 09 सामान्य टिप्पणियाँ

इस अध्याय में पाई जाने वाली विशेष धारणाएँ

""रूपान्तरण""

पवित्रशास्त्र अक्सर एक बड़े और उज्जवल प्रकाश के रूप में परमेश्वर की महिमा के बारे में बोलता है। जब लोग इस प्रकाश को देखते हैं, तो वे डरते हैं। मरकुस इस अध्याय में कहता है कि यीशु के कपड़े इस महिमामयी प्रकाश से चमकने लगे जिससे कि उसके अनुयायी देख सके कि यीशु वास्तव में परमेश्वर का पुत्र था। उसी समय, परमेश्वर ने उनसे कहा कि यीशु उसका पुत्र था। (देखें: महिमा, महिमामय, गौरव और डर, भय, भयभीत, डरना)

इस अध्याय में बोलने वाले महत्वपूर्ण पात्र

बढ़ा चढ़ा कर बोला गया

यीशु ने ऐसी बातें कही थी जिसकी उसने अपने अनुयायियों से सचमुच में समझने की अपेक्षा नहीं की थी। जब उसने कहा, ""यदि तेरा हाथ तुझे ठोकर खिलाता है, तो इसे काट डाल"" (मरकुस 9:43), वह बढ़ा चढ़ा कर बोल रहा था इसलिए कि वे जान जाएँ उन्हें किसी भी ऐसी वस्तु से दूर रहना चाहिए जो उनसे पाप करवाती है, भले ही यदि वह ऐसा कुछ था जिसे वे पसन्द करते थे या सोचते थे कि उन्हें उसकी आवश्यकता है।

इस अध्याय में अनुवाद सम्बन्धी अन्य सम्भावित कठिनाइयाँ

एलिय्याह और मूसा

एलिय्याह और मूसा अचानक यीशु, याकूब, यूहन्ना और पतरस के सामने प्रकट हुए, और फिर वे लुप्त हो गए। उन चारों ने एलिय्याह और मूसा को देखा, और क्योंकि एलिय्याह और मूसा ने यीशु के साथ बात की, पाठक को यह समझना चाहिए कि एलिय्याह और मूसा शारीरिक रूप से प्रकट हुए थे।

""मनुष्य का पुत्र""

इस अध्याय में यीशु स्वयं को ""मनुष्य के पुत्र"" के रूप में सन्दर्भित करता है (मरकुस 9:31). आपकी भाषा लोगों को स्वयं के लिए ऐसी बात करने की अनुमति न दे जैसे कि वे किसी और के बारे में बात कर रहे थे। (देखें: मनुष्य का पुत्र, मनुष्य का पुत्र और प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरुष)

विरोधाभास

एक विरोधाभास एक सच्चा कथन होता है जो कुछ असम्भव को व्यक्त करने के लिए प्रकट होता है। यीशु एक विरोधाभास का उपयोग करता है जब वह कहता है, ""यदि कोई बड़ा होना चाहे, तो वह सबसे छोटा और सबका सेवक बने"" (मरकुस 9:35).

Mark 9:1

यीशु केवल लोगों से और अपने चेलों से उसके पीछे चलने के बारे में बात कर रहा है। छह दिन बाद, यीशु अपने तीन चेलों के साथ एक पहाड़ पर जाता है जहाँ उसका रूप परमेश्वर के राज्य में एक दिन की तरह दिखाई देने वाले रूप में अस्थायी रूप से परिवर्तित हो जाता है।

ἔλεγεν αὐτοῖς

यीशु ने अपने चेलों से कहा

τὴν Βασιλείαν τοῦ Θεοῦ ἐληλυθυῖαν ἐν δυνάμει

परमेश्वर का राज्य आ रहा है, का अर्थ है परमेश्वर स्वयं को राजा के रूप में दिखा रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर स्वयं को राजा के रूप में बड़ी सामर्थ्य के साथ दिखाता है"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 9:2

κατ’ ἰδίαν μόνους

लेखक यहाँ पर कर्मकर्ता सर्वनाम ""उनके"" का उपयोग इस बात पर बल देने के लिए करता है कि वे अकेले थे और केवल यीशु, पतरस, याकूब और यूहन्ना पहाड़ पर ऊपर चढ़े थे। (देखें: कर्मकर्त्ता सर्वनाम)

μετεμορφώθη ἔμπροσθεν αὐτῶν

जब उन्होंने उसे देखा, तो रूप पहले से अलग था।

μετεμορφώθη

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसका रूप बदल गया था"" या ""वह बहुत ही अलग दिखाई दिया था"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

ἔμπροσθεν αὐτῶν

उनके सामने या ""जिससे कि वे उसे स्पष्ट रूप से उसे देख सकें

Mark 9:3

στίλβοντα

चमक रहा है या ""उज्जवल हो रहा था"" यीशु के वस्त्र इतने सफेद थे कि वे चमक को उत्सर्जित कर रहे थे या प्रकाश फेंक रहे थे।

λείαν

जितना सम्भव हो उतना अधिक या बहुत से अधिक

οἷα γναφεὺς ἐπὶ τῆς γῆς οὐ δύναται οὕτως λευκᾶναι

ब्लीचिंग प्राकृतिक सफेद ऊन को ब्लीच या अमोनिया जैसे रसायनों का उपयोग करके और भी अधिक सफेद बनाने की प्रक्रिया का वर्णन करती है। वैकल्पिक अनुवाद: ""पृथ्वी पर कोई भी व्यक्ति उसको जितना सफेद कर सकता है उसकी तुलना में और भी अधिक सफेद

Mark 9:4

ὤφθη…Ἠλείας σὺν Μωϋσεῖ

यह कहना उपयोगी हो सकता है कि ये लोग कौन हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""एलिय्याह और मूसा, दो भविष्यवक्ता प्रकट हुए जो बहुत पहले रहते थे"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἦσαν συνλαλοῦντες

वे"" शब्द एलिय्याह और मूसा को प्रकट करता है।

Mark 9:5

ἀποκριθεὶς ὁ Πέτρος λέγει τῷ Ἰησοῦ

पतरस ने यीशु से कहा। वार्तालाप में पतरस को प्रस्तुत करने के लिए यहाँ ""उत्तर"" शब्द का उपयोग किया गया है। पतरस एक प्रश्न का उत्तर नहीं दे रहा था।

καλόν ἐστιν ἡμᾶς ὧδε εἶναι

यह स्पष्ट नहीं है कि ""हम"" केवल पतरस, याकूब और यूहन्ना को के विषय है, या यह यीशु, एलिय्याह और मूसा समेत सभी को प्रकट करता है। यदि आप अनुवाद कर सकते हैं तो ऐसा करें ताकि दोनों विकल्प सम्भव हों। (देखें: विशिष्ट एवं संयुक्त ‘‘हम’’ और समावेशी और अनन्य ‘‘हम’’)

σκηνάς

साधारण सा, अस्थायी स्थान जिनमें बैठना या सोना होता है

Mark 9:6

οὐ γὰρ ᾔδει τί ἀποκριθῇ; ἔκφοβοι γὰρ ἐγένοντο

यह मूलभूत वाक्य पतरस, याकूब और यूहन्ना के बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी बताता है। (देखें: पृष्ठभूमि की जानकारी)

ἔκφοβοι…ἐγένοντο

वे बहुत भयभीत थे या ""वे बहुत डरे हुए थे

Mark 9:7

ἐγένετο…ἐπισκιάζουσα

प्रकट हुआ और ढक लिया

καὶ ἐγένετο φωνὴ ἐκ τῆς νεφέλης

यहाँ ""एक आवाज़ आई"" किसी के बोलने के लिए एक उपनाम है। यह स्पष्ट रूप से भी कहा जा सकता है कि किसने बात की थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""तब किसी ने बादल में से बात की"" या ""तब परमेश्वर ने बादल में से बात की"" (देखें: लक्षणालंकार और अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

οὗτός ἐστιν ὁ Υἱός μου, ὁ ἀγαπητός, ἀκούετε αὐτοῦ

परमेश्वर पिता अपने पुत्र ""प्रिय पुत्र"" के लिए अपना प्रेम को व्यक्त करता है।

ὁ Υἱός…ὁ ἀγαπητός

यह परमेश्वर के पुत्र यीशु के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

Mark 9:8

περιβλεψάμενοι

यहाँ ""वे"" पतरस, याकूब और यूहन्ना को दर्शा रहे हैं।

Mark 9:9

διεστείλατο αὐτοῖς ἵνα μηδενὶ…εἰ μὴ ὅταν ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου ἐκ νεκρῶν ἀναστῇ

इसका तात्पर्य यह है कि वह उन लोगों को इस बारे में बताने की अनुमति दे रहा था कि उन्होंने क्या देखा था परन्तु केवल उसके मर कर जी उठने के बाद ही। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἐκ νεκρῶν ἀναστῇ

मरे हुओं में से जी उठा। यह फिर से जीवित हो जाने की बात करता है। ""मरे हुओं"" वाक्यांश ""मरे हुए लोगों"" को सन्दर्भित करता है और मृत्यु के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मृत्यु में से जी उठा है"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 9:10

ἐκ νεκρῶν ἀναστῆναι

मरे हुओं में से जी उठने के लिए। यह फिर से जीवित हो जाने की बात करता है। ""मरे हुओं"" वाक्यांश ""मरे हुए लोगों"" को सन्दर्भित करता है और मृत्यु के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मृत्यु में से जी उठना"" (देखें: लक्षणालंकार)

καὶ τὸν λόγον ἐκράτησαν πρὸς ἑαυτοὺς

यहाँ ""इस बात को अपने तक ही रखा"" एक मुहावरा है जिसका अर्थ है कि उन्होंने जो कुछ भी देखा था उसके बारे में किसी को नहीं बताया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसलिए उन्होंने किसी को यह नहीं बताया कि उन्होंने क्या देखा था"" (देखें: मुहावरे)

Mark 9:11

यद्यपि पतरस, याकूब और यूहन्ना ने सोचा कि ""मरे हुओं में से जी उठना"" के लिए यीशु का क्या अर्थ हो सकता है, इसके बजाए उन्होंने एलिय्याह के आने के बारे में उससे पूछा।

ἐπηρώτων αὐτὸν

वे"" शब्द पतरस, याकूब और यूहन्ना को प्रकट करता है।

λέγουσιν οἱ γραμματεῖς ὅτι Ἠλείαν δεῖ ἐλθεῖν πρῶτον?

भविष्यद्वाणी ने पूर्वकथित कह दिया था कि एलिय्याह फिर से स्वर्ग से आएगा। तब मसीह, जो मनुष्य का पुत्र है, शासन करने और राज्य करने आएगा। चेले इस बारे में उलझन में हैं कि कैसे मनुष्य का पुत्र मर सकता है और फिर जी उठ सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""शास्त्री ऐसा क्यों कहते हैं कि मसीह के आने से पहले एलिय्याह को आना है?"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 9:12

Ἠλείας μὲν ἐλθὼν πρῶτον ἀποκατιστάνει πάντα

यह कहने के द्वारा, यीशु पुष्टि करता है कि एलिय्याह पहले आएगा।

πῶς γέγραπται…ἐξουδενηθῇ?

यीशु अपने चेलों को याद दिलाने के लिए इस प्रश्न का उपयोग करता है कि पवित्रशास्त्र भी यह सिखाता है कि मनुष्य के पुत्र को दुःख उठाना है और वह तुच्छ जाना जाएगा। इसे एक कथन के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु मैं यह भी चाहता हूँ कि तुम मान लो कि मनुष्य के पुत्र के बारे में क्या लिखा गया है। पवित्रशास्त्र का कहना है कि उन्हें कई बातों में दुख उठाना होगा और घृणा को सहन करना होगा। ""(देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἐξουδενηθῇ

यह सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोग उससे घृणा करेंगे"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 9:13

ἐποίησαν αὐτῷ ὅσα ἤθελον

लोगों ने एलिय्याह के साथ क्या किया, यह बताना सहायक हो सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हमारे अगुवों ने उसके साथ बहुत बुरी तरह से व्यवहार किया, जैसा वे करना चाहते थे"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 9:14

जब पतरस, याकूब, यूहन्ना और यीशु पहाड़ से नीचे आए, तो उन्होंने अन्य चेलों के साथ शास्त्रियों को वाद-विवाद करते पाया।

ἐλθόντες πρὸς τοὺς μαθητὰς

यीशु, पतरस, याकूब और यूहन्ना उन अन्य चेलों के पास लौट आए जो पहाड़ पर उनके साथ ऊपर नहीं गए थे।

εἶδον ὄχλον πολὺν περὶ αὐτοὺς

यीशु और उन तीन शिष्यों ने दूसरे शिष्यों के चारों ओर एक बड़ी भीड़ देखी

γραμματεῖς συνζητοῦντας πρὸς αὐτούς

शास्त्री उन चेलों के साथ जो यीशु के साथ नहीं गए वाद-विवाद कर रहे थे।

Mark 9:15

ἐξεθαμβήθησαν

यह बताना सहायक हो सकता है कि वे आश्चर्यचकित क्यों थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""आश्चर्यचकित थे कि यीशु आ गया था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 9:17

यह समझाने के लिए कि शास्त्री और अन्य चेले किस बारे में वाद-विवाद कर रहे थे, एक दुष्टात्मा से ग्रसित व्यक्ति के पिता ने यीशु को बताया कि उसने चेलों से अपने पुत्र में से दुष्टात्मा को निकालने के लिए कहा था, परन्तु वे नहीं कर सके। फिर यीशु ने दुष्टात्मा को लड़के से बाहर निकाल दिया। बाद में चेलों ने पूछा कि वे दुष्टात्मा को क्यों नहीं निकाल पाए।

ἔχοντα πνεῦμα

इसका अर्थ है कि लड़का में एक अशुद्ध आत्मा थी। ""उसमें एक अशुद्ध आत्मा है"" या ""वह एक अशुद्ध आत्मा से ग्रस्त है"" (देखें: मुहावरे)

Mark 9:18

ἀφρίζει

पटकने या कब्जा से किसी व्यक्ति को सांस लेने या निगलने में परेशानी हो सकती है। यह मुँह से सफेद फेन के बाहर आने का कारण बनता है। यदि आपकी भाषा में उसे वर्णन करने का कोई तरीका है, तो आप उसका उपयोग कर सकते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""बुलबुले उसके मुँह से बाहर निकलते हैं

ξηραίνεται

वह अकड़ जाता है या ""उसका शरीर कठोर हो जाता है

οὐκ ἴσχυσαν

यह उन चेलों को दर्शाता है जो लड़के से आत्मा को बाहर नहीं निकाल पाए थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे इसे बाहर नहीं निकाल सके थे "" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 9:19

ὁ…ἀποκριθεὶς αὐτοῖς

यद्यपि वह लड़के का पिता था जिसने यीशु से अनुरोध किया था, यीशु भीड़ को उत्तर देते हैं। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु ने भीड़ को उत्तर दिया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ὦ γενεὰ ἄπιστος

हे अविश्वासी पीढ़ी। यीशु भीड़ को यह कहता है, जब वह उन्हें उत्तर देना आरम्भ करता है।

ἕως πότε πρὸς ὑμᾶς ἔσομαι?…ἀνέξομαι ὑμῶν?

यीशु अपनी निराशा व्यक्त करने के लिए इन प्रश्नों का उपयोग करता है। दोनों प्रश्नों का एक ही अर्थ है। उन्हें कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं तुम्हारे अविश्वास से थक गया हूँ!"" या ""तुम्हारा अविश्वास मुझे थका देता है! मुझे आश्चर्य है कि मुझे तुम्हें कब तक सहन करना होगा। ""(देखें: भाषणगत प्रश्न और समरूपता)

ἀνέξομαι ὑμῶν

तुम्हें सहन करना या ""तुम्हें बर्दाश्त करना

φέρετε αὐτὸν πρός με

लड़के को मेरे पास लाओ

Mark 9:20

τὸ πνεῦμα

यह अशुद्ध आत्मा को दर्शाता है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 9:17

συνεσπάραξεν αὐτόν

यह एक ऐसी स्थिति है जहाँ एक व्यक्ति का अपने शरीर पर कोई नियन्त्रण नहीं होता है, और उसका शरीर हिंसक रूप से हिलता है।

Mark 9:21

ἐκ παιδιόθεν

क्योंकि वह एक छोटा बच्चा था। इसे पूरे वाक्य के रूप में बताना सहायक हो सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब वह छोटा बच्चा ही था तब से वह इस तरह से है"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 9:22

σπλαγχνισθεὶς

तरस खा

Mark 9:23

εἰ δύνῃ?

यीशु ने दोहराया कि उस व्यक्ति ने उससे क्या कहा था। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्या तुम मुझसे कहते हो 'यदि तू सक्षम है'? या ""तुम क्यों कहते हो 'यदि तू सक्षम है?"" (देखें: पदन्यूनता)

εἰ δύνῃ?

यीशु ने इस प्रश्न का उपयोग व्यक्ति के सन्देह को डाँटने के लिए किया था। इसे एक कथन के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम्हें मुझसे यह नहीं कहना चाहिए, 'यदि तू सक्षम है।'"" या ""तुम मुझसे कहते हो कि क्या मैं सक्षम हूँ। नि:सन्देह मैं सक्षम हूँ। ""(देखें: भाषणगत प्रश्न)

πάντα δυνατὰ τῷ πιστεύοντι

परमेश्वर उन लोगों के लिए कुछ भी कर सकते हैं जो उस पर विश्वास करते हैं

τῷ πιστεύοντι

व्यक्ति के लिए या ""किसी के लिए भी

τῷ πιστεύοντι

यह परमेश्वर पर विश्वास को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर पर विश्वास करता है

Mark 9:24

βοήθει μου τῇ ἀπιστίᾳ

वह व्यक्ति यीशु से अपने अविश्वास को दूर करने और उसके विश्वास को बढ़ाने में सहायता करने के लिए कह रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब मैं विश्वास नहीं करता हूँ तब मेरी सहायता करो"" या ""मुझे अधिक विश्वास रखने में सहायता करो

Mark 9:25

ἐπισυντρέχει ὄχλος

इसका अर्थ है कि यीशु जहाँ था उस ओर अधिक लोग बढ़ते चले आ रहे थे और वहाँ की भीड़ बढ़ रही थी।

τὸ ἄλαλον καὶ κωφὸν πνεῦμα

गूँगा"" और ""बहरा"" शब्दों को समझाया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हे अशुद्ध आत्मा, तू जो लड़के को बोलने में और सुनने में असमर्थ कर रही है

Mark 9:26

κράξας

अशुद्ध आत्मा चिल्लाई

πολλὰ σπαράξας, αὐτόν

लड़के को हिंसक तरीके से झिंझोड़ दिया

ἐξῆλθεν

यह निहित है कि दुष्टात्मा लड़के से बाहर आई थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""लड़के से बाहर निकल आई"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἐγένετο ὡσεὶ νεκρὸς

लड़के की हालत की तुलना किसी मृत व्यक्ति से की गई है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लड़का मरा हुआ दिखाई दिया"" या ""लड़का एक मृत व्यक्ति की तरह दिखाई दिया"" (देखें: उपमा)

ὥστε τοὺς πολλοὺς

यहाँ तक कि बहुत से लोग

Mark 9:27

κρατήσας τῆς χειρὸς αὐτοῦ

इसका अर्थ है कि यीशु ने अपने हाथ से लड़के के हाथ को पकड़ लिया। वैकल्पिक अनुवाद: ""हाथ से लड़के को पकड़ लिया"" (देखें: मुहावरे)

ἤγειρεν αὐτόν

उसे उठने में सहायता की

Mark 9:28

κατ’ ἰδίαν

इसका अर्थ है कि वे अकेले थे।

ἐκβαλεῖν αὐτό

अशुद्ध आत्मा को बाहर निकाल दें। इस आत्मा को लड़के से बाहर निकालने का आदेश देता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अशुद्ध आत्मा को लड़के से बाहर निकाल दें"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 9:29

τοῦτο τὸ γένος ἐν οὐδενὶ δύναται ἐξελθεῖν, εἰ μὴ ἐν προσευχῇ καὶ νηστεία

नहीं निकल सकती"" और ""बिना"" यह दोनों नकारात्मक शब्द हैं। कुछ भाषाओं में सकारात्मक कथन का उपयोग करना अधिक स्वाभाविक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इस प्रकार की चीज को केवल प्रार्थना के द्वारा बाहर निकाला जा सकता है"" (देखें: दोहरे नकारात्मक)

τοῦτο τὸ γένος

यह अशुद्ध आत्माओं का वर्णन करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इस प्रकार की अशुद्ध आत्मा"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 9:30

दुष्टात्माओं से लड़के को चंगा करने के बाद, यीशु और उसके चेलों ने घर छोड़ दिया जहाँ वे रह रहे थे। वह अकेले में अपने चेलों को सिखाने के लिए समय निकालता है।

κἀκεῖθεν ἐξελθόντες

यीशु और उसके चेलों ने उस क्षेत्र को छोड़ दिया

παρεπορεύοντο διὰ

से होकर यात्रा की या ""से होकर निकले

Mark 9:31

ἐδίδασκεν γὰρ τοὺς μαθητὰς αὐτοῦ

यीशु भीड़ से दूर अपने शिष्यों को व्यक्तिगत् रूप से शिक्षा दे रहा था। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि वह अपने चेलों को व्यक्तिगत् रूप से शिक्षा दे रहा था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου παραδίδοται

इसे सक्रिय रूप में अनुवाद किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कोई मनुष्य के पुत्र को पकड़वाएगा"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου

यहाँ यीशु स्वयं को मनुष्य के पुत्र के रूप में प्रकट करता है। यह यीशु के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। ""मैं, मनुष्य का पुत्र,"" (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

εἰς χεῖρας ἀνθρώπων

यहाँ ""हाथ"" नियन्त्रण के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोगों के नियन्त्रण में"" या ""ताकि लोग उस पर नियन्त्रण करने में सक्षम होंगे"" (देखें: लक्षणालंकार)

ἀποκτανθεὶς, μετὰ τρεῖς ἡμέρας ἀναστήσεται

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उनके द्वारा मार दिए जाने और तीन दिन बीत जाने के पश्चात्, वह"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 9:32

ἐφοβοῦντο αὐτὸν ἐπερωτῆσαι

वे यीशु से पूछने से डरते थे कि उसके कथन का क्या अर्थ था। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे उससे पूछने से डरते थे कि इसका क्या अर्थ है"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 9:33

जब वे कफरनहूम आए, तो यीशु अपने चेलों को नम्र सेवक होने के बारे में सिखाता है। (देखें: नर्इ घटनाओं का परिचय)

ἦλθον εἰς

वे पहुँचे ""वे"" शब्द यीशु और उसके चेलों को प्रकट करता है।

διελογίζεσθε

क्या तुम एक दूसरे के साथ चर्चा कर रहे थे

Mark 9:34

οἱ…ἐσιώπων

वे चुप थे क्योंकि वे यीशु को यह बताने में शर्मिन्दा थे कि वे किस बारे में चर्चा कर रहे थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे चुप थे क्योंकि वे शर्मिन्दा थे"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

τίς μείζων

यहाँ ""बड़ा"" चेलों में से ""बड़े"" को बतलाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उनमें से सबसे बड़ा कौन था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 9:35

εἴ τις θέλει πρῶτος εἶναι, ἔσται πάντων ἔσχατος

यहाँ शब्द ""बड़ा"" और ""छोटा"" एक दूसरे के विरोध हैं। यीशु ""अधिक महत्वपूर्ण"" होने को ""बड़ा"" होना और ""कम महत्वपूर्ण"" होने को ""छोटा"" होना कहता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि कोई चाहता है कि परमेश्वर उसे सबसे अधिक महत्वपूर्ण व्यक्ति मानें, तो उसे स्वयं को सबसे कम महत्वपूर्ण मानना चाहिए"" (देखें: रूपक)

πάντων

सभी लोगों का … सभी लोगों का

Mark 9:36

ἐν μέσῳ αὐτῶν

उनके बीच में। ""उनके"" शब्द भीड़ से सम्बन्ध रखता है।

ἐναγκαλισάμενος αὐτὸ

इसका अर्थ है कि उसने बच्चे को गले लगा लिया या उसे उठा लिया और उसे अपनी गोद में रखा।

Mark 9:37

ἓν τῶν τοιούτων παιδίων

इस तरह का एक बच्चा

ἐπὶ τῷ ὀνόματί μου

इसका अर्थ यीशु के लिए प्रेम के कारण कुछ करना है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि वह मुझसे प्रेम करता है"" या ""मेरे लिए"" (देखें: मुहावरे)

τὸν ἀποστείλαντά με

यह परमेश्वर को प्रकट करता है, जिसने उसे पृथ्वी पर भेजा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर, जिसने मुझे भेजा है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 9:38

ἔφη αὐτῷ ὁ Ἰωάννης

यूहन्ना ने यीशु से कहा

ἐκβάλλοντα δαιμόνια

दुष्टात्माओं को बाहर निकालना यह लोगों से दुष्टात्माओं को बाहर निकालने को दर्शा रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोगों से दुष्टात्माओं को बाहर निकाल रहा है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἐν τῷ ὀνόματί σου

यहाँ ""नाम"" यीशु के अधिकार और शक्ति से जुड़ा हुआ है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तेरे नाम के अधिकार से"" या ""तेरे नाम की सामर्थ्य से"" (देखें: लक्षणालंकार)

οὐκ ἠκολούθει ἡμῖν

इसका अर्थ है कि वह उसके चेलों के समूह में नहीं है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह हम में से एक नहीं है"" या ""वह हमारे साथ नहीं चलता है"" (देखें: मुहावरे)

Mark 9:40

οὐκ ἔστιν καθ’ ἡμῶν

हमारा विरोध नहीं कर रहा है

ὑπὲρ ἡμῶν ἐστιν

यह स्पष्ट रूप से समझाया जा सकता है इसका क्या अर्थ है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हमारी तरह एक ही लक्ष्य को प्राप्त करने का प्रयास कर रहा है

Mark 9:41

ποτίσῃ ὑμᾶς ποτήριον ὕδατος ἐν ὀνόματι, ὅτι Χριστοῦ ἐστε

यीशु किसी को एक प्याला पानी देने के बारे में उदाहरण के रूप में बताता है कि एक व्यक्ति दूसरे की सहायता कैसे कर सकता है। यह किसी भी तरह से किसी की सहायता करने के लिए एक रूपक है। (देखें: रूपक)

οὐ μὴ ἀπολέσῃ

यह नकारात्मक वाक्य सकारात्मक अर्थ पर जोर देता है। कुछ भाषाओं में, सकारात्मक कथन का उपयोग करना अधिक स्वाभाविक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""निश्चित रूप से प्राप्त करना"" (देखें: विडंबना)

Mark 9:42

μύλος

अनाज को आटे में पीसने के लिए उपयोग किया जाने वाला एक बड़ा, गोल पत्थर

Mark 9:43

ἐὰν σκανδαλίσῃ σε ἡ χείρ σου

यहाँ ""हाथ"" कुछ पापपूर्ण करने की इच्छा रखने के लिए एक उपनाम है जिसे आप अपने हाथ से करोगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि तुम अपने हाथों में से किसी एक से कुछ पापपूर्ण करना चाहते हो"" (देखें: लक्षणालंकार)

κυλλὸν εἰσελθεῖν εἰς τὴν ζωὴν

टुण्डा होना और फिर जीवन में प्रवेश करना या ""जीवन में प्रवेश करने से पहले टुण्डा होना

εἰσελθεῖν εἰς τὴν ζωὴν

मरना और फिर सदैव के लिए जीना आरम्भ करना जीवन में प्रवेश करने के रूप में बोला जाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अनन्त जीवन में प्रवेश करने के लिए"" या ""मरने और सदैव के लिए जीना आरम्भ करें"" (देखें: रूपक)

κυλλὸν

काट के हटा देने या घायल होने के परिणामस्वरूप शरीर के अंग को खो देना। यहाँ यह एक हाथ को खो देने को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक हाथ के बिना"" या ""एक हाथ को खोकर

εἰς τὸ πῦρ τὸ ἄσβεστον

जहाँ की आग बुझाई नहीं जा सकती है

Mark 9:45

ἐὰν ὁ πούς σου σκανδαλίζῃ σε

यहाँ ""पैर"" शब्द कुछ पापपूर्ण करने की इच्छा रखने के लिए एक उपनाम है जिसे आप अपने पैरों से करोगे, जैसे किसी ऐसे स्थान पर जाना जहाँ आपको नहीं जाना चाहिए। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि तुम अपने पैरों में से किसी एक से कुछ पापपूर्ण करना चाहते हो"" (देखें: लक्षणालंकार)

εἰσελθεῖν εἰς τὴν ζωὴν χωλὸν

लंगड़ा होना और फिर जीवन में प्रवेश करना या ""जीवन में प्रवेश करने से पहले लंगड़ा होना

εἰσελθεῖν εἰς τὴν ζωὴν

मरना और फिर सदैव के लिए जीना आरम्भ करना जीवन में प्रवेश करने के रूप में बोला जाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अनन्त जीवन में प्रवेश करने के लिए"" या ""मरने और सदैव के लिए जीना आरम्भ करें"" (देखें: रूपक)

χωλὸν

आसानी से चलने में असमर्थ। यहाँ यह एक पैर खो देने के कारण अच्छी तरह से चलने में सक्षम नहीं होने को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक पैर के बिना"" या ""एक पैर को खोकर

βληθῆναι εἰς τὴν Γέενναν

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर के लिए तुम्हें नरक में फेंकने को"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 9:47

ἐὰν ὁ ὀφθαλμός σου σκανδαλίζῃ σε, ἔκβαλε αὐτόν

यहाँ ""आँख"" शब्द इनके लिए एक उपनाम है या तो 1) कुछ देखकर पाप करने की इच्छा करना। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि तुम कुछ देखकर कुछ पापपूर्ण करना चाहते हो, तो अपनी आँख को निकाल दे"" या 2) जो तुमने देखा है उसके कारण पाप करने की इच्छा करना। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि तुम जो देखते हो उसके कारण तुम कुछ पापपूर्ण करना चाहते हो, तो अपनी आँख को निकाल दे"" (देखें: लक्षणालंकार)

μονόφθαλμον εἰσελθεῖν εἰς τὴν Βασιλείαν τοῦ Θεοῦ, ἢ δύο ὀφθαλμοὺς ἔχοντα

यह मरने पर किसी व्यक्ति के भौतिक शरीर की स्थिति को प्रकट करता है। एक व्यक्ति अपने भौतिक शरीर को अनन्तता में अपने साथ नहीं ले जाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""दो आँखों से पृथ्वी पर रहने की तुलना में केवल एक आँख से पृथ्वी पर रहने के बाद परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करने के लिए"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

βληθῆναι εἰς τὴν Γέενναν

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर के लिए तुम्हें नरक में फेंकने को"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 9:48

ὅπου ὁ σκώληξ αὐτῶν οὐ τελευτᾷ

इस कथन का अर्थ स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जहाँ लोगों को खाने वाले कीड़े मरते नहीं हैं"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 9:49

πᾶς…πυρὶ ἁλισθήσεται

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर सभी को आग से नमकीन करेगा"" या ""जैसे नमक एक बलिदान को शुद्ध करता है, परमेश्वर सभी को पीड़ित होने की अनुमति देकर शुद्ध करेगा"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

πυρὶ ἁλισθήσεται

यहाँ ""आग"" पीड़ा के लिए एक रूपक है, और लोगों पर नमक डालना उन्हें शुद्ध करने के लिए एक रूपक है। इसलिए ""आग से नमकीन हो जाएगा"" पीड़ा के माध्यम से शुद्ध होने के लिए एक रूपक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""पीड़ा की आग में शुद्ध किया जाएगा"" या ""शुद्ध होने के लिए पीड़ित होगा जैसे कि एक बलिदान नमक से शुद्ध किया जाता है"" (देखें: रूपक)

Mark 9:50

ἄναλον γένηται

इसका नमकीन स्वाद

ἐν τίνι αὐτὸ ἀρτύσετε?

इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम इसे फिर से नमकीन नहीं बना सकते हो।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἀρτύσετε

फिर से नमकीन स्वाद

ἔχετε ἐν ἑαυτοῖς ἅλα

यीशु एक दूसरे के लिए भले काम करने की बात करता है जैसे कि भले काम नमक था, जो लोग रखते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक दूसरे के लिए भलाई करो, जैसे नमक भोजन में स्वाद को लाता है"" (देखें: रूपक)

Mark 10

मरकुस 10 सामान्य टिप्पणियाँ

संरचना और संरूपण

कुछ अनुवाद पुराने नियम के उद्धरणों को शेष पाठ की तुलना में पृष्ठ पर दाईं ओर निर्धारित करते हैं। यूएलटी अनुवाद उद्धृत सामग्री के साथ 10: 7-8 में ऐसा ही करता है।

इस अध्याय में पाई जाने वाली विशेष धारणाएँ

तलाक के बारे में यीशु की शिक्षा

फरीसी यीशु यह कहलवाने का एक तरीका खोजना चाहते थे कि मूसा की व्यवस्था को तोड़ना अच्छा है, इसलिए उन्होंने तलाक के बारे में उससे पूछा। यीशु बताता है कि कैसे परमेश्वर ने मूल रूप से विवाह को रूपरेखित किया था यह प्रकट करने के लिए कि फरीसियों ने तलाक के बारे में गलत तरीके से शिक्षा दी थी।

इस अध्याय में बोले जाने वाले महत्वपूर्ण पात्र

रूपक

रूपक दृश्यमान वस्तुओं के चित्र हैं जिसे वक्ता अदृश्य सच्चाइयों की व्याख्या करने के लिए उपयोग करते हैं। जब यीशु ने ""वह प्याला जो मैं पीने वाला हूँ,"" के बारे में बात की, तो वह उस दर्द के बारे में बोल रहा था जिससे वह क्रूस पर पीड़ित होगा जैसे कि मानो यह एक प्याले में एक कड़वा, जहरीला तरल था।

इस अध्याय के अनुवाद में अन्य सम्भावित कठिनाइयाँ

विरोधाभास

एक विरोधाभास एक सच्चा कथन है जो कुछ असम्भव को वर्णन करने के लिए प्रकट होता है। यीशु एक विरोधाभास का उपयोग करता है जब वह कहता है, ""जो भी तुम्हारे बीच में बड़ा होना चाहता है वह तुम्हारा सेवक बने"" (मरकुस 10:43).

Mark 10:1

यीशु और उसके चेलों के द्वारा कफरनहूम छोड़ने के बाद, यीशु फरीसियों और साथ ही साथ अपने चेलों को याद दिलाता है कि परमेश्वर वास्तव में विवाह और तलाक में क्या अपेक्षा करते हैं।

ἐκεῖθεν ἀναστὰς

यीशु के चेले उसके साथ यात्रा कर रहे थे। वे कफरनहम छोड़ रहे थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु और उसके चेलों ने कफरनहूम छोड़ दिया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

καὶ πέραν τοῦ Ἰορδάνου

और यरदन नदी के दूसरी ओर की भूमि पर या ""और यरदन नदी के पूर्व का क्षेत्र

πάλιν ἐδίδασκεν αὐτούς

उन्हें"" शब्द भीड़ को प्रकट करता है।

εἰώθει

उसकी रीति थी या ""वह सामान्य रूप से करता था

Mark 10:3

τί ὑμῖν ἐνετείλατο Μωϋσῆς?

मूसा ने उनके पूर्वजों को व्यवस्था दी, जिसका अब भी उन्हें पालन करना था। वैकल्पिक अनुवाद: ""मूसा ने तुम्हारे पूर्वजों को इस बारे में क्या आज्ञा दी थी

Mark 10:4

βιβλίον ἀποστασίου

यह एक कागज कह रहा था कि वह स्त्री अब उसकी पत्नी नहीं थी।

Mark 10:5

τὴν σκληροκαρδίαν ὑμῶν

कुछ भाषाओं में वक्ता एक उद्धरण में हस्तक्षेप नहीं करते हैं कि कौन बोल रहा है। इसके बजाए वे एक पूर्ण उद्धरण के आरम्भ में या अन्त में बताते हैं कि कौन बोल रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु ने उनसे कहा, 'ऐसा इसलिए था क्योंकि ... यह व्यवस्था।"" (देखें: लक्षणालंकार और रूपक)

Mark 10:6

ἐποίησεν αὐτούς

इस समय के बहुत पहले, मूसा ने यहूदियों और उनके वंशजों के लिए यह व्यवस्था लिखी क्योंकि उनके मन कठोर थे। यीशु के समय के यहूदियों में भी मन कठोर थे, इसलिए यीशु ने उन्हें ""तुम"" और ""तुम्हें"" शब्दों का उपयोग करके सम्मिलित किया। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि तुम्हारे पूर्वजों और तुम्हारे कठोर मन थे इसलिए उसने इस व्यवस्था को लिखा

Mark 10:7

यहाँ ""मन"" किसी व्यक्ति के अन्तर्मन या दिमाग के लिए एक उपनाम है। वाक्यांश ""कठोर मन"" ""हठीलेपन"" के लिए एक रूपक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम्हारा हठीलापन"" (देखें: और )

ἕνεκεν τούτου

परमेश्वर ने लोगों को बनाया

यीशु वह उद्धरण करना जारी रखता है जिसे उत्पत्ति की पुस्तक में परमेश्वर ने कहा था।

Mark 10:8

οἱ δύο εἰς σάρκα μίαν

इसलिए या ""इस कारण से

οὐκέτι εἰσὶν δύο, ἀλλὰ μία σάρξ

अपनी पत्नी के साथ रहेगा

Mark 10:9

ὃ οὖν ὁ Θεὸς συνέζευξεν, ἄνθρωπος μὴ χωριζέτω

उत्पत्ति की पुस्तक में परमेश्वर ने जो कहा था यीशु उसे उद्धरित करना समाप्त करता है।

Mark 10:10

καὶ εἰς

यह पति और पत्नी के रूप में उनकी घनिष्ठ एकता को चित्रित करने के लिए एक रूपक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे दो लोग एक व्यक्ति की तरह हैं"" या ""वे अब दो नहीं हैं, परन्तु एक साथ वे एक देह हैं"" (देखें: )

εἰς τὴν οἰκίαν

वाक्यांश ""जिसे परमेश्वर ने एक साथ जोड़ा है"" किसी भी विवाहित जोड़े को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसलिए क्योंकि परमेश्वर ने पति और पत्नी को एक साथ जोड़ दिया है, तो कोई भी उन्हें अलग नहीं करे"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

περὶ τούτου ἐπηρώτων αὐτόν

जब यीशु और उसके चेले थे

Mark 10:11

ὃς ἂν

यीशु के चेले व्यक्तिगत् रूप से उससे बात कर रहे थे। वैकल्पिक अनुवाद: घर में अकेले थे"" (देखें: )

μοιχᾶται ἐπ’ αὐτήν

इसके"" शब्द उस वार्तालाप को सन्दर्भित करता है जिसे यीशु ने फरीसियों के साथ तलाक के बारे में किया था।

Mark 10:12

μοιχᾶται

कोई भी जो

Mark 10:13

यहाँ ""उस"" का तात्पर्य पहली स्त्री से है जिससे उसका विवाह हुआ था।

καὶ προσέφερον

इस स्थिति में वह अपने पिछले पति के विरूद्ध व्यभिचार करती है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह उसके विरूद्ध व्यभिचार करती है"" या ""वह पहले व्यक्ति के विरूद्ध व्यभिचार करती है"" (देखें: नर्इ घटनाओं का परिचय)

αὐτῶν ἅψηται

जब चेले लोगों को अपने छोटे बच्चों को यीशु के पास लाने के लिए डाँटते हैं, तो वह बच्चों को आशीष देता है और चेलों को याद दिलाता है कि लोगों को परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करने के लिए बच्चों के जैसे विनम्र होना चाहिए।

ἐπετίμησαν αὐτοῖς

अब लोग ला रहे थे। कहानी में यह अगली घटना है। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 10:14

ἰδὼν…ὁ Ἰησοῦς

इसका अर्थ है कि यीशु उन्हें अपने हाथों से छूएगा और उन्हें आशीष देगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह उन्हें अपने हाथों से छूए और उन्हें आशीष दे"" या ""वह उन पर अपने हाथ रखे और उन्हें आशीष दे"" (देखें: )

ἠγανάκτησεν

लोगों को डाँटा

ἄφετε τὰ παιδία ἔρχεσθαι πρός με, καὶ μὴ κωλύετε αὐτά

यह"" शब्द चेलों के द्वारा उन लोगों को डाँटने के विषय में है जो बच्चों को यीशु के पास ला रहे थे।

μὴ κωλύετε

क्रोधित हो गया

τῶν γὰρ τοιούτων ἐστὶν ἡ Βασιλεία τοῦ Θεοῦ

इन दो उपवाक्यों के समान अर्थ हैं, जिन्हें जोर देने के लिए दोहराया गया है। कुछ भाषाओं में इसे किसी अन्य तरीके से जोर देना अधिक स्वाभाविक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""छोटे बच्चों को मेरे पास आने की अनुमति देना सुनिश्चित करें"" (देखें: रूपक)

Mark 10:15

ὃς ἂν μὴ δέξηται…παιδίον, οὐ μὴ εἰσέλθῃ εἰς αὐτήν

यह एक दोगुनी नकारात्मक बात है। कुछ भाषाओं में सकारात्मक कथन का उपयोग करना अधिक स्वाभाविक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अनुमति दो"" (देखें: )

ὡς παιδίον

लोगों से सम्बन्धित राज्य उनको सम्मिलित किए हुए राज्य का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर के राज्य ऐसे लोगों को सम्मिलित करता है जो उनके जैसे हैं"" या ""क्योंकि उनके जैसे लोग ही परमेश्वर के राज्य के सदस्य हैं"" (देखें: उपमा)

μὴ δέξηται τὴν Βασιλείαν τοῦ Θεοῦ

यदि कोई ग्रहण नहीं करेगा ... बच्चे को, वह निश्चित रूप से उसमें प्रवेश नहीं करेगा

οὐ μὴ εἰσέλθῃ εἰς αὐτήν

लोगों को परमेश्वर के राज्य को कैसे ग्रहण करना है से यीशु तुलना कर रहा है कि कैसे छोटे बच्चे इसको स्वीकार करेंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसी तरह से जैसे एक बच्चा करेगा"" (देखें: )

Mark 10:16

ἐναγκαλισάμενος αὐτὰ

परमेश्वर को उनके राजा के रूप में स्वीकार नहीं करेंगे

Mark 10:17

ἵνα ζωὴν αἰώνιον κληρονομήσω

यह"" शब्द परमेश्वर के राज्य को प्रकट करता है।

Mark 10:18

τί με λέγεις ἀγαθόν?

उसने बच्चों को गले लगा लिया

ἀγαθὸς, εἰ μὴ εἷς ὁ Θεός

यहाँ वह व्यक्ति ""प्राप्त करने"" की बात करता है जैसे कि यह ""विरासत"" थी। यह रूपक प्राप्त करने के महत्व पर जोर देने के लिए प्रयोग किया गया है। इसके अतिरिक्त, यहाँ ""वारिस होने"" का अर्थ यह नहीं है कि किसी को पहले मरना होगा। वैकल्पिक अनुवाद: अनन्त जीवन प्राप्त करने के लिए ""(देखें: )

Mark 10:19

μὴ…ψευδομαρτυρήσῃς

यीशु इस प्रश्न को उस व्यक्ति को याद दिलाने के लिए पूछता है कि कोई भी व्यक्ति उस रीति से उत्तम नहीं है जैसे परमेश्वर उत्तम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब तुम मुझे उत्तम कहते हो तो तुम समझते नहीं हो कि तुम क्या कह रहे हो।"" (देखें: )

Mark 10:21

ἕν σε ὑστερεῖ

उत्तम। केवल परमेश्वर उत्तम है

ὸς τοῖς πτωχοῖς

किसी के विरूद्ध झूठी गवाही न देना या ""अदालत में किसी के बारे में झूठ मत बोलो

τοῖς πτωχοῖς

एक बात है जो तुझमें नहीं है। यहाँ ""कमी"" कुछ करने की आवश्यकता होने के लिए एक रूपक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक बात जो तुझे करने की आवश्यकता है"" या ""एक ऐसी बात है जिसे तूने अभी तक नहीं किया है"" या (देखें: रूपक)

θησαυρὸν

यहाँ ""यह"" शब्द उन चीज़ों को दर्शाता है जो वह बेचता है और उन्हें बेचने के माध्यम से प्राप्त धन के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""गरीबों को वह पैसे दे दो"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 10:22

ἔχων κτήματα πολλά

यह गरीब लोगों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""गरीब लोग"" (देखें: आम विशेषण)

Mark 10:23

πῶς δυσκόλως

धन, मूल्यवान चीजें

Mark 10:24

ὁ δὲ Ἰησοῦς πάλιν ἀποκριθεὶς λέγει αὐτοῖς

कई चीजों का स्वामी

τέκνα, πῶς

यह बहुत कठिन है

πῶς δύσκολόν ἐστιν

यीशु ने फिर से अपने चेलों से कहा

Mark 10:25

εὐκοπώτερόν ἐστιν…εἰς τὴν Βασιλείαν τοῦ Θεοῦ εἰσελθεῖν

मेरे बच्चों, कैसे। यीशु उन्हें ऐसे सिखा रहा है जैसे एक पिता अपने बच्चों को सिखाएगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""मेरे मित्रों, कैसे"" (देखें: अतिशयोक्ति)

εὐκοπώτερόν ἐστιν κάμηλον

यह बहुत कठिन है

τρυμαλιᾶς ῥαφίδος

यीशु इस बात पर जोर देने के लिए बढ़ा चढ़ा कर बोलने का उपयोग करता है कि धनी लोगों के लिए परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करना कितना कठिन है। (देखें: )

Mark 10:26

οἱ δὲ περισσῶς ἐξεπλήσσοντο

यह एक असम्भव स्थिति की बात करता है। यदि आप इसे अपनी भाषा में इस तरह से नहीं बता सकते हैं, तो इसे एक कल्पित स्थिति के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक ऊँट के लिए यह आसान होगा"" (देखें: )

καὶ τίς δύναται σωθῆναι?

एक सुई का नाका। यह एक सिलाई की सुई के अन्त में छोटे छेद को सम्बन्धित है जहाँ से धागा गुजरता है।

Mark 10:27

παρὰ ἀνθρώποις ἀδύνατον, ἀλλ’ οὐ παρὰ Θεῷ

चेले थे

Mark 10:28

ἰδοὺ, ἡμεῖς ἀφήκαμεν πάντα καὶ ἠκολουθήκαμέν σοι

इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि ऐसा है, तो कोई भी बचाया नहीं जाएगा!"" (देखें: )

ἀφήκαμεν πάντα

समझी गई जानकारी को उपलब्ध कराया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोगों के लिए स्वयं को बचाना असम्भव है, परन्तु परमेश्वर उन्हें बचा सकता है"" (देखें: )

Mark 10:29

ἢ ἀγροὺς

यहाँ ""देख"" शब्द का उपयोग आने वाले अगले शब्दों पर ध्यान आकर्षित करने के लिए किया गया है। इसी तरह के जोर को अन्य तरीकों से व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हमने सब कुछ छोड़ा है और तेरे पीछे हो लिए हैं

ἕνεκεν ἐμοῦ

सब कुछ पीछे छोड़ दिया है

τοῦ εὐαγγελίου

या भूमि के भूखण्ड या ""या वह भूमि जिसका वह मालिक है

Mark 10:30

ἐὰν μὴ λάβῃ

मेरे कारण या ""मेरे लिए

ἐν τῷ καιρῷ τούτῳ

सुसमाचार का प्रचार करने के लिए

ἀδελφοὺς, καὶ ἀδελφὰς, καὶ μητέρας, καὶ τέκνα

यीशु एक उक्ति को समाप्त करता है जो इन शब्दों से आरम्भ होती है ""ऐसा कोई भी नहीं है जिसने छोड़ दिया हो"" (पद 29)। यह पूरा वाक्य सकारात्मक रूप से कहा जा सकता है। ""हर कोई जिसने मेरे लिए, और सुसमाचार के लिए, घर, या भाइयों, या बहनों, या मां, या पिता, या बच्चों, या भूमि को छोड़ दिया है, प्राप्त करेगा"" (देखें: और )

μετὰ διωγμῶν, καὶ ἐν τῷ αἰῶνι τῷ ἐρχομένῳ, ζωὴν αἰώνιον

यह जीवन या ""यह वर्तमान युग

ἐν τῷ αἰῶνι τῷ ἐρχομένῳ

पद 29 में सूची की तरह, यह सामान्य रूप से परिवार का वर्णन करता है। ""पिता"" शब्द 30 पद में लुप्त है, परन्तु यह अर्थ को महत्वपूर्ण रूप से नहीं बदलता है।

Mark 10:31

ἔσονται πρῶτοι ἔσχατοι, καὶ ἔσχατοι πρῶτοι

इसे अलग शब्दों में व्यक्त किया जा सकता है इसलिए कि अमूर्त संज्ञा ""सताव"" के विचारों को ""सताने"" की क्रिया के साथ व्यक्त किया गया है। क्योंकि वाक्य बहुत लम्बा और जटिल है, ""प्राप्त करेंगे"" दोहराया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""और भले ही चाहे लोग उन्हें सताते हैं, आने वाले संसार में, उन्हें अनन्त जीवन मिलेगा"" (देखें: रूपक)

ἔσχατοι πρῶτοι

भविष्य के संसार में या ""भविष्य में

Mark 10:32

ἦσαν δὲ ἐν τῇ ὁδῷ…ἦν προάγων αὐτοὺς ὁ Ἰησοῦς

यहाँ शब्द ""बड़ा"" और ""छोटा"" एक दूसरे के विरोध हैं। यीशु ""महत्वपूर्ण"" होने को ""पहला"" होने जैसा और ""महत्वहीन"" होने को ""पिछला"" होने जैसा बताता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""महत्वपूर्ण हैं वे महत्वहीन होंगे, और जो महत्वहीन हैं वे महत्वपूर्ण होंगे"" (देखें: आम विशेषण और पदन्यूनता)

οἱ…ἀκολουθοῦντες

वाक्यांश ""पिछले"" उन लोगों को प्रकट करता है जो ""अन्तिम"" हैं। इसके अतिरिक्त, इस खण्ड में समझी क्रिया को लागू किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो लोग आखिरी हैं वे पहले होंगे"" (देखें: और )

Mark 10:33

ἰδοὺ

यीशु और उसके चेले सड़क पर चल रहे थे ... और यीशु अपने चेलों के सामने था

ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου παραδοθήσεται

जो अनुसरण कर रहे थे वे उनके पीछे थे। कुछ लोग यीशु और उसके चेलों के पीछे चल रहे थे।

ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου παραδοθήσεται τοῖς

देखो या ""सुनो"" या ""जो कुछ मैं तुमको बताने वाला हूँ उस पर ध्यान दो

κατακρινοῦσιν

यीशु स्वयं के बारे में बात कर रहा है। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मुझे, मनुष्य के पुत्र को, पकड़वा देंगे"" (देखें: )

παραδώσουσιν αὐτὸν τοῖς ἔθνεσιν

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कि कोई व्यक्ति मनुष्य के पुत्र को पकड़वा देगा"" या ""के हाथ में वे मनुष्यों के पुत्र को सौंप देंगे"" (देखें: )

Mark 10:34

ἐμπαίξουσιν

वे"" शब्द महायाजकों और शास्त्रियों को प्रकट करता है।

ἀποκτενοῦσιν

उसे अन्यजातियों के नियन्त्रण में कर देंगे

ἀναστήσεται

वे ठट्ठों में उड़ाएँगे लोग ठट्ठों में उड़ाएँगे

Mark 10:35

θέλομεν…αἰτήσωμέν…ἡμῖν

उसे मार देंगे

Mark 10:37

ἐν τῇ δόξῃ σου

यह मृतकों में से जी उठने को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह मरा होकर जी उठेगा"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 10:38

οὐκ οἴδατε

ये शब्द केवल याकूब और यूहन्ना को दर्शाते हैं। देखें:

πιεῖν τὸ ποτήριον ὃ ἐγὼ πίνω

जब तुम महिमान्वित किए जाते हो। वाक्यांश ""तेरी महिमा में"" का अर्थ है जब यीशु की महिमा और उसके राज्य पर शासन किया जाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब तू अपने राज्य में शासन करता हो"" (देखें: रूपक)

τὸ βάπτισμα ὃ ἐγὼ βαπτίζομαι βαπτισθῆναι

तुम नहीं समझते

Mark 10:39

δυνάμεθα

यहाँ ""प्याला"" प्रकट करता है कि यीशु को पीड़ित होना है। पीड़ित होना अक्सर एक प्याले को पीने के रूप में संदर्भित किया गया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""पीड़ा का वह प्याला पीयो जिसे मैं पीऊँगा"" या ""पीड़ा के उस प्याले में से पीयो जिसमें से मैं पीऊँगा"" (देखें: पदन्यूनता)

πίεσθε

यहाँ ""बपतिस्मा"" और बपतिस्मा लेना दुख का प्रतिनिधित्व करता है। जैसे कि बपतिस्मे के समय पानी एक व्यक्ति को ढकता है, वैसे ही पीड़ा यीशु को डुबा देगी। वैकल्पिक अनुवाद: ""पीड़ा के बपतिस्मा को सह लो जिससे मैं पीड़ित होऊँगा"" (देखें: )

Mark 10:40

τὸ δὲ καθίσαι ἐκ δεξιῶν μου…οὐκ ἔστιν ἐμὸν δοῦναι

वे इस तरह से प्रतिक्रिया देते हैं, जिसका अर्थ है कि वे उसी प्याले को पीने में और उसी बपतिस्मे को सहन करने में सक्षम हैं। (देखें: )

ἀλλ’ οἷς ἡτοίμασται

तुम भी पीओगे

ἡτοίμασται

परन्तु मैं वह नहीं हूँ जो लोगों को मेरे दाहिने हाथ या मेरे बाएँ हाथ पर बैठने की अनुमति देता है

Mark 10:41

ἀκούσαντες,

परन्तु वे स्थान उन लोगों के लिए हैं जिनके लिए वे तैयार किए गए हैं। ""यह"" शब्द उसके दाहिने हाथ और उसके बाएँ हाथ के स्थानों को सन्दर्भित करता है।

Mark 10:40

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर ने इसे तैयार किया है"" या ""परमेश्वर ने उन्हें तैयार किया है"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 10:42

οἱ δοκοῦντες ἄρχειν τῶν ἐθνῶν

यह"" शब्द याकूब और यूहन्ना के यीशु के दाहिने और बाएँ हाथों पर बैठने को दर्शाता है।

κατακυριεύουσιν

यीशु ने अपने चेलों को बुलाया

κατεξουσιάζουσιν

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। सम्भावित अर्थ हैं 1) सामान्य तौर पर लोग इन लोगों को अन्यजाति राष्ट्रों के शासक मानते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे जिन्हें लोग अन्यजातियों के शासक मानते हैं"" या 2) अन्यजातियाँ इन लोगों को अपने शासक मानती हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे जिनके बारे में अन्यजातियाँ अपने शासकों के जैसे सोचती हैं"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 10:43

οὐχ οὕτως δέ ἐστιν ἐν ὑμῖν

पर नियन्त्रण या सामर्थ्य है

μέγας γενέσθαι

अपने अधिकार को जताना। इसका अर्थ है कि वे अपने अधिकार को एक असहनीय तरीके से दिखाते हैं या उपयोग करते हैं।

Mark 10:44

εἶναι πρῶτος

यह यहूदी शासकों के बारे में पिछले वचन को प्रकट करता है। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु उनके जैसे मत बनो"" (देखें: रूपक)

Mark 10:45

γὰρ ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου οὐκ ἦλθεν διακονηθῆναι

अत्यधिक सम्मानित बनो

διακονηθῆναι, ἀλλὰ διακονῆσαι

यह सबसे महत्वपूर्ण होने के लिए एक रूपक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सबसे महत्वपूर्ण बनने के लिए"" (देखें: )

ἀντὶ πολλῶν

इसे सक्रिय रूप में अनुवाद किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि मनुष्य के पुत्र लोगों से सेवा करवाने के लिए नहीं आया है"" (देखें: )

Mark 10:46

लोगों से सेवा करवाने के लिए नहीं, परन्तु लोगों की सेवा करने के लिए

ὁ υἱὸς Τιμαίου, Βαρτιμαῖος, τυφλὸς προσαίτης

कई लोगों के लिए

Mark 10:47

ἀκούσας ὅτι Ἰησοῦς…ἐστιν

जैसे ही यीशु और उसके चेले यरूशलेम की ओर चलना जारी करते हैं, यीशु अन्धे बरतिमाई को चंगा करता है, जो फिर उसके साथ हो लेता है।

Υἱὲ Δαυεὶδ

तिमाई का पुत्र बरतिमाई नाम का एक अन्धा भिखारी। बरतिमाई एक व्यक्ति का नाम है। तिमाई उनके पिता का नाम है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 10:48

ἐπετίμων…πολλοὶ

बरतिमाई ने लोगों को यह कहते हुए सुना कि यह यीशु था। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब उसने लोगों को यह कहते हुए सुना कि यह यीशु था"" (देखें: पदन्यूनता)

πολλῷ μᾶλλον

यीशु को दाऊद का पुत्र कहा जाता है क्योंकि वह राजा दाऊद के वंशज हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम जो मसीह हो, राजा दाऊद से निकले"" (देखें: )

Mark 10:49

εἶπεν, φωνήσατε αὐτόν

बहुत से लोगों ने डाँटा

φωνοῦσι

और भी अधिक

θάρσει

इसका अनुवाद सक्रिय रूप में या प्रत्यक्ष उद्धरण के रूप में किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""दूसरों को उसे बुलाने के लिए आदेश दिया"" या ""उन्हें आदेश दिया, 'उसे यहाँ आने के लिए बुलाओ।'"" (देखें: और )

φωνεῖ σε

वे"" शब्द भीड़ को दर्शाता है।

Mark 10:50

ἀναπηδήσας

साहस रख या ""डर मत

Mark 10:51

ἀποκριθεὶς αὐτῷ

यीशु तुझे बुला रहा है

ἀναβλέψω

कूद पड़ा

Mark 10:52

ἡ πίστις σου σέσωκέν σε

अन्धे व्यक्ति ने उत्तर दिया

ἠκολούθει αὐτῷ

देखने में सक्षम होने के लिए

Mark 11

यह वाक्यांश उस व्यक्ति के विश्वास पर जोर देने के लिए इस तरह से लिखा गया है। यीशु उस व्यक्ति को इसलिए चंगा करता है क्योंकि वह विश्वास करता है कि यीशु उसे चंगा कर सकता है। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं तुझे इसलिए चंगा कर रहा हूँ क्योंकि तुमने मुझ पर विश्वास किया है"" (देखें: Matthew 21:1-7

Mark 11:1

καὶ ὅτε ἐγγίζουσιν εἰς Ἱεροσόλυμα, εἰς Βηθφαγὴ καὶ Βηθανίαν πρὸς τὸ Ὄρος τῶν Ἐλαιῶν

वह यीशु के पीछे हो लिया

Βηθφαγὴ

मरकुस 11 सामान्य टिप्पणियाँ

संरचना और संरूपण

कुछ अनुवाद पढ़ने के लिए आसान बनाने के लिए पाठ के बाकी अंशों की तुलना में काव्य साहित्य की प्रत्येक पंक्ति को दाईं ओर निर्धारित करते हैं। यूएलटी अनुवाद 11: 9-10, 17 में दिए हुए काव्य के साथ ऐसा ही करता है, जो पुराने नियम के वचन हैं।

इस अध्याय में पाई जाने वाली विशेष धारणाएँ

गधा और लादू

यीशु यरूशलेम में एक जानवर पर सवार हो गया। इस तरह से वह एक ऐसे राजा की तरह था जो एक महत्वपूर्ण लड़ाई जीतने के बाद एक शहर में आया था। इसके अतिरिक्त, पुराने नियम में इस्राएल के राजा गधों पर सवार हुए थे। अन्य राजा घोड़ों पर सवार हुए थे। इसलिए यीशु दिखा रहा था कि वह इस्राएल का राजा था और वह अन्य राजाओं की तरह नहीं था।

मत्ती, मरकुस, लूका और यूहन्ना सभी ने इस घटना के बारे में लिखा था। मत्ती और मरकुस ने लिखा कि चेलों ने यीशु के लिए एक गधा लाया था। यूहन्ना ने लिखा कि यीशु को एक गधा मिला। लूका ने लिखा कि उसे एक लादू मिला था। केवल मत्ती ने लिखा था कि एक गधे और लादू दोनों था। कोई भी यह सुनिश्चित नहीं जानता कि यीशु गधे या लादू किस पर सवार हुआ था। इन वृतान्तों में से प्रत्येक का अनुवाद करना सबसे अच्छा है क्योंकि यह यूएलटी अनुवाद में अक्षरश: एक ही बात को कहने के प्रयास जैसा दिखाई देता है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें) और मरकुस 11:1-7 और लूका 19:29-36 और यूहन्ना 12:14-15)

Mark 11:2

τὴν κατέναντι ὑμῶν

जब यीशु और उसके चेले यरूशलेम के पास आए, तो वे जैतून पर्वत के पास बैतफगे और बैतनिय्याह आए, वे यरूशलेम के आसपास बैतफगे और बैतनिय्याह आए।

πῶλον

यह एक गाँव का नाम है। (देखें: )

ἐφ’ ὃν οὐδεὶς ἀνθρώπων οὔπω ἐκάθισεν

हमसे आगे

Mark 11:3

τί ποιεῖτε τοῦτο?

यह एक युवा गधे को दर्शाता है जो एक व्यक्ति को उठाने के लिए पर्याप्त बड़ा है।

αὐτοῦ χρείαν ἔχει

इसे सक्रिय रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जिस पर कोई भी कभी सवार नहीं हुआ है"" (देखें: )

εὐθὺς αὐτὸν ἀποστέλλει πάλιν ὧδε

यह स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है कि ""यह"" शब्द किसे सन्दर्भित करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम इस लादू को खोल कर क्यों ले जा रहे हो"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 11:4

ἀπῆλθον

इसकी आवश्यकता है

πῶλον

जब यीशु इसका उपयोग करना समाप्त कर लेता है तो वह झटपट इसे वापस भेज देगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसे तुरन्त वापस भेज देगा जब उसे इसकी आवश्यकता नहीं रहती है"" (देखें: )

Mark 11:6

οἱ…εἶπον

दो चेले गए

καθὼς εἶπεν ὁ Ἰησοῦς

यह एक युवा गधे को दर्शाता है जो एक व्यक्ति को उठाने के लिए पर्याप्त बड़ा है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 11:2

ἀφῆκαν αὐτούς

उन्होंने उत्तर दिया

Mark 11:7

ἐπιβάλλουσιν αὐτῷ τὰ ἱμάτια αὐτῶν, καὶ ἐκάθισεν ἐπ’ αὐτόν

जैसा कि यीशु ने उन्हें उत्तर देने के लिए कहा था। यह सन्दर्भित करता है कि कैसे यीशु ने उन्हें लादू लेने के बारे में लोगों के प्रश्नों के उत्तर देने के लिए कहा था।

τὰ ἱμάτια

इसका अर्थ है कि उन्होंने उन्हें जो कुछ भी वे कर रहे थे, उसे करते रहने की अनुमति दी। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्हें गधे को उनके साथ ले जाने दिया"" (देखें: मुहावरे)

Mark 11:8

πολλοὶ τὰ ἱμάτια αὐτῶν ἔστρωσαν εἰς τὴν ὁδόν

अपने वस्त्रों को उसकी पीठ पर डाल दिया ताकि यीशु उस पर सवारी कर सके। जब एक कम्बल या ऐसा ही कुछ उसकी पीठ के ऊपर होता है तो एक लादू या घोड़े की सवारी करना आसान होता है। इस प्रकरण में, चेलों ने अपने वस्त्रों को उसके ऊपर डाल दिया।

ἄλλοι δὲ στιβάδας κόψαντες ἐκ τῶν ἀγρῶν

अंगरखा या ""वस्त्र

Mark 11:9

οἱ…ἀκολουθοῦντες

महत्वपूर्ण लोगों के सामने सड़क पर कपड़ों को डालना उनको सम्मानित करने की एक परम्परा थी। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बहुत से लोगों ने अपने वस्त्रों को सड़क पर उसके सम्मान के लिए फैला दिया"" (देखें: )

ὡσαννά

महत्वपूर्ण लोगों के सामने सड़क पर खजूर की डालियों को रखना उनको सम्मानित करने की एक परम्परा थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""दूसरों ने उसे सम्मानित करने के लिए सड़क पर शाखाएँ भी फैलाई जिन्हें उन्होंने खेतों से काटा था "" (देखें: शब्दों की प्रति बनाना या उधार लेना)

εὐλογημένος ὁ ἐρχόμενος

उसके पीछे कौन था

ἐν ὀνόματι Κυρίου

इस शब्द का अर्थ है ""हमें बचा,"" परन्तु जब लोग परमेश्वर की स्तुति करना चाहते थे तो उन्होंने इसे भी आनन्द से चिल्लाया। इसका उपयोग जैसे किया गया था इसके अनुसार आप इसका अनुवाद कर सकते हैं, या आप अपनी भाषा की वर्तनी के तरीके का उपयोग करके ""होशान्ना"" लिख सकते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर की स्तुति करो"" (देखें: लक्षणालंकार)

εὐλογημένος

यह यीशु को प्रकट कर रहा है। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम धन्य हो, वह जो"" (देखें: )

Mark 11:10

εὐλογημένη ἡ ἐρχομένη βασιλεία τοῦ πατρὸς ἡμῶν, Δαυείδ

यह परमेश्वर के अधिकार के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर का अधिकार"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना और कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

τοῦ πατρὸς ἡμῶν, Δαυείδ

परमेश्वर आशीष दे

ὡσαννὰ ἐν τοῖς ὑψίστοις

धन्य है हमारे पिता दाऊद का आने वाला राज्य। यह यीशु के राजा के रूप में आने और शासन करने को दर्शाता है। ""धन्य"" शब्द का अनुवाद सक्रिय क्रिया के रूप में किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""धन्य है तेरे राज्य का आना"" या ""परमेश्वर तुझे आशीष दे जब तू तेरे आने वाले राज्य पर शासन करता है"" (देखें: लक्षणालंकार)

τοῖς ὑψίστοις

यहाँ दाऊद का वंशज को जो शासन करेगा उसे स्वयं दाऊद के रूप में दर्शाया गया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हमारे पिता दाऊद का सबसे महान वंशज"" या ""दाऊद का वह सबसे महान वंशज शासन करेगा"" (देखें: रूपक)

Mark 11:11

ὀψίας ἤδη οὔσης τῆς ὥρας

सम्भावित अर्थ हैं 1) ""परमेश्वर की स्तुति करो जो स्वर्ग में है"" या 2) ""वे जो स्वर्ग में हैं 'होशन्ना' पुकारें।

ἐξῆλθεν εἰς Βηθανίαν μετὰ τῶν δώδεκα

यहाँ स्वर्ग को ""सर्वोच्च"" के रूप में बोला जाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सर्वोच्च स्वर्ग"" या ""स्वर्ग"" (देखें: )

Mark 11:12

ἐξελθόντων αὐτῶν ἀπὸ Βηθανίας

क्योंकि यह दिन का अंत था

Mark 11:13

वह और उसके बारह चेलों ने यरूशलेम छोड़ा और बैतनिय्याह को गए

εἰ…τι εὑρήσει ἐν αὐτῇ

जिस समय वे बैतनिय्याह से यरूशलेम वापस जा रहे थे

οὐδὲν εὗρεν εἰ μὴ φύλλα

ऐसा तब घटित होता है जब यीशु और उसके चेले यरूशलेम के लिए जा रहे थे।

ὁ…καιρὸς

यदि उस पर कोई फल था

Mark 11:14

εἶπεν αὐτῇ, μηκέτι εἰς τὸν αἰῶνα, ἐκ σοῦ μηδεὶς καρπὸν φάγοι

इसका अर्थ है कि उसे कोई अंजीर नहीं मिला था। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसे पेड़ पर केवल पत्तियाँ मिलीं और कोई अंजीर नहीं मिला"" (देखें: संबोधक चिन्ह)

εἶπεν αὐτῇ

वर्ष का समय

ἤκουον οἱ μαθηταὶ αὐτοῦ

यीशु अंजीर के पेड़ से बात करता है और उसे शाप देता है। वह उससे बात करता है ताकि उसके चेले उसे सुनें। (देखें: )

Mark 11:15

ἔρχονται

उसने पेड़ से बात की

ἤρξατο ἐκβάλλειν τοὺς πωλοῦντας καὶ τοὺς ἀγοράζοντας ἐν τῷ ἱερῷ

उससे"" शब्द यीशु के अंजीर के वृक्ष से बात करने को दर्शाता है।

τοὺς πωλοῦντας καὶ τοὺς ἀγοράζοντας

यीशु और उसके चेले आए

Mark 11:17

यीशु इन लोगों को मन्दिर से निकाल रहा है। यह स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""विक्रेताओं और खरीदारों को मन्दिर से बाहर निकालना आरम्भ किया"" (देखें: )

οὐ γέγραπται, ὅτι ὁ οἶκός μου, οἶκος προσευχῆς κληθήσεται πᾶσιν τοῖς ἔθνεσιν?

वे लोग जो खरीद रहे थे और बेच रहे थे

ὑμεῖς δὲ ἐποιήσατε αὐτὸν σπήλαιον λῃστῶν

परमेश्वर ने पहले ही अपने वचन में, भविष्यवक्ता यशायाह के माध्यम से कहा था कि उसका मन्दिर सभी राष्ट्रों के लिए प्रार्थना का एक घर होगा।

σπήλαιον λῃστῶν

यीशु उनके मन्दिर के दुरुपयोग के लिए यहूदी अगुवों को डाँट रहा है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह पवित्रशास्त्र में लिखा गया है कि परमेश्वर ने कहा, 'मैं चाहता हूँ कि मेरा घर ऐसा घर कहलाए जहाँ सभी राष्ट्रों के लोग प्रार्थना कर सकें।'"" (देखें: )

Mark 11:18

ἐζήτουν πῶς

यीशु लोगों की लुटेरों से और मन्दिर को डाकुओं की खोह से तुलना करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु तुम लुटेरों की तरह हो जिन्होंने मेरे घर को एक डाकुओं की खोह बना दिया है"" (देखें: )

Mark 11:19

ὅταν ὀψὲ ἐγένετο

एक गुफा जहाँ लुटेरे छिपते हैं

ἐξεπορεύοντο ἔξω τῆς πόλεως

वे एक रास्ता खोज रहे थे

Mark 11:20

शाम को

παραπορευόμενοι

यीशु और उसके शिष्यों ने शहर छोड़ दिया

τὴν συκῆν ἐξηραμμένην ἐκ ῥιζῶν

यीशु चेलों को परमेश्वर पर भरोसा करना याद दिलाने के लिए अंजीर के पेड़ के उदाहरण का उपयोग करता है।

ἐξηραμμένην

सड़क के किनारे चल रहे थे

Mark 11:21

ἀναμνησθεὶς ὁ Πέτρος

पेड़ की मृत्यु हो गई है यह स्पष्ट करने के लिए इस कथन का अनुवाद करें। वैकल्पिक अनुवाद: ""अंजीर का पेड़ अपनी जड़ों तक सूख गया और मर गया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 11:22

ἀποκριθεὶς ὁ Ἰησοῦς λέγει αὐτοῖς

सूख गया

Mark 11:23

ἀμὴν, λέγω ὑμῖν

यह कहना सहायक हो सकता है कि पतरस ने क्या याद किया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""पतरस ने याद किया कि यीशु ने अंजीर के पेड़ से क्या कहा था"" (देखें: )

ὃς ἂν εἴπῃ

यीशु ने अपने चेलों को उत्तर दिया

μὴ διακριθῇ ἐν τῇ καρδίᾳ αὐτοῦ, ἀλλὰ πιστεύῃ

मै तुमसे सच्च बोल रहा हुँ। यह वाक्यांश उस बात के ऊपर जोर देता है जो यीशु आगे कहता है ।

ἔσται αὐτῷ

यदि कोई कहता है

Mark 11:24

διὰ τοῦτο λέγω ὑμῖν

यहाँ ""मन"" किसी व्यक्ति के दिमाग या अन्तर्मन के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि वह वास्तव में अपने मन में विश्वास करता है"" या ""यदि वह सन्देह नहीं परन्तु विश्वास करता है"" (देखें: शब्दों और वाक्यांशों को जोड़ना)

ἔσται ὑμῖν

परमेश्वर घटित करेगा

Mark 11:25

ὅταν στήκετε προσευχόμενοι

इसलिए मैं तुमको बताता हूँ (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

εἴ τι ἔχετε κατά τινος

यह समझा गया है कि ऐसा इसलिए होगा क्योंकि जो कुछ तुम माँगोगे परमेश्वर वह तुम्हें प्रदान करेगा। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर तुम्हें वह दे देंगे"" (देखें: )

परमेश्वर से प्रार्थना करते समय खड़े होना इब्रानी संस्कृति में सामान्य है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब तुम प्रार्थना करते हो

जो कुछ कड़वाहट तुम में किसी के विरूद्ध है। यहाँ ""जो कुछ भी"" शब्द किसी के आपके विरूद्ध पाप करने के कारण उसके विरूद्ध आपकी कड़वाहट या किसी के विरूद्ध आपके क्रोध को प्रकट करता है।

Mark 11:27

ἐν τῷ ἱερῷ περιπατοῦντος αὐτοῦ

अगले दिन जब यीशु मन्दिर लौटता है, तो वह महायाजकों, शास्त्रियों और पुरनियों को मन्दिर परिसर से धन परिवर्तकों को निकालने के बारे में उनके प्रश्न का उत्तर उनसे एक और प्रश्न पूछने के द्वारा देता है, जिसका वे उत्तर देने को इच्छुक नहीं थे।

Mark 11:28

ἔλεγον αὐτῷ

यीशु और उसके चेले आए थे

ἐν ποίᾳ ἐξουσίᾳ ταῦτα ποιεῖς? ἢ, τίς σοι ἔδωκεν τὴν ἐξουσίαν ταύτην, ἵνα ταῦτα ποιῇς?

इसका अर्थ है कि यीशु मन्दिर के भीतर टहल रहा था; वह मन्दिर में चल नहीं रहा था।

ταῦτα ποιεῖς

वे"" शब्द महायाजकों, शास्त्रियों और पुरनियों को सन्दर्भित करता है।

Mark 11:29

ἀποκρίθητέ μοι

सम्भावित अर्थ: 1) इन दोनों प्रश्नों का एक ही अर्थ है और यीशु के अधिकार पर दृढ़ता से प्रश्न करने के लिए एक साथ पूछे गए हैं और इसलिए जोड़े जा सकते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""ये काम करने का तुम्हें किसने अधिकार दिया?"" 2) ये दो अलग-अलग प्रश्न हैं, पहला अधिकार का स्वभाव के बारे में पूछ रहा है और दूसरा उसे किसने दिया था के बारे में पूछ रहा है। (देखें: )

Mark 11:30

τὸ βάπτισμα τὸ Ἰωάννου

ये काम"" शब्द यीशु के मन्दिर में विक्रेताओं की मेजों को उलट देने को और महायाजकों और शास्त्रियों ने जो सिखाया था उसके विरूद्ध बोलने को सन्दर्भित करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उस तरह के काम जो कल तुमने यहाँ किए थे"" (देखें: )

ἐξ οὐρανοῦ ἦν ἢ ἐξ ἀνθρώπων

मुझे उत्तर दो

ἐξ οὐρανοῦ

वह बपतिस्मा जो यूहन्ना द्वारा दिया गया

ἐξ ἀνθρώπων

क्या वह स्वर्ग से अधिकृत था या लोगों के द्वारा

Mark 11:31

ἐὰν εἴπωμεν, ἐξ οὐρανοῦ

यहाँ ""स्वर्ग"" परमेश्वर को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर की ओर से"" (देखें: पदन्यूनता)

ἐξ οὐρανοῦ

लोगों की ओर से

οὐκ ἐπιστεύσατε αὐτῷ

यह यूहन्ना के बपतिस्मे के स्रोत को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि हम कहते हैं, 'यह स्वर्ग से था,'"" (देखें: )

Mark 11:32

ἀλλὰ εἴπωμεν, ἐξ ἀνθρώπων

यहाँ ""स्वर्ग"" परमेश्वर को दर्शाता है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 11:30। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर से"" (देखें: पदन्यूनता)

ἐξ ἀνθρώπων

उसे"" शब्द यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले को प्रकट करता है।

ἀλλὰ εἴπωμεν, ἐξ ἀνθρώπων…ἦν.

यह यूहन्ना के बपतिस्मे के स्रोत को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु यदि हम कहते हैं, 'यह लोगों की ओर से था,'"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना और पदन्यूनता)

ἐφοβοῦντο τὸν ὄχλον

लोगों की ओर से

Mark 11:33

οὐκ οἴδαμεν

धार्मिक अगुवों का अर्थ है कि यदि वे इसका उत्तर देते हैं तो वे लोगों की ओर से सताए जाएँगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु यदि हम कहते हैं, 'लोगों की ओर से,' तो यह अच्छा नहीं होगा।"" या ""परन्तु हम यह नहीं कहना चाहते कि यह लोगों की ओर से था।"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 12

लेखक, मरकुस, बताता है कि क्यों धार्मिक अगुवे यह नहीं कहना चाहते थे कि यूहन्ना का बपतिस्मा लोगों की ओर से था। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। ""उन्होंने एक दूसरे से यह कहा क्योंकि वे लोगों से डरते थे"" या ""वे यह नहीं कहना चाहते थे कि यूहन्ना का बपतिस्मा लोगों की ओर से था क्योंकि वे लोगों से डरते थे"" (देखें: काल्पनिक परिस्थितियाँ)

Mark 12:1

यह यूहन्ना के बपतिस्मे को सन्दर्भित करता है। यह समझी गई जानकारी को लागू किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हम नहीं जानते कि यूहन्ना का बपतिस्मा कहाँ से आया था"" (देखें: दृष्टांत)

καὶ ἤρξατο αὐτοῖς ἐν παραβολαῖς λαλεῖν

मरकुस 12 सामान्य टिप्पणियाँ

संरचना और संरूपण

कुछ अनुवाद पढ़ने के लिए आसान बनाने के लिए पाठ के बाकी अंशों की तुलना में काव्य साहित्य की प्रत्येक पंक्ति को दाईं ओर निर्धारित करते हैं। यूएलटी अनुवाद 12: 10-11, 36 में काव्य के साथ ऐसा ही करता है, जो पुराने नियम के वचन हैं।

इस अध्याय में बोले जाने वाले महत्वपूर्ण पात्र

काल्पनिक परिस्थितियाँ

काल्पनिक परिस्थितियाँ ऐसी स्थितियाँ हैं जो वास्तव में नहीं हुई हैं। लोग इन परिस्थितियों का वर्णन करते हैं जिससे वे सीखते हैं कि उनके सुनने वाले क्या सोचते है कि अच्छा और बुरा क्या है या सही और गलत क्या है। (देखें: )

περιέθηκεν φραγμὸ

यीशु महायाजकों, शास्त्रियों और पुरनियों के विरूद्ध इस दृष्टान्त को बोलता है। (देखें: )

ὤρυξεν ὑπολήνιον

यहाँ ""उनसे"" शब्द महायाजकों, शास्त्रियों और पुरनियों को सन्दर्भित करता है जिनसे पिछले अध्याय में यीशु बात कर रहा था।

ἐξέδετο αὐτὸν γεωργοῖς

उसने दाख की बारी के चारों ओर एक बाड़ा बाँधा। यह झाड़ियों की एक पंक्ति, एक बाड़, या एक पत्थर की दीवार हो सकती थी।

Mark 12:2

τῷ καιρῷ

इसका अर्थ है कि उसने चट्टान पर एक गड्ढा बनाया, जो कि निचोड़े हुए अंगूर का रस को इकट्ठा करने के लिए उपयोग में आने वाले दाखरस के कुंड का निचला भाग होगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""दाख रौंदे जाने के लिए चट्टान में एक गड्ढा खोदा"" या ""उसने दाख रौंदे जाने से रस इकट्ठा करने के लिए एक कुण्ड बनाया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:3

καὶ λαβόντες αὐτὸν

मालिक के पास अभी भी दाख की बारी का स्वामित्व है, परन्तु उसने दाख उत्पादकों को इसकी देखभाल करने की अनुमति दी थी। जब अंगूर पक गए, तो उनको उनमें से कुछ मालिक को देने थे और शेष रखने थे।

κενόν

यह कटाई के समय को प्रकट करता है। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब अंगूर की कटाई करने का समय आया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:4

ἀπέστειλεν πρὸς αὐτοὺς

परन्तु दाख उत्पादकों ने दास को पकड़ लिया

κἀκεῖνον ἐκεφαλίωσαν

इसका अर्थ है कि उन्होंने उसे कोई फल नहीं दिया। वैकल्पिक अनुवाद: ""बिना किसी अंगूर के"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:5

ἄλλον…πολλοὺς ἄλλους

दाख की बारी के मालिक ने दाख उत्पादकों के पास भेजा

इसे और अधिक स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने उसके सिर पर मारा, और उन्होंने उसे भयंकर रीति से चोट पहुँचाई"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:6

υἱὸν ἀγαπητόν

ये वाक्यांश अन्य दासों को प्रकट करते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""अभी भी अन्य दास ... कई अन्य दास"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:7

ὁ κληρονόμος

यह उन दासों को सन्दर्भित करता है जिन्हें मालिक ने भेजा था। ""उसी तरह"" वाक्यांश उनसे किए जा रहे बुरे व्यवहार को दर्शाता है। यह स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने कई अन्य दासों से भी बुरा व्यवहार किया जिन्हें उसने भेजा था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἡ κληρονομία

यह निहितार्थ है कि वह मालिक का पुत्र है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसका प्यारा पुत्र"" (देखें: उपलक्षण अलंकार)

Mark 12:8

λαβόντες

यह मालिक का उत्तराधिकारी है, जो उसके पिता की मृत्यु के बाद दाख की बारी का वारिस करेगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""मालिक का उत्तराधिकारी"" (देखें: )

Mark 12:9

τί οὖν ποιήσει ὁ κύριος τοῦ ἀμπελῶνος?

वे किराएदार दाख की बारी को ""मीरास"" के रूप में प्रकट कर रहे हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह दाख की बारी"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

οὖν

दाख उत्पादकों ने पुत्र को ही पकड़ लिया

ἀπολέσει

यीशु एक प्रश्न पूछता है और फिर लोगों को सिखाने के लिए उत्तर देता है। यह प्रश्न एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसलिए मैं तुम्हें बताऊँगा कि दाख की बारी का मालिक क्या करेगा।"" (देखें: )

δώσει τὸν ἀμπελῶνα ἄλλοις

यीशु ने दृष्टान्त को बताना पूरा कर लिया है और अब लोगों से पूछ रहा है कि वे क्या सोचते हैं कि आगे क्या होगा। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:10

मारेगा

οὐδὲ τὴν Γραφὴν ταύτην ἀνέγνωτε:

औरों"" शब्द अन्य दाख उत्पादकों को सन्दर्भित करता है जो दाख की बारी की देखभाल करेंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह अंगूर उत्पादकों को दाख की बारी की देखभाल करने के लिए दे देगा"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἐγενήθη εἰς κεφαλὴν γωνίας

पवित्रशास्त्र में परमेश्वर का यह वचन बहुत पहले लिखा गया था।

Mark 12:11

παρὰ Κυρίου ἐγένετο αὕτη

यीशु लोगों को पवित्रशास्त्र के एक सन्दर्भ को याद दिलाता है। वह उन्हें डाँटने के लिए बढ़ा चढ़ा कर बोले गए प्रश्न का उपयोग करता है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""निश्चित रूप से तुमने पवित्रशास्त्र में इस वचन को पढ़ा है।"" या ""तुम्हें पवित्रशास्त्र के इस वचन को याद करना चाहिए।"" (देखें: )

ἔστιν θαυμαστὴ ἐν ὀφθαλμοῖς ἡμῶν

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर ने कोने का पत्थर बना दिया

Mark 12:12

ἐζήτουν αὐτὸν κρατῆσαι

परमेश्वर ने यह किया है

ἐζήτουν

यहाँ ""हमारी दृष्टि में"" देखने का प्रतीक है, जो लोगों के विचार के लिए एक रूपक है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हमने इसे देखा है और सोचते हैं कि यह अनोखा है"" या ""हमें लगता है कि यह आश्चर्यजनक है"" (देखें: )

καὶ ἐφοβήθησαν τὸν ὄχλον

वे महायाजकों, शास्त्रियों और पुरनियों को दर्शाता है। इस समूह को ""यहूदी अगुवों"" के रूप में प्रकट किया जा सकता है।

πρὸς αὐτοὺς

चाहते थे

Mark 12:13

वे डरते थे कि यदि यीशु को उन्होंने गिरफ्तार किया तो भीड़ उनके साथ क्या करेगी। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु उन्हें डर था कि यदि उन्होंने उसे गिरफ्तार किया तो भीड़ क्या करेगी"" (देखें: )

καὶ ἀποστέλλουσιν

उन्हे आरोप लगाने के लिए

τῶν Ἡρῳδιανῶν

यीशु को फँसाने के प्रयास में, कुछ फरीसी और हेरोदिए, और फिर सदूकी, प्रश्नों के साथ यीशु के पास आते हैं।

ἵνα αὐτὸν ἀγρεύσωσιν

फिर यहूदी अगुवों ने भेजा

Mark 12:14

ἐλθόντες, λέγουσιν

यह एक अनौपचारिक राजनीतिक दल का नाम था जिसने हेरोदस अन्तिपास का समर्थन किया था।

οὐ μέλει σοι περὶ οὐδενός

यहाँ लेखक ने यीशु को ""उसे फँसाने"" के रूप में उसके साथ चलाकी करने का वर्णन किया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसे छलने के लिए"" (देखें: विडंबना)

Mark 12:15

ὁ…εἰδὼς αὐτῶν τὴν ὑπόκρισιν

यहाँ ""उन्होंने"" फरीसियों और हेरोदियों के मध्य से भेजे गए लोगों को दर्शाता है।

τί με πειράζετε?

इसका अर्थ है कि यीशु चिन्तित नहीं है। अस्वीकृति इसकी अपेक्षा क्रिया को ही संशोधित कर सकती है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम्हें लोगों की सोच की चिन्ता नहीं है"" या ""तुम लोगों की कृपा प्राप्त करने के बारे में चिन्तित नहीं हो"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

δηνάριον

वे पक्षपाती ढंग से अभिनय कर रहे थे। इसे और अधिक स्पष्ट रूप से समझाया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु जानता था कि वे वास्तव में यह नहीं जानना चाहते थे कि परमेश्वर उनसे क्या चाहते थे"" (देखें: बाइबल में धन)

Mark 12:16

οἱ δὲ ἤνεγκαν

यीशु यहूदी अगुवों को डाँटता है क्योंकि वे उसे धोखा देने का प्रयास कर रहे थे। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मुझे पता है कि तुम मुझसे कुछ गलत कहलवाने का प्रयास कर रहे हो ताकि तुम मुझ पर आरोप लगा सको।"" (देखें: )

ἡ εἰκὼν…καὶ ἡ ἐπιγραφή

यह सिक्का एक दिन के मजदूरी के बराबर था। (देखें: )

οἱ…εἶπαν αὐτῷ, Καίσαρος.

फरीसी और हेरोदी एक दिनारिस लाए

Mark 12:17

τὰ Καίσαρος ἀπόδοτε Καίσαρι

तस्वीर और नाम

καὶ…τῷ Θεῷ

यहाँ ""कैसर का"" उसके स्वरूप और छाप को सन्दर्भित करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने कहा, 'वे कैसर का स्वरूप और छाप हैं"" (देखें: पदन्यूनता)

ἐξεθαύμαζον ἐπ’ αὐτῷ

यीशु सिखा रहा है कि करों का भुगतान करके उनके लोगों को सरकार का सम्मान करना चाहिए। कैसर को रोमी सरकार में बदलने की बात के भाषण के इस वर्णन को स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""रोमी सरकार से सम्बन्धित चीजों को रोमी सरकार को दें"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:18

οἵτινες λέγουσιν ἀνάστασιν μὴ εἶναι

समझी गई क्रिया को उपलब्ध कराया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""और परमेश्वर को दे दो"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:19

Μωϋσῆς ἔγραψεν ἡμῖν, ὅτι ἐάν τινος ἀδελφὸς ἀποθάνῃ

यीशु ने जो कहा था, वे आश्चर्यचकित थे। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे उस पर और उसने जो कहा था उस पर अचम्भित हुए "" (देखें: प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष उद्धरण)

ἔγραψεν ἡμῖν

यह वाक्यांश बताता है कि सदूकी कौन थे। इसे और अधिक स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कौन कहता है कि मृतकों से कोई पुनरुत्थान नहीं है"" (देखें: )

λάβῃ ὁ ἀδελφὸς αὐτοῦ τὴν γυναῖκα

सदूकी लोग वह उद्धरित कर रहे हैं जो मूसा ने व्यवस्था में लिखा था। मूसा का उद्धरण अप्रत्यक्ष उद्धरण के रूप में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मूसा ने हमारे लिए लिखा था कि यदि किसी व्यक्ति का भाई मर जाता है"" (देखें: )

ἐξαναστήσῃ σπέρμα τῷ ἀδελφῷ αὐτοῦ

हम यहूदियों के लिए लिखा था। सदूकी यहूदियों का एक समूह थे। यहाँ वे ""हम"" शब्द का उपयोग स्वयं और सभी यहूदियों को सन्दर्भित करने के लिए करते हैं।

Mark 12:20

ἑπτὰ ἀδελφοὶ ἦσαν

उस व्यक्ति को अपने भाई की पत्नी से विवाह करना चाहिए

ὁ πρῶτος

अपने भाई के लिए एक पुत्र उत्पन्न करे। उस व्यक्ति के पहले पुत्र को मृत भाई के पुत्र माना जाएगा, और उस पुत्र के वंशज मृत भाई के वंशज माने जाएँगे। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक पुत्र उत्पन्न करे जिसे मृत भाई का पुत्र माना जाएगा"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ὁ πρῶτος ἔλαβεν γυναῖκα

सदूकी लोग एक ऐसी स्थिति के बारे में बात करते हैं जो वास्तव में नहीं हुई है क्योंकि वे चाहते हैं कि यीशु उन्हें बताए कि वह क्या सोचता है कि क्या सही है और क्या गलत है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मान लीजिए कि सात भाई थे"" (देखें: काल्पनिक परिस्थितियाँ)

Mark 12:21

ὁ δεύτερος…ὁ τρίτος

पहले भाई ने

ὁ δεύτερος ἔλαβεν αὐτήν

पहले ने एक स्त्री से विवाह किया। यहाँ एक स्त्री से विवाह करने को उसे ""लेने"" के रूप में बोला गया है।

ὁ τρίτος ὡσαύτως

ये संख्याएँ प्रत्येक भाइयों को सन्दर्भित करती हैं और इसी तरह व्यक्त की जा सकती हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""दूसरा भाई ... तीसरा भाई"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 12:22

οἱ ἑπτὰ

दूसरे ने उससे विवाह किया। यहाँ एक स्त्री से विवाह करने को उसे ""लेने"" के रूप में बोला गया है।

οἱ ἑπτὰ οὐκ ἀφῆκαν σπέρμα

यह समझाना सहायक हो सकता है कि ""इसी तरह"" का अर्थ क्या है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तीसरे भाई ने उससे विवाह किया जैसे उसके अन्य भाइयों ने किया था, और वह भी बिना बच्चों के मर गया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:23

ἐν τῇ ἀναστάσει, ὅταν ἀναστῶσιν, τίνος αὐτῶν ἔσται γυνή

यह सभी भाइयों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सात भाई"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 12:22

प्रत्येक भाई ने उस स्त्री से विवाह किया और फिर उससे कोई बच्चा होने से पहले मर गए। इसे स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""आखिर में सभी सात भाइयों ने उस स्त्री से विवाह किया, परन्तु उनमें से कोई भी उससे कोई बच्चा न कर पाया, और एक-एक करके वे मर गए"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:24

μὴ εἰδότες τὰς Γραφὰς

सदूकी इस प्रश्न को पूछकर यीशु का जाँच कर रहे हैं। यदि आपके पाठक इसे केवल जानकारी को अनुरोध के रूप में समझ सकते हैं, तो इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अब हमें बताओ कि पुनरुत्थान में वह किसकी पत्नी होगी, जब वे सभी फिर से जी उठेंगे।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

τὴν δύναμιν τοῦ Θεοῦ

यीशु उन सदूकियों को डाँटता है क्योंकि वे परमेश्वर की व्यवस्था के बारे में गलत थे। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम गलत हो क्योंकि ... परमेश्वर की सामर्थ्य।"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 12:25

ὅταν γὰρ…ἀναστῶσιν

इसका अर्थ है कि पुराने नियम के पवित्रशास्त्रों में जो लिखा है वह उन्हें समझ में नहीं आता है।

ἀναστῶσιν

परमेश्वर कितना सामर्थी है

ἐκ νεκρῶν

यहाँ ""वे"" शब्द उदाहरण से भाइयों और स्त्री को प्रकट करता है।

οὔτε γαμοῦσιν οὔτε γαμίζονται

जागना और सोने से उठना मृत होने के बाद जीवित हो जाने के लिए एक रूपक है। (देखें: )

γαμίζονται

उन सभी लोगों में से जो मर गए हैं। यह अभिव्यक्ति अधोलोक में सभी मृत लोगों के एक साथ होने को बताती है। उनमें से जी उठना फिर से जीवित होने की बात करता है।

τοῖς οὐρανοῖς

वे विवाह नहीं करते हैं, और वे विवाह में नहीं दिए गए हैं

Mark 12:26

ὅτι ἐγείρονται

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""और कोई भी उन्हें विवाह में नहीं देता है"" (देखें:)

τῇ βίβλῳ Μωϋσέως

यह उस स्थान को सन्दर्भित करता है जहाँ परमेश्वर रहता है।

τοῦ βάτου

इसे एक सक्रिय क्रिया के साथ व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो जी उठता है"" या ""जो फिर से जीने के लिए जी उठता है"" )

τοῦ βάτου

वह पुस्तक जिसे मूसा ने लिखा

πῶς εἶπεν αὐτῷ ὁ Θεὸς

यह मूसा की पुस्तक के उस हिस्से को प्रकट करता है जो इस बारे में बताता है जब परमेश्वर ने मूसा से झाड़ी में से बात की थी जो जल रही थी परन्तु वह भस्म नहीं हुई थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""जलती हुई झाड़ी के बारे में अनुच्छेद"" या ""प्रज्वलित झाड़ी के बारे में वचन"" (देखें: )

ἐγὼ ὁ Θεὸς Ἀβραὰμ…Ἰσαὰκ…Ἰακώβ

यह एक झाड़ी, एक लकड़ियों से भरे हुई पौधे को प्रकट करता है जो एक पेड़ से छोटा होता है।

Mark 12:27

οὐκ…Θεὸς νεκρῶν, ἀλλὰ ζώντων

जब परमेश्वर ने मूसा से बात की थी

ζώντων

इसका अर्थ है कि अब्राहम, इसहाक और याकूब परमेश्वर की आराधना करते हैं। ये लोग शारीरिक रूप से मर गए हैं, परन्तु वे अभी भी आत्मिक रूप से जीवित हैं और अभी भी परमेश्वर की आराधना करते हैं।

πολὺ πλανᾶσθε

यहाँ ""मरे हुओं का"" उन लोगों को प्रकट करता है जो मर चुके हैं, और ""जीवितों का"" उन लोगों को प्रकट करता है जो जीवित हैं। इसके अतिरिक्त, ""परमेश्वर"" शब्दों को दूसरे वाक्यांश में स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मरे हुए लोगों का परमेश्वर नहीं, अपितु जीवित लोगों का परमेश्वर"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

πολὺ πλανᾶσθε

यह ऐसे लोग सम्मिलित करता है जो शारीरिक रूप से और आत्मिक रूप से जीवित हैं।

Mark 12:28

ἐπηρώτησεν αὐτόν

यह बताना सहायक हो सकता है कि वे किस बारे में गलत हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब तुम कहते हो कि मरे हुए लोग फिर से नहीं जी उठते हैं, तो तुम बहुत अधिक गलत हो"" (देखें: )

Mark 12:29

πρώτη ἐστίν

पूरी तरह से गलत या ""बहुत अधिक गलत

ἄκουε, Ἰσραήλ, Κύριος ὁ Θεὸς ἡμῶν Κύριος εἷς ἐστιν

उस शास्त्री ने यीशु से पूछा

Mark 12:30

ἐξ ὅλης τῆς καρδίας σου, καὶ ἐξ ὅλης τῆς ψυχῆς σου, καὶ ἐξ ὅλης τῆς διανοίας σου, καὶ ἐξ ὅλης τῆς ἰσχύος σου

सबसे मुख्य सबसे महत्वपूर्ण आज्ञा को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सबसे महत्वपूर्ण आज्ञा है"" (देखें: लक्षणालंकार और दोहरात्मक)

Mark 12:31

ἀγαπήσεις τὸν πλησίον σου ὡς σεαυτόν

हे इस्राएल, सुन! प्रभु हमारा परमेश्वर एक ही प्रभु है

τούτων

यहाँ ""मन"" और ""आत्मा"" किसी व्यक्ति के आन्तरिक होने के लिए उपनाम हैं। इन चार वाक्यांशों का एक साथ उपयोग ""पूरी तरह से"" या ""ईमानदारी से"" को अर्थ के लिए किया गया है। (देखें: और )

Mark 12:32

καλῶς, Διδάσκαλε

यीशु इस उपमा का उपयोग यह तुलना करने के लिए करता है कि कैसे लोगों को एक-दूसरे से उसी प्रेम से प्रेम करना है, जैसे वे स्वयं को प्रेम करते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""अपने पड़ोसी से उतना प्रेम करो जितना तुम स्वयं से प्रेम करते हो"" (देखें: )

εἷς ἐστιν

यहाँ ""इससे"" शब्द उन दो आज्ञाओं को प्रकट करता है जिनको यीशु ने लोगों को अभी बताया था।

οὐκ ἔστιν ἄλλος

हे शिक्षक, अच्छा उत्तर है या ""हे शिक्षक, ठीक कहा है

Mark 12:33

ἐξ ὅλης τῆς καρδίας…ἐξ ὅλης τῆς συνέσεως…ἐξ ὅλης τῆς ἰσχύος

इसका अर्थ है कि केवल एक ही परमेश्वर है। वैकल्पिक अनुवाद: ""केवल एक ही परमेश्वर है"" (देखें: लक्षणालंकार)

τὸ ἀγαπᾶν τὸν πλησίον ὡς ἑαυτὸν

परमेश्वर"" शब्द पिछले वाक्यांश से समझा गया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कि कोई अन्य परमेश्वर नहीं है"" (देखें: उपमा)

περισσότερόν ἐστιν

यहाँ ""मन"" किसी व्यक्ति के विचारों, भावनाओं, या अन्तर्मन के लिए एक उपनाम है। इन तीन वाक्यांशों का एक साथ उपयोग ""पूरी तरह से"" या ""ईमानदारी से"" को अर्थ के लिए किया गया है। (देखें: मुहावरे)

Mark 12:34

οὐ μακρὰν εἶ ἀπὸ τῆς Βασιλείας τοῦ Θεοῦ

यह उपमा तुलना करती है कि कैसे लोगों को एक-दूसरे से उसी प्रेम से प्रेम करना है, जैसे वे स्वयं को प्रेम करते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""अपने पड़ोसी से उतना प्रेम करो जितना तुम स्वयं से प्रेम करते हो"" (देखें: विडंबना और रूपक)

οὐδεὶς…ἐτόλμα

इस मुहावरे का अर्थ है कि कोई वस्तु किसी अन्य वस्तु की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण है। इस प्रकरण में, होमबलि और बलिदान से ये दो आज्ञाएँ परमेश्वर को अधिक प्रसन्न करने वाली हैं। यह स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""से भी अधिक महत्वपूर्ण है"" या ""की तुलना से भी अधिक परमेश्वर को प्रसन्न करने वाली हैं"" (देखें: विडंबना)

Mark 12:35

ἀποκριθεὶς ὁ Ἰησοῦς ἔλεγεν διδάσκων ἐν τῷ ἱερῷ

इसे सकारात्मक रूप में कहा जा सकता है। यहाँ यीशु उस व्यक्ति को भौतिक रूप से परमेश्वर के राज्य के निकट होने पर राजा के रूप में परमेश्वर को स्वयं को समर्पित करने के लिए तैयार होने के लिए कहता है जैसे कि यह एक भौतिक स्थान है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम राजा के रूप में परमेश्वर को समर्पित होने के लिए निकट हो"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

πῶς λέγουσιν οἱ γραμματεῖς ὅτι ὁ Χριστὸς, υἱὸς Δαυείδ ἐστιν?

इसे सकारात्मक रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हर कोई डर गया था"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

υἱὸς Δαυείδ

कुछ समय बीत चुका है और यीशु अब मन्दिर में है। यह पिछली बातचीत का हिस्सा नहीं है। वैकल्पिक अनुवाद: ""बाद में, जब यीशु मन्दिर के परिसर में शिक्षा दे रहा था, उसने लोगों से कहा"" (देखें: )

Mark 12:36

αὐτὸς Δαυεὶδ

यीशु इस प्रश्न का उपयोग लोगों को गहराई से उस भजन के बारे में सोचने के लिए करता है जिसे वह उद्धरित करने वाला है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""घ्यान दो कि शास्त्रियों ने क्यों कहा कि मसीह दाऊद का पुत्र है।"" (देखें: कर्मकर्त्ता सर्वनाम)

ἐν τῷ Πνεύματι τῷ ἁγίῳ

दाऊद का एक वंशज

εἶπεν…εἶπεν ὁ Κύριος τῷ Κυρίῳ μου

यह ""आप ही"" शब्द दाऊद को सन्दर्भित करता है और उस पर और उसने क्या कहा पर जोर देने के लिए उपयोग किया गया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह दाऊद था जिसने"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

κάθου ἐκ δεξιῶν μου

इसका अर्थ है कि वह पवित्र आत्मा द्वारा प्रेरित किया गया था। अर्थात, दाऊद ने जो कहा उसमें पवित्र आत्मा ने उसे निर्देशित किया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""पवित्र आत्मा द्वारा प्रेरित किया गया"" (देखें: प्रतीकात्मक कार्य)

ἕως ἂν θῶ τοὺς ἐχθρούς σου ὑποκάτω τῶν ποδῶν σου

यहाँ दाऊद परमेश्वर को ""प्रभु"" कहता है और मसीह को ""मेरा प्रभु"" कहता है। इसे और अधिक स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मसीह के बारे में कहा, प्रभु परमेश्वर ने मेरे प्रभु से कहा"" (देखें: रूपक)

Mark 12:37

λέγει αὐτὸν, Κύριον

यीशु एक भजन को उद्धरित कर रहा है। यहाँ परमेश्वर मसीह से बात कर रहा है। ""परमेश्वर के दाहिने हाथ"" पर बैठना परमेश्वर से महान सम्मान और अधिकार प्राप्त करने का एक प्रतीकात्मक कार्य है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मेरे बगल में सम्मान के स्थान पर बैठ"" (देखें: )

καὶ πόθεν υἱός αὐτοῦ ἐστιν?

इस उद्धरण में, परमेश्वर दुश्मनों को पैर की पीढ़ी बनाते हुए पराजित करने को बोलता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब तक कि मैं पूरी तरह से तेरे दुश्मनों को पराजित करता हूँ"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 12:38

ἀσπασμοὺς ἐν ταῖς ἀγοραῖς

यहाँ ""उसका"" शब्द मसीह को प्रकट करता है।

Mark 12:40

οἱ κατεσθίοντες τὰς οἰκίας τῶν χηρῶν

इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसलिए विचार करो कि मसीह दाऊद का वंशज कैसे हो सकता है"" (देखें: रूपक)

τὰς οἰκίας τῶν χηρῶν

नमस्कार"" संज्ञा को ""अभिवादन"" क्रिया के साथ व्यक्त किया जा सकता है। इन अभिवादनों ने प्रकट किया कि लोगों ने शास्त्रियों का सम्मान किया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""बाजारों में सम्मानपूर्वक अभिवादन किए जाएँ"" या ""लोगों द्वारा बाजारों में सम्मानपूर्वक उनका नमस्कार करने के लिए"" (देखें: उपलक्षण अलंकार)

οὗτοι λήμψονται περισσότερον κρίμα

यहाँ यीशु शास्त्रियों का विधवाओं के साथ धोखाधड़ी करने और उनके घरों को ""खा"" जाने के रूप में चुराने का वर्णन करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे भी उनके घरों को उनसे चुरा लेने में विधवाओं को धोखा देते हैं"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

λήμψονται περισσότερον κρίμα

विधवा"" और ""घर"" शब्द असहाय लोगों और क्रमशः सभी व्यक्तियों की महत्वपूर्ण सम्पत्तियों के लिए उपलक्ष्य अंलकार हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""असहाय लोगों से सबकुछ"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 12:41

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर निश्चित रूप से उन्हें अधिक दंड के साथ सजा देगा"" या ""परमेश्वर निश्चित रूप से उन्हें गंभीर रूप से सजा देगा"" (देखें: )

τοῦ γαζοφυλακίου

अधिक"" शब्द एक तुलना का तात्पर्य है। यहाँ तुलना अन्य लोगों के लिए है जो दंडित किए गए हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""अन्य लोगों की तुलना में अधिक दंड प्राप्त करेंगे"" (देखें: )

Mark 12:42

λεπτὰ δύο

फिर भी मन्दिर के परिसर में, यीशु विधवा की भेंट के मूल्य पर टिप्पणी करता है।

ἐστιν κοδράντης

यह डिब्बा, जो हर कोई उपयोग कर सकता था, मन्दिर के दान को इकट्ठा करता था।

Mark 12:43

ताम्बे के दो छोटे सिक्के। ये कम से कम मूल्य वाले उपलब्ध सिक्के थे। (देखें: बाइबल में धन)

προσκαλεσάμενος

बहुत कम मूल्य वाले। एक पैसे का मूल्य बहुत कम होता है। ""पैनी"" का अनुवाद आपकी भाषा में सबसे छोटे सिक्के के नाम से करें यदि आपके पास बहुत कम मूल्य वाला कोई सिक्का है।

ἀμὴν, λέγω ὑμῖν

वचन 43 में यीशु कहता है कि धनी लोगों की तुलना में विधवा भेंट में अधिक पैसा डालती है, और 44 वचन में वह उसके ऐसा कहने का कारण बताता है। यूएसटी अनुवाद के जैसे इस जानकारी को फिर से व्यवस्थित किया जा सकता है ताकि यीशु पहले अपना कारण बताता है और फिर कहता है कि विधवा ने अधिक डाला है। (देखें: )

πάντων…τῶν βαλλόντων εἰς

यीशु ने बुलाया

Mark 12:44

τοῦ περισσεύοντος

यह इंगित करता है कि निम्न कथन विशेष रूप से सत्य और महत्वपूर्ण है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 3:28

τῆς ὑστερήσεως αὐτῆς

अन्य सभी लोग जो पैसे डालते हैं

τὸν βίον αὐτῆς

बहुत धन, कई मूल्यवान चीजें

Mark 13

कमी या ""थोड़ा जो उसके पास था

Mark 13:1

पर जीवित रहने के लिए

ποταποὶ λίθοι καὶ ποταπαὶ οἰκοδομαί

मरकुस 13 सामान्य टिप्पणियाँ

संरचना और संरूपण

कुछ अनुवाद पढ़ने के लिए आसान बनाने के लिए पाठ के बाकी अंशों की तुलना में काव्य साहित्य की प्रत्येक पंक्ति को दाईं ओर निर्धारित करते हैं। यूएलटी अनुवाद 13: 24-25 में काव्य साहित्य के साथ ऐसा करता है, जो पुराने नियम के वचन हैं।

इस अध्याय में पाई जाने वाली विशेष धारणाएँ

मसीह की वापसी

यीशु ने इसके बारे में बहुत कुछ कहा कि उशके लौटने से पहले क्या होगा (मरकुस 13:6-37)। उसने अपने अनुयायियों से कहा कि संसार में बुरी बातें घटित होंगी और उसके लौटने से पहले उनके साथ बुरी बातें घटित होंगी, परन्तु उन्हें उसके किसी भी समय वापस आने के लिए तैयार रहने की आवश्यकता है।

Mark 13:2

βλέπεις ταύτας τὰς μεγάλας οἰκοδομάς? οὐ μὴ…λίθος

जब वे मन्दिर के परिसर को छोड़ते हैं, तो यीशु अपने चेलों को बताता है कि भविष्य में हेरोदेस महान के बनाए हुए इस अद्भुत मन्दिर के साथ क्या होगा।

οὐ μὴ ἀφεθῇ ὧδε λίθος ἐπὶ λίθον, ὃς οὐ μὴ καταλυθῇ

पत्थर"" उन पत्थरों को सन्दर्भित करते हैं जिनसे भवनों का निर्माण किया गया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""अद्भुत भवन और अद्भुत पत्थर जो कि बनाए गए हैं"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना और कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 13:3

इस प्रश्न का उपयोग भवनों पर ध्यान आकर्षित करने के लिए किया गया है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इन बड़े भवनों को देखो! एक पत्थर को नहीं ""या"" अब तुम इन बड़े भवनों को देखते हो, परन्तु एक पत्थर को नहीं ""(देखें: )

καὶ καθημένου αὐτοῦ εἰς τὸ Ὄρος τῶν Ἐλαιῶν κατέναντι τοῦ ἱεροῦ…Πέτρος

यह निहितार्थ है कि दुश्मन सैनिक पत्थरों को नष्ट कर देंगे। इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक भी पत्थर दूसरे के ऊपर नहीं रहेगा, क्योंकि दुश्मन सैनिक आएँगे और इन भवनों को नष्ट कर देंगे"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

κατ’ ἰδίαν

मन्दिर के विनाश और जो कुछ होने जा रहा था उस के बारे में चेलों के प्रश्नों के उत्तर में, यीशु उन्हें बताता है कि भविष्य में क्या कुछ घटित होने जा रहा था।

Mark 13:4

ταῦτα ἔσται…μέλλῃ…συντελεῖσθαι

यह स्पष्ट रूप से व्यक्त किया जा सकता है कि यीशु और उसके चेले जैतून के पहाड़ पर चले गए थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""जैतून पर्वत पर पहुँचने के बाद, जो मन्दिर के विपरीत है, यीशु बैठ गया। तब पतरस"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ὅταν…ταῦτα…πάντα

जब वे अकेले थे

Mark 13:5

λέγειν αὐτοῖς

यह दर्शाता है कि यीशु ने अभी जो कहा था वह मन्दिर के पत्थरों के साथ होगा। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""ये बातें मन्दिर के भवनों के साथ होती हैं ... मन्दिर के भवनों के बारे में घटित होने वाली हैं"" (देखें: )

ὑμᾶς πλανήσῃ

कि ये सब बातें

Mark 13:6

πολλοὺς πλανήσουσιν

अपने चेलों से

ἐπὶ τῷ ὀνόματί μου

यहाँ ""तुमको भरमाते हैं"" किसी को उस पर विश्वास कराने के लिए एक रूपक है जो सत्य नहीं है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम्हें धोखा देते हैं"" (देखें: लक्षणालंकार)

ἐγώ εἰμι

यहाँ ""भरमाते ... है"" किसी को उस पर विश्वास कराने के लिए एक रूपक है जो सत्य नहीं है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे कई लोगों को धोखा देंगे"" (देखें: रूपक)

Mark 13:7

ἀκούσητε πολέμους καὶ ἀκοὰς πολέμων

सम्भावित अर्थ हैं 1) ""मेरे अधिकार का दावा करते हुए"" या 2) ""दावा करते हुए कि परमेश्वर ने उन्हें भेजा है।"" (देखें: )

ἀλλ’ οὔπω τὸ τέλος

मैं मसीह हूँ

τὸ τέλος

लड़ाइयों को सुनो और लड़ाइयों के बारे में सूचना सुनो। सम्भावित अर्थ हैं 1) ""निकट की लड़ाइयों की आवाज़ें और दूर की लड़ाइयों का समाचार सुनते हो"" या 2) ""आरम्भ हो चुकी लड़ाइयों को और आरम्भ होने वाली लड़ाइयों की सूचना को सुनते हो

Mark 13:8

ἐγερθήσεται…ἐπ’

परन्तु यह अभी अन्त नहीं है या ""परन्तु अन्त नहीं होगा जब तक कि बाद में"" या ""परन्तु अन्त बाद में होगा

βασιλεία ἐπὶ βασιλείαν

यह सम्भवतः संसार के अन्त को प्रकट करता है। (देखें: पदन्यूनता)

ἀρχὴ ὠδίνων ταῦτα

यह मुहावरे का अर्थ एक दूसरे के विरूद्ध लड़ना है। वैकल्पिक अनुवाद: ""विरूद्ध लड़ेंगे"" (देखें: रूपक)

Mark 13:9

βλέπετε δὲ ὑμεῖς ἑαυτού

चढ़ाई करेंगे"" शब्द पिछले वाक्यांश से समझे गए हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""राज्य राज्य के विरूद्ध चढ़ाई करेंगे"" या ""एक राज्य के लोग दूसरे राज्य के लोगों के विरूद्ध लड़ाई करेंगे"" (देखें: )

παραδώσουσιν ὑμᾶς εἰς συνέδρια

यीशु इन आपदाओं को प्रसवपीड़ा के आरम्भ होने के जैसे बोलता है क्योंकि उनके बाद अधिक गंभीर बातें घटित होंगी। वैकल्पिक अनुवाद: ""ये घटनाएँ एक बच्चे को जन्म देने के समय एक स्त्री को होने वाली पहली पीड़ाओं की तरह होंगी"" (देखें: )

δαρήσεσθε

लोग तुम्हारे साथ जो करेंगे उसके लिए तैयार रहो

ἐπὶ…σταθήσεσθε

तुम्हें ले जाकर परिषदों के नियन्त्रण में कर देते हैं

ἕνεκεν ἐμοῦ

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोग तुम्हें पीटेंगे"" (देखें: )

εἰς μαρτύριον αὐτοῖς

इसका अर्थ मुकदमा चलाए जाने और न्याय किए जाने से है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम पर पहले मुकदमा चलाया जाएगा"" या ""तुम्हें मुकदमा चलाने के लिए लाया जाएगा और न्याय किया जाएगा"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 13:10

καὶ εἰς πάντα τὰ ἔθνη πρῶτον δεῖ κηρυχθῆναι τὸ εὐαγγέλιον

मेरे कारण या ""मेरे बदले में

Mark 13:11

παραδιδόντες

इसका अर्थ है कि वे यीशु के बारे में गवाही देंगे। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""और मेरे बारे में उन्हें गवाही दो"" या ""और तुम उन्हें मेरे बारे में बताओगे"" (देखें: मुहावरे)

ἀλλὰ τὸ Πνεῦμα τὸ Ἅγιον

यीशु अभी भी उन बातों के बारे में बात कर रहा है जो अंत आने से पहले घटित होनी हैं। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु इससे पहले कि अन्त आएगा सुसमाचार को सभी राष्ट्रों में घोषित किया जाना है"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 13:12

παραδώσει ἀδελφὸς ἀδελφὸν εἰς θάνατον

यहाँ इसका अर्थ लोगों को अधिकारियों के नियन्त्रण में रखने से है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम्हें अधिकारियों को सौंप देंगे"" (देखें: जब पुल्लिंग शब्दों में स्त्रियाँ शामिल होती हैं)

ἀδελφὸς ἀδελφὸν

क्या कहेंगे"" शब्द पिछले वाक्यांश से समझे गए हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु पवित्र आत्मा तुम्हारे द्वारा बात करेगा"" (देखें: पदन्यूनता और मुहावरे)

πατὴρ τέκνον

एक भाई दूसरे भाई को उन लोगों के नियन्त्रण में कर देगा जो उसे मार देंगे या ""भाई अपने भाइयों को उन लोगों के नियन्त्रण में कर देंगे जो उन्हें मार डालेंगे।"" यह कई बार बहुत से अलग अलग लोगों के साथ घटित होगा। यीशु केवल एक व्यक्ति और उसके भाई की बात नहीं कर रहा है।

ἐπαναστήσονται τέκνα ἐπὶ γονεῖς

यह भाइयों और बहनों दोनों के विषय में है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोग ... उनके भाई बहन"" (देखें: मुहावरे)

θανατώσουσιν αὐτούς

मारने के लिए सौंपेंगे"" शब्द पिछले वाक्यांश से समझे गए हैं। इसका अर्थ है कि कुछ पिता अपने बच्चों को धोखा देंगे, और इस विश्वासघात का नतीजा उनके बच्चों का मार डाला जाना होगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""पिता अपने बच्चों को मर जाने के लिए सौंप देंगे"" या ""पिता अपने बच्चों को धोखा देंगे, उन्हें मार डाले जाने के लिए पकड़वा देंगे"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 13:13

ἔσεσθε μισούμενοι ὑπὸ πάντων

इसका अर्थ है कि बच्चे अपने माता-पिता का विरोध करेंगे और उन्हें धोखा देंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""बच्चे अपने माता-पिता का विरोध करेंगे"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

διὰ τὸ ὄνομά μου

इसका अर्थ है कि अधिकारी माता-पिता को मौत के लिए सजा देंगे। इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अधिकारियों का माता-पिता को मरने के लिए सजा देना"" या ""वे अधिकारी माता-पिता को मार देंगे"" (देखें: लक्षणालंकार)

ὁ…ὑπομείνας εἰς τέλος, οὗτος σωθήσεται

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हर कोई तुमसे नफरत करेगा"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

ὁ…ὑπομείνας εἰς τέλος

यीशु स्वयं को प्रकट करने के लिए ""मेरा नाम"" उपनाम का उपयोग करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मेरे कारण"" या ""क्योंकि तुम मुझ पर विश्वास करते हो"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

εἰς τέλος

यह सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो भी अन्त तक धीरज रखता है, परमेश्वर उस व्यक्ति को बचाएगा"" या ""जो कोई भी अन्त तक धीरज रखेगा परमेश्वर उसे बचाएगा"" देखें:

Mark 13:14

τὸ βδέλυγμα τῆς ἐρημώσεως

यहाँ ""धीरज"" दुःखों में भी परमेश्वर के प्रति विश्वासयोग्य होने का प्रतिनिधित्व करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो भी अन्त तक दुःख उठाता है और परमेश्वर के प्रति विश्वासयोग्य रहता है"" (देखें: रूपक)

ἑστηκότα ὅπου οὐ δεῖ

सम्भावित अर्थ हैं 1) ""अपने जीवन के अन्त तक"" या 2) ""उस मुसीबत के समय के अन्त तक

ὁ ἀναγινώσκων νοείτω

यह वाक्यांश दानिय्येल की पुस्तक से है। उसके दर्शक इस सन्दर्भ से और मन्दिर में घृणित वस्तु के प्रवेश करने और इसे अशुद्ध कर देने के बारे में भविष्यद्वाणी से परिचित होंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह घृणित वस्तु जो परमेश्वर की चीजों को अशुद्ध करती है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 13:15

ἐπὶ τοῦ δώματος

यीशु के दर्शकों को पता था कि यह मन्दिर को प्रकट करता है। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मन्दिर में खड़ी है, जहाँ यह खड़ी नहीं होनी चाहिए"" (देखें: )

Mark 13:16

μὴ ἐπιστρεψάτω εἰς τὰ ὀπίσω

यह यीशु नहीं बोल रहा है। मत्ती ने पाठकों का ध्यान आकर्षित करने के लिए इसे जोड़ा है, ताकि वे इस चेतावनी को सुन पाएँ। वैकल्पिक अनुवाद: ""हर कोई जो भी इसे पढ़ रहा है वह इस चेतावनी पर ध्यान दे"" (देखें: पदन्यूनता)

ἆραι τὸ ἱμάτιον αὐτοῦ

घर की छतें जहाँ यीशु रहता था वे समतल थीं, और लोग उन पर खड़े हो सकते थे।

Mark 13:17

ταῖς ἐν γαστρὶ ἐχούσαις

यह उसके घर लौटने को प्रकट करता है। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अपने घर नहीं लौटे"" (देखें: शिष्टोक्ति)

Mark 13:18

προσεύχεσθε…ἵνα

अपना कपड़ा लेने के लिए

χειμῶνος

यह कहने का एक विनम्र तरीका है कि कोई गर्भवती है। वैकल्पिक अनुवाद: ""गर्भवती हैं"" (देखें: )

Mark 13:19

οἵα οὐ γέγονεν τοιαύτη

प्रार्थना करो कि ये समय या ""प्रार्थना करो कि ये बातें

οὐ μὴ γένηται

ठंडा मौसम या ""ठंडा, बरसात का मौसम।"" यह वर्ष के उस समय को दर्शाता है जब यह ठंडा और अप्रिय होता है और यात्रा करना कठिन होता है।

Mark 13:20

ἐκολόβωσεν…τὰς ἡμέρας

वहाँ कभी हुआ हो उससे कहीं अधिक। यह वर्णन करता है कि विपत्ति कितनी बड़ी और भयानक होगी। ऐसी कोई विपत्ति घटित नहीं हुई है जितनी यह भयानक होगी।

οὐκ ἂν ἐσώθη πᾶσα σάρξ

और वहाँ से कहीं अधिक फिर कभी होगी या ""और उस विपत्ति के बाद, फिर कभी भी इस तरह की विपत्ति नहीं होगी

διὰ τοὺς ἐκλεκτοὺς

समय कम कर दिया था। यह उल्लेख करना सहायक हो सकता है कि कौन से ""दिन"" दर्शाए गए हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""पीड़ा के दिनों को कम कर दिया था"" या ""पीड़ा के समय को कम कर दिया था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

τοὺς ἐκλεκτοὺς, οὓς ἐξελέξατο

प्राणी"" शब्द लोगों को प्रकट करता है, और ""बचना"" भौतिक उद्धार को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कोई भी बचाया नहीं जाएगा"" या ""हर कोई मर जाएगा"" (देखें: दोहरात्मक)

Mark 13:21

चुने हुओं की सहायता करने के लिए

Mark 13:22

ψευδόχριστοι

वाक्यांश ""जिनको उसने चुना है"" का अर्थ ""चुने हुओं"" जैसा ही है। एक साथ में, वे जोर देते हैं कि परमेश्वर ने इन लोगों को चुना है। (देखें: )

πρὸς τὸ ἀποπλανᾶν

वचन 21 में यीशु एक आज्ञा देता है, और वचन 22 में वह आज्ञा के कारण को बताता है। यूएसटी अनुवाद के जैसे इसे कारण पहले, और आज्ञा बाद में के साथ आगे-पीछे किया जा सकता है। (देखें: )

πρὸς τὸ ἀποπλανᾶν εἰ δυνατὸν τοὺς ἐκλεκτούς

लोग जो दावा करते हैं कि वे मसीह हैं

τοὺς ἐκλεκτούς

धोखा देने के लिए या ""धोखा देने की अपेक्षा"" या ""धोखा देने का प्रयास

Mark 13:23

ὑμεῖς δὲ βλέπετε

चुने हुओं को भी"" वाक्यांश का तात्पर्य है कि झूठे मसीह और झूठे भविष्यद्वक्ता कुछ लोगों को धोखा देने की अपेक्षा करेंगे, परन्तु वे नहीं जान पाएँगे यदि वे चुने हुओं को धोखा देने में सक्षम होंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोगों को धोखा देने के लिए, और यहाँ तक कि चुने हुओं को धोखा देने के लिए, यदि यह सम्भव है"" (देखें: )

προείρηκα ὑμῖν πάντα

वे लोग जिनको परमेश्वर ने चुना है

Mark 13:24

ὁ ἥλιος σκοτισθήσεται

सावधान रहें या ""सतर्क रहें

ἡ σελήνη οὐ δώσει τὸ φέγγος αὐτῆς

यीशु ने उन्हें चेतावनी देने के लिए उनसे इन बातों को कहा। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैंने तुम्हें समय से पहले चेतावनी देने के लिए तुमको इन सभी बातों को बताया है"" (देखें: मानवीकरण)

Mark 13:25

οἱ ἀστέρες ἔσονται ἐκ τοῦ οὐρανοῦ πίπτοντες

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सूर्य अन्धेरा हो जाएगा"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

αἱ δυνάμεις αἱ ἐν τοῖς οὐρανοῖς σαλευθήσονται

यहाँ चंद्रमा की बात ऐसे की जाती है जैसे कि यह जीवित था और किसी और को कुछ देने में सक्षम था। वैकल्पिक अनुवाद: ""चंद्रमा नहीं चमकेगा"" या ""चंद्रमा अन्धेरा होगा"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

αἱ δυνάμεις αἱ ἐν τοῖς οὐρανοῖς

इसका अर्थ यह नहीं है कि वे पृथ्वी पर गिर पड़ेंगे, परन्तु वे वहाँ से गिर पड़ेंगे जहाँ अभी वे हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""तारागण आकाश में अपने स्थानों से गिर पड़ेंगे"" (देखें: )

ἐν τοῖς οὐρανοῖς

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""आकाश की शक्तियाँ हिलाई जाएँगी"" या ""परमेश्वर उन शक्तियों को हिलाएगा जो स्वर्ग में हैं"" (देखें: )

Mark 13:26

τότε ὄψονται

स्वर्ग की शक्तिशाली चीजें। सम्भावित अर्थ हैं 1) यह सूर्य, चंद्रमा, और तारागणों को प्रकट करता है या 2) यह शक्तिशाली आत्मिक प्राणियों को प्रकट करता है

μετὰ δυνάμεως πολλῆς καὶ δόξης

आकाश में

Mark 13:27

ἐπισυνάξει

तब लोग देखेंगे

τῶν τεσσάρων ἀνέμων

शक्तिशाली रूप से और महिमित रूप से

ἀπ’ ἄκρου γῆς ἕως ἄκρου οὐρανοῦ

वह"" शब्द परमेश्वर को प्रकट करता है और उसके स्वर्गदूतों के लिए एक उपनाम है, क्योंकि ये वे हैं जो चुने हुओं को इकट्ठा करेंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे इकट्ठे करेंगे"" या ""उसके स्वर्गदूत इकट्ठा करेंगे"" (देखें: विभज्योतक)

Mark 13:28

पूरी पृथ्वी को ""चारों दिशा"" के रूप में कहा गया है, जो चार दिशाओं को प्रकट करता है: उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम। वैकल्पिक अनुवाद: ""उत्तर, दक्षिण, पूर्व, और पश्चिम"" या ""पृथ्वी के सभी हिस्से"" (देखें: दृष्टांत)

ὁ κλάδος αὐτῆς ἁπαλὸς γένηται, καὶ ἐκφύῃ τὰ φύλλα

इन दो चरम सीमाओं पर जोर दिया गया है कि चुने हुओं को पूरी पृथ्वी से इकट्ठा किया जाएगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""पृथ्वी के हर स्थान से"" (देखें: )

ἁπαλὸς

यीशु यहाँ लोगों को याद दिलाने के लिए दो छोटे दृष्टान्त देता है उस समय सावधान रहने के लिए जब वह बातें घटती हैं जिनकी व्याख्या वह कर रहा है। (देखें: )

ἐκφύῃ τὰ φύλλα

डाली"" वाक्यांश अंजीर के पेड़ की शाखाओं को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसकी शाखाएँ कोमल हो जाती हैं और पत्तियाँ निकलने लगती हैं

τὸ θέρος

हरी और कोमल

Mark 13:29

ταῦτα

यहाँ अंजीर के पेड़ को इस तरह बोला गया है जैसे कि यह जीवित था और स्वेच्छा से अपनी पत्तियों को विकसित करने में सक्षम था। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसकी पत्तियाँ अंकुरित होने लगती हैं"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἐγγύς ἐστιν

वर्ष या बढ़ते मौसम का गर्म हिस्सा

ἐπὶ θύραις

यह विपत्ति के दिनों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""इन चीजों को मैंने अभी वर्णित किया है"" (देखें: मुहावरे)

Mark 13:30

ἀμὴν, λέγω ὑμῖν

मनुष्य का पुत्र निकट है

οὐ μὴ παρέλθῃ

इस मुहावरे का अर्थ है कि वह बहुत ही निकट है और लगभग आ गया है, जो एक यात्री को शहर के द्वार पर पहुँचने के निकट होने को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""और लगभग यहाँ है"" (देखें: शिष्टोक्ति)

μέχρις οὗ ταῦτα πάντα

यह इंगित करता है कि निम्न कथन विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 3:28

Mark 13:31

ὁ οὐρανὸς καὶ ἡ γῆ

मरने वाले किसी के बारे में बात करने का यह एक विनम्र तरीका है। वैकल्पिक अनुवाद: ""नहीं मरेगा"" या ""समाप्त नहीं होगा"" (देखें: विभज्योतक)

παρελεύσονται

ये बातें"" वाक्यांश विपत्तियों के दिनों को प्रकट करता है।

οἱ…λόγοι μου οὐ μὴ παρελεύσονται

सूर्य, चंद्रमा, तारागणों, और ग्रहों, और सारी पृथ्वी समेत सम्पूर्ण आकाश को प्रकट करने के लिए दो चरम सीमाएँ दी गई हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""आकाश, पृथ्वी, और उनमें सब कुछ"" (देखें: रूपक)

Mark 13:32

τῆς ἡμέρας ἐκείνης ἢ τῆς ὥρας

अस्तित्व में नहीं रहेंगे। यहाँ यह वाक्यांश संसार को समाप्त करने के लिए सन्दर्भित करता है।

οὐδεὶς οἶδεν; οὐδὲ οἱ ἄγγελοι ἐν οὐρανῷ, οὐδὲ ὁ Υἱός, εἰ μὴ ὁ Πατήρ

यीशु उनकी शक्ति नहीं खोने वाले वचनों को कहता है जैसे कि वे कुछ ऐसे थे जो शारीरिक रूप से कभी नहीं मरेंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""मेरे वचन कभी भी अपनी शक्ति को नहीं खोएँगे"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

οἱ ἄγγελοι ἐν οὐρανῷ

यह उस समय को प्रकट करता है जब मनुष्य का पुत्र लौटेगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह दिन या वह घड़ी जब मनुष्य का पुत्र लौटेगा "" या ""वह दिन या वह घड़ी जब मैं लौटूँगा"" (देखें: पदन्यूनता)

εἰ μὴ ὁ Πατήρ

ये शब्द उनमें से कुछ का उल्लेख करते हैं जो नहीं जानते कि मनुष्य का पुत्र लौटेगा, पिता से अलग होकर, जो जानता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कोई भी नहीं जानता-न तो स्वर्ग में स्वर्गदूत और न ही पुत्र जानता है- परन्तु केवल पिता"" या ""न तो स्वर्ग में स्वर्गदूतों को और न ही पुत्र को पता है, कोई भी नहीं जानता परन्तु केवल पिता"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 13:33

πότε ὁ καιρός ἐστιν

यहाँ ""स्वर्ग"" उस स्थान को सन्दर्भित करता है जहाँ परमेश्वर रहता है।

Mark 13:32

पिता"" का अनुवाद उसी शब्द के साथ करना सबसे अच्छा है जो आपकी भाषा स्वभाविक रूप से मानव पिता के सन्दर्भ में उपयोग करती है। इसके अतिरिक्त, यह एक अलंकार है, यह बताते हुए कि केवल पिता जानता है कि पुत्र कब लौटेगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु केवल पिता ही जानता है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 13:35

ἢ ὀψὲ

यह स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि यहाँ पर ""समय"" क्या प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब ये सभी घटनाएँ घटित होंगी"" (देखें: )

ἀλεκτοροφωνίας

प्रत्येक को बताना कि उसे कौन सा काम करना चाहिए

Mark 13:36

εὕρῃ ὑμᾶς καθεύδοντας

वह शाम के समय लौट सकता है

Mark 14

मुर्गा एक पक्षी है जो जोर से पुकारने के द्वारा सुबह बड़े भोर में ""बाँग"" देता है।

Mark 14:1

यहाँ यीशु ""सोते हुए"" के रूप में तैयार नहीं होने की बात करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुमको उसके लौटने के लिए तैयार नहीं पाए"" (देखें: )

ἐν δόλῳ

मरकुस 14 सामान्य टिप्पणियाँ

संरचना और संरूपण

कुछ अनुवाद पढ़ने के लिए आसान बनाने के लिए पाठ के बाकी अंशों की तुलना में काव्य साहित्य की प्रत्येक पंक्ति को दाईं ओर निर्धारित करते हैं। यूएलटी अनुवाद 14:27, 62 में काव्य सहित्य के साथ ऐसा ही करता है, जो पुराने नियम के वचन हैं।

इस अध्याय में पाई जाने वाली विशेष धारणाएँ

देह और लहू को खाना

मरकुस 14:22-25 अपने अनुयायियों के साथ यीशु के आखिरी भोजन का वर्णन करता है। इस समय, यीशु ने उनसे कहा कि वे जो खा रहे थे और पी रहे थे वह उसकी देह और उसका लहू था। लगभग सभी मसीही कलीसियाएँ इस भोजन को याद रखने के लिए ""प्रभु भोज"", ""यूखारिस्ट"" या ""पवित्र प्रभु भोज"" को मनाते हैं।

इस अध्याय में अनुवाद सम्बन्धी अन्य सम्भावित कठिनाइयाँ

अब्बा, पिता

""अब्बा"" एक अरामी शब्द जिसे यहूदियों ने अपने पिता से बात करने के लिए उपयोग किया था। मरकुस इसके सुनाई देने की रीति पर इसे लिखता है और फिर इसका अनुवाद करता है। (देखें:)

""मनुष्य का पुत्र""

यीशु इस अध्याय में स्वयं को ""मनुष्य का पुत्र"" के रूप में प्रकट करता है (मरकुस 14:20). आपकी भाषा लोगों को स्वयं के लिए ऐसी बात करने की अनुमति न दे जैसे कि वे किसी और के बारे में बात कर रहे थे। (देखें: और )

Mark 14:2

ἔλεγον γάρ

फसह के दो दिन पहले, महायाजक और शास्त्री यीशु को मारने की चुपके से योजना बना रहे हैं।

μὴ ἐν τῇ ἑορτῇ

लोगों को ध्यान में रखते हुए

Mark 14:3

वे"" शब्द महायाजकों और शास्त्रियों को प्रकट करता है।

Σίμωνος τοῦ λεπροῦ

यह पर्व के दौरान यीशु को गिरफ्तार नहीं करने वालों को दर्शा रहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हमें पर्व के दौरान ऐसा नहीं करना चाहिए"" (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

κατακειμένου αὐτοῦ

यद्यपि कुछ इसलिए क्रोधित थे कि तेल का उपयोग यीशु को अभिषेक करने के लिए किया गया था, यीशु कहता है कि उस स्त्री ने उसके मरने से पहले दफनाने के लिए उसके शरीर का अभिषेक किया है।

ἀλάβαστρον

इस व्यक्ति को पहले कोढ़ था परन्तु अब बीमार नहीं था। यह शमौन पतरस और शमौन जिलोती की तुलना में एक अलग व्यक्ति है। (देखें: अज्ञात का अनुवाद)

ἀλάβαστρον μύρου, νάρδου πιστικῆς πολυτελοῦς

यीशु की संस्कृति में, जब लोग भोजन के लिए इकट्ठा होते थे, तो वे एक निचली मेज के किनारे पर तकियों का सहारा लेते हुए अपनी बगलों पर झुक जाते थे।

αὐτοῦ τῆς κεφαλῆς

यह संगरमरमर से बना एक पात्र है। संगमरमर एक बहुत ही महंगा पीला-सफेद पत्थर था। वैकल्पिक अनुवाद: ""सुंदर सफेद पत्थर का पात्र"" (देखें: अज्ञात का अनुवाद)

Mark 14:4

εἰς τί ἡ ἀπώλεια αὕτη τοῦ μύρου γέγονεν?

जिसमें जटामासी नाम का महंगा, सुगन्धित इत्र भरा हुआ था। जटामासी एक बहुत ही महंगा, मधुर-सुगन्ध वाला तेल था जो इत्र बनाने के लिए उपयोग किया जाता था। (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 14:5

ἠδύνατο…τοῦτο τὸ μύρον πραθῆναι

यीशु के सिर पर

δηναρίων τριακοσίων

उन्होंने यह प्रकट करने के लिए इस प्रश्न को पूछा कि उन्होंने यीशु पर इत्र डालने वाली स्त्री को अस्वीकृत कर दिया था। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह भयानक है कि इसने उस इत्र को बर्बाद कर दिया!"" (देखें: बाइबल में धन और संख्याएँ)

δοθῆναι τοῖς πτωχοῖς

मरकुस अपने पाठकों को दिखाना चाहता है कि वहाँ उपस्थित वे लोग पैसे के बारे में ज्यादा चिंतित थे। इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हम इस इत्र को बेच सकते थे"" या ""वह इस इत्र को बेच सकती थी"" (देखें: पदन्यूनता और आम विशेषण)

Mark 14:6

τί αὐτῇ κόπους παρέχετε?

300 दीनार दीनार रोमी चाँदी के सिक्के हैं। (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 14:5

वाक्यांश ""कंगालों"" गरीब लोगों को दर्शा रहा है। यह इत्र की बिक्री से मिले पैसों को गरीबों को देने को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""गरीब लोगों को वह पैसा दिया गया होता"" (देखें: आम विशेषण)

Mark 14:6

यीशु इस स्त्री की गतिविधि पर प्रश्न उठाने के लिए मेहमानों को डाँटता है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम्हें उसे परेशान नहीं करना चाहिए!"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 14:7

यह गरीब लोगों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""गरीब लोग"" देखें:

Mark 14:9

ὃ ἐποίησεν αὕτη, λαληθήσεται

यह इंगित करता है कि निम्न कथन विशेष रूप से सत्य और महत्वपूर्ण है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 3:28

Mark 14:10

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जहाँ कहीं भी मेरे अनुयायी सुसमाचार का प्रचार करते हैं"" (देखें: )

ἵνα αὐτὸν παραδοῖ αὐτοῖς

इस स्त्री ने जो किया है, इसको भी बताया जाएगा

αὐτὸν παραδοῖ

स्त्री के द्वारा इत्र से यीशु का अभिषेक करने के पश्चात्, यहूदा यीशु को महायाजकों को सौंप देने का वादा करता है।

Mark 14:11

οἱ δὲ ἀκούσαντες

यहूदा ने यीशु को अभी तक उन्हें नहीं सौंपा था, इसके बजाए वह उनके साथ समझौता करने गया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""उनके साथ समझौता करने के लिए कि वह यीशु को उन्हें सौंप देगा "" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 14:12

यीशु को उनके पास लाए ताकि वे उसे पकड़ सकें

ὅτε τὸ Πάσχα ἔθυον

यह स्पष्ट रूप से बताने में सहायक हो सकता है कि महायाजकों ने क्या सुना। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब महायाजकों ने सुना कि वह उनके लिए क्या करने को तैयार था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

φάγῃς τὸ Πάσχα

यीशु फसह के भोजन को तैयार करने के लिए दो चेलों को भेजता है।

Mark 14:13

κεράμιον ὕδατος βαστάζων

अखमीरी रोटी के पर्व के आरम्भ में, यह एक मेमना बलिदान करने की प्रथा थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""तब फसह के मेमने को बलिदान देने की प्रथा थी"" (देखें: )

Mark 14:14

ὁ διδάσκαλος λέγει, ποῦ ἐστιν τὸ κατάλυμά μου…μετὰ τῶν μαθητῶν μου φάγω?

यहाँ ""फसह"" फसह के भोजन को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""फसह का भोजन खाना"" (देखें: प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष उद्धरण)

τὸ κατάλυμά

पानी से भरा हुआ एक बड़ा घड़ा उठाए हुए

Mark 14:15

ἐκεῖ ἑτοιμάσατε ἡμῖν

इसे एक अप्रत्यक्ष उद्धरण के रूप में लिखा जा सकता है। इसका अनुवाद ऐसे करो कि यह एक विनम्र अनुरोध है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हमारा गुरू यह जानना चाहेगा कि अतिथि कक्ष कहाँ है जहाँ वह अपने चेलों के साथ फसह का भोजन खाए।"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 14:16

ἐξῆλθον οἱ μαθηταὶ

आगंतुकों के लिए एक कमरा

καθὼς εἶπεν

वे यीशु और उसके चेलों के खाने के लिए भोजन तैयार करते थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""वहाँ हमारे लिए भोजन तैयार करो"" (देखें: )

Mark 14:17

दो चेले चले गए

ἔρχεται μετὰ τῶν δώδεκα

जैसा कि यीशु ने कहा था

Mark 14:18

ἀνακειμένων

उस शाम जब यीशु और चेले फसह के भोजन खाते हैं, यीशु उन्हें बताता है कि उनमें से एक उसे धोखा देगा।

ἀμὴν, λέγω ὑμῖν

यह कहने में सहायक हो सकता है कि वे कहाँ आए थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह बारहों के साथ उस घर में आया"" (देखें: )

Mark 14:19

εἷς κατὰ εἷς

यीशु की संस्कृति में, जब लोग भोजन के लिए इकट्ठा होते थे, तो वे एक निचली मेज के किनारे पर तकियों का सहारा लेते हुए अपनी बगलों पर झुक जाते थे।

μήτι ἐγώ?

यह इंगित करता है कि निम्न कथन विशेष रूप से सत्य और महत्वपूर्ण है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 3:28

Mark 14:20

εἷς τῶν δώδεκα

इसका अर्थ है कि ""एक समय में"" प्रत्येक चेले ने उससे पूछा।

ἐμβαπτόμενος μετ’ ἐμοῦ εἰς τὸ τρύβλιον

सम्भावित अर्थ हैं 1) यह एक ऐसा प्रश्न था जिसके लिए चेलों ने नहीं में उत्तर देने की अपेक्षा की थी या 2) यह एक अलंकारिक प्रश्न था जिसे प्रतिक्रिया की आवश्यकता नहीं थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""निश्चित रूप से मैं वह नहीं हूँ जो तुम्हें धोखा देगा!"" (देखें: और )

Mark 14:21

ὅτι ὁ μὲν Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου ὑπάγει, καθὼς γέγραπται περὶ αὐτοῦ

वह तुम में से बारहों में से एक है, अब एक

δι’ οὗ ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου παραδίδοται

यीशु की संस्कृति में, लोग अक्सर रोटी को शोरबे के कटोरे में या जड़ी बूटी के साथ मिश्रित तेल में साझा करते हुए डुबो कर खाते थे।

Mark 14:22

ἄρτον

यहाँ यीशु अपनी मृत्यु के बारे में भविष्यवाणी करने वाले पवित्रशास्त्र को दर्शाता है। यदि आपके पास अपनी भाषा में मौत के बारे में बात करने का विनम्र तरीका है, तो उसे यहाँ उपयोग करें। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि मनुष्य का पुत्र इस तरह मरेगा जैसा कि पवित्रशास्त्र कहता है

ἔκλασεν

इसे और अधिक सीधे तौर पर कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो मनुष्य के पुत्र को धोखा देता है"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

λάβετε, τοῦτό ἐστιν τὸ σῶμά μου

यह एक समतल अखमीरी रोटी थी, जिसे फसह के भोजन के हिस्से के रूप में खाया गया था।

Mark 14:23

λαβὼν ποτήριον

इसका अर्थ है कि उसने लोगों के खाने के लिए रोटी को टुकड़ों में तोड़ दिया। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसे टुकड़ों में तोड़ दिया"" (देखें: प्रतीकात्मक भाषा)

Mark 14:22

यह रोटी लो यह मेरी देह है। यद्यपि अधिकांश इसका अर्थ यह समझते हैं कि वह रोटी यीशु की देह का प्रतीक है और यह वास्तविक माँस नहीं है, इसलिए इस कथन का शाब्दिक अनुवाद करना सबसे अच्छा है। (देखें: उपलक्षण अलंकार)

Mark 14:24

τοῦτό ἐστιν τὸ αἷμά μου

यहाँ ""प्याला"" दाखरस के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने दाखरस का प्याला लिया"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 14:25

ἀμὴν, λέγω ὑμῖν

वाचा पापों की क्षमा के लिए है। इसे और अधिक स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह मेरा लहू है जो वाचा की पुष्टि करता है, यह लहू जो उण्डेला जाता है ताकि कई लोग अपने पापों की क्षमा प्राप्त कर सकें"" (देखें: प्रतीकात्मक भाषा)

τοῦ γενήματος τῆς ἀμπέλου

यह दाखरस मेरा लहू है। यद्यपि अधिकांश इसका अर्थ यह समझते हैं कि यह दाखरस यीशु के लहू का प्रतीक है और यह वास्तविक लहू नहीं है, इसलिए इस कथन का शाब्दिक अनुवाद करना सबसे अच्छा है। देखें:

καινὸν

यह इंगित करता है कि निम्न कथन विशेष रूप से सत्य और महत्वपूर्ण है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 3:28

Mark 14:26

ὑμνήσαντες

दाखरस। दाखरस का सन्दर्भ देने के लिए यह एक वर्णनात्मक तरीका है।

Mark 14:27

λέγει αὐτοῖς ὁ Ἰησοῦς

सम्भावित अर्थ 1) ""फिर"" या 2) ""एक नए तरीके से

σκανδαλισθήσεσθε

एक भजन गीत का एक प्रकार है। उनके लिए पुराने नियम के भजन गाना पारम्परिक था।

πατάξω

यीशु ने अपने चेलों से कहा

τὰ πρόβατα διασκορπισθήσονται

यह एक मुहावरा है जिसका अर्थ है छोड़ देना। वैकल्पिक अनुवाद: ""मुझे छोड़ देगीं"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 14:28

मार डालना। यहाँ ""मैं"" परमेश्वर को प्रकट करता है।

ἐγερθῆναί με

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं भेड़ों को तितर-बितर करूँगा"" (देखें: मुहावरे और कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

προάξω ὑμᾶς

यीशु स्पष्ट रूप से पतरस को बताता है कि वह उसका इंकार कर देगा। पतरस और सभी चेले निश्चित हैं कि वे यीशु का इंकार नहीं करेंगे।

Mark 14:29

εἰ καὶ πάντες σκανδαλισθήσονται, ἀλλ’ οὐκ ἐγώ

इस मुहावरे का अर्थ है कि परमेश्वर यीशु के मर जाने के बाद उसको फिर से जीवित कर देगा। इसे सक्रिय रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर मुझे मरे हुओं में से उठाता है"" या ""परमेश्वर मुझे फिर से जीवित करता है"" (देखें: पदन्यूनता और दोहरे नकारात्मक)

Mark 14:30

ἀμὴν, λέγω σοι

मैं तुम्हारे आगे आगे जाऊँगा

ἀλέκτορα φωνῆσαι

मैं नहीं खाऊँगा को ""मैं नहीं गिरूँगा"" के रूप में पूरी तरह से व्यक्त किया जा सकता है। वाक्यांश ""नहीं गिरना"" एक दोगुना नकारात्मक है और इसमें सकारात्मक अर्थ है। यदि आवश्यक हो तो इसे सकारात्मक में व्यक्त किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यहाँ तक कि यदि बाकी सब तुझे छोड़ दें, तौभी मैं तेरे साथ रहूँगा"" देखें:

ἢ δὶς

यह इंगित करता है कि निम्न कथन विशेष रूप से सत्य और महत्वपूर्ण है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 3:28

σὺ…με ἀπαρνήσῃ

मुर्गा एक पक्षी है जो सुबह बड़े भोर में पुकारता है। जो जोरदार आवाज वह करता है वह ""बांग"" होती है।

Mark 14:31

ἐὰν δέῃ με συναποθανεῖν

दो बार

ὡσαύτως…καὶ πάντες ἔλεγον

तुम कहोगे कि तुम मुझे नहीं जानते

Mark 14:32

भले ही मुझे मरना पड़े

ἔρχονται εἰς χωρίον

इसका अर्थ है कि सभी चेलों ने वही बात कही जो पतरस ने कही थी।

Mark 14:33

ἐκθαμβεῖσθαι

जब वे जैतून पर्वत पर गतसमनी को जाते हैं, तो यीशु अपने तीन चेलों को उसके प्रार्थना करते समय जागने के लिए उत्साहित करता है। दो बार वह उन्हें जगाता है, और तीसरी बार वह उनसे जागने के लिए कहता है क्योंकि यह उसके पकड़वाए जाने का समय है।

ἀδημονεῖν

वे"" शब्द यीशु और उसके चेलों को प्रकट करता है।

Mark 14:34

ἐστιν ἡ ψυχή μου

दुःख से भरकर

ἕως θανάτου

बहुत ही"" शब्द यीशु के उसकी आत्मा में बहुत अधिक दुःखी होने को दर्शाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अत्यधिक परेशान"" (देखें: अतिशयोक्ति)

γρηγορεῖτε

यीशु स्वयं को उसका ""मन"" बोलता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं हूँ"" (देखें: )

Mark 14:35

εἰ δυνατόν ἐστιν

यीशु बढ़ा चढ़ा कर बोल रहा है क्योंकि वह बहुत अधिक परेशानी और दुःख को महसूस करता है जैसे कि वह मरने वाला है, यद्यपि वह जानता है कि सूर्य उगने तक वह नहीं मरेगा। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

παρέλθῃ…ἡ ὥρα

यीशु के प्रार्थना करते समय चेलों को सतर्क रहना था। इसका अर्थ यह नहीं है कि उनको प्रार्थना करते हुए यीशु को देखना था।

Mark 14:36

Ἀββά

इसका अर्थ है कि यदि परमेश्वर इसे होने की अनुमति देगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि परमेश्वर इसकी अनुमति देगा"" (देखें: शब्दों की प्रति बनाना या उधार लेना)

ὁ Πατήρ

यहाँ ""यह घड़ी"" अभी बगीचे में और बाद में दोनों समय में यीशु के पीड़ा के समय को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""कि उसे पीड़ा के इस समय से होकर न जाना पड़े"" (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

παρένεγκε τὸ ποτήριον τοῦτο ἀπ’ ἐμοῦ

यहूदी बच्चों द्वारा अपने पिता को सम्बोधित करने के लिए उपयोग किया जाने वाला एक शब्द। क्योंकि इसके बाद ""पिता"" आता है, इसलिए इस शब्द को लिप्यांतरित करना सबसे अच्छा है। (देखें: लक्षणालंकार)

ἀλλ’ οὐ τί ἐγὼ θέλω, ἀλλὰ τί σύ

यह परमेश्वर के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। (देखें: पदन्यूनता)

Mark 14:37

εὑρίσκει αὐτοὺς καθεύδοντας

यीशु उस पीड़ा के बारे में बोलता है जिसे उसे सहन करना है जैसे कि वह एक प्याला था। (देखें: )

Σίμων, καθεύδεις? οὐκ ἴσχυσας μίαν ὥραν γρηγορῆσαι?

यीशु परमेश्वर से वैसा करने के लिए कह रहा है जो वह चाहता है कि पूरा हो और वह नहीं जो यीशु चाहता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु जो मैं चाहता हूँ वह मत करो, जो भी आप चाहते हो वह करो"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 14:38

ἵνα μὴ ἔλθητε εἰς πειρασμόν

उन्हें"" शब्द पतरस, याकूब और यूहन्ना को प्रकट करता है।

τὸ μὲν πνεῦμα πρόθυμον, ἡ δὲ σὰρξ ἀσθενής

यीशु सो जाने के लिए शमौन पतरस को डाँटता है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हे शमौन, जब मैंने तुमसे जागते रहने के लिए कहा था तो तुम सो गए हो। तुम एक घड़ी भी जाग नहीं सके। ""(देखें: )

τὸ…πνεῦμα…ἡ…σὰρξ

यीशु परीक्षा किए जाने की बात करता है जैसे कि यह किसी भौतिक स्थान में प्रवेश करने जैसा था। वैकल्पिक अनुवाद: ""कि तुम्हारी परीक्षा न की जाए"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 14:39

τὸν αὐτὸν λόγον εἰπών

यीशु शमौन पतरस को चेतावनी देता है कि वह जो करना चाहता है वह करने के लिए वह अपनी सामर्थ्य में पर्याप्त रूप से मजबूत नहीं है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम अपनी आत्मा में तैयार हो, परन्तु तुम जो करना चाहते हो वह करने के लिए तुम बहुत कमजोर हो"" या ""जो मैं कहता हूँ तुम वह करना चाहते हो, परन्तु तुम कमजोर हो

Mark 14:40

εὗρεν αὐτοὺς καθεύδοντας

ये पतरस के दो अलग-अलग पहलुओं को सन्दर्भित करते हैं। ""आत्मा"" उसकी अन्दरूनी इच्छाएँ हैं। ""शरीर"" उसकी मानव क्षमता और सामर्थ्य है। (देखें: )

ἦσαν γὰρ αὐτῶν οἱ ὀφθαλμοὶ καταβαρυνόμενοι

फिर से वही प्रार्थना की कि जो उसने पहले की थी

Mark 14:41

ἔρχεται τὸ τρίτον

उन्हें"" शब्द पतरस, याकूब और यूहन्ना को प्रकट करता है।

καθεύδετε τὸ λοιπὸν καὶ ἀναπαύεσθε.

यहाँ लेखक एक सोते हुए व्यक्ति की बात करता है जिसे अपनी आँखों को खुला रखते कठिनाई हो रही थी जैसे कि उसकी ""आँखें नींद से भरी"" हुई हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्योंकि वे इतनी नींद में थे कि उन्हें अपनी आँखें खोलने में कठिनाई हो रही थी"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

ἦλθεν ἡ ὥρα

यीशु चला गया और फिर से प्रार्थना की। फिर वह तीसरी बार उनके पास लौट आया। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""तब वह चला गया और फिर से प्रार्थना की। वह तीसरी बार लौट कर आया"" (देखें: )

ἰδοὺ

यीशु जागते रहने और प्रार्थना करने के लिए अपने चेलों को डाँटता है। यदि आवश्यक हो तो आप इस अलंकारिक प्रश्न को एक कथन के रूप में अनुवाद कर सकते हैं। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुम अभी भी सो रहे हो और आराम कर रहे हो!"" (देखें: )

παραδίδοται ὁ Υἱὸς τοῦ Ἀνθρώπου

यीशु के पीड़ित होने और पकड़वाए जाने का समय आरम्भ होने वाला है।

Mark 14:43

सुनो!

यीशु अपने चेलों को चेतावनी देता है कि उसका पकड़वाने वाला उनके पास आ रहा है। इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं, मनुष्य का पुत्र, को पकड़वाया जा रहा हूँ"" (देखें: )

Mark 14:44

δὲ ὁ παραδιδοὺς αὐτὸν

यीशु को पकड़वाए जाने के लिए यहूदी अगुवों के साथ मिलकर यहूदा ने कैसे प्रबन्ध किया था, वचन 44 इसकी पृष्ठभूमि के बारे में जानकारी देता है। (देखें: )

αὐτός ἐστιν

यहूदा यीशु को एक चुम्बन से पकड़वाता है, और सभी चेले भाग गए।

Mark 14:45

κατεφίλησεν αὐτόν

यह यहूदा को प्रकट करता है।

Mark 14:46

ἐπέβαλαν τὰς χεῖρας αὐτῶν καὶ ἐκράτησαν αὐτόν

यहाँ ""जिसको"" उस व्यक्ति को प्रकट करता है जिसे यहूदा पहचानने जा रहा था। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह वही है जिसे तुम चाहते हो"" (देखें: समरूपता)

Mark 14:47

τῶν παρεστηκότων

यहूदा ने उसे चूमा

Mark 14:48

ἀποκριθεὶς ὁ Ἰησοῦς εἶπεν αὐτοῖς

इन दो वाक्यांशों का इस बात पर बल देने के लिए एक ही अर्थ है कि उन्होंने यीशु को पकड़ लिया। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु को जकड़ लिया और उसे पकड़ लिया"" या ""उसे पकड़ लिया"" (देखें: )

ὡς ἐπὶ λῃστὴν ἐξήλθατε μετὰ μαχαιρῶν καὶ ξύλων συνλαβεῖν με?

जो पास ही खड़ा था

Mark 14:49

ἀλλ’ ἵνα

यीशु ने भीड़ से कहा

Mark 14:50

ἀφέντες αὐτὸν…πάντες

यीशु भीड़ को डाँट रहा है। इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यह हास्यास्पद है कि तुम मुझे तलवारों और लाठियों के साथ पकड़ने के लिए यहाँ आए हो, मानो कि मैं एक डाकू था!"" (देखें: )

Mark 14:51

σινδόνα

परन्तु ऐसा इसलिए हुआ है ताकि

यह शिष्यों को प्रकट करता है।

κρατοῦσιν αὐτόν

सन के पौधे के तंतुओं से बने कपड़े

Mark 14:52

ὁ δὲ καταλιπὼν τὴν σινδόνα

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह उसने अपने चारों ओर लपेटा हुआ था"" (देखें: )

Mark 14:53

जब लोगों ने उस व्यक्ति को पकड़ लिया

συνέρχονται πάντες οἱ ἀρχιερεῖς, καὶ οἱ πρεσβύτεροι, καὶ οἱ γραμματεῖ

जैसे ही वह व्यक्ति भागने की प्रयास कर रहा था, वैसे ही दूसरों ने उसे रोकने की प्रयास करने के लिए उसके कपड़ों से उसे पकड़ लिया।

Mark 14:54

καὶ

महायाजकों, शास्त्रियों और पुरनियों की भीड़ द्वारा यीशु को मुख्य याजक के पास ले जाने के बाद, पतरस निकट से देखता है जब कुछ लोग यीशु के विरूद्ध झूठी गवाही देने के लिए खड़े होते हैं।

ἕως ἔσω εἰς τὴν αὐλὴν τοῦ ἀρχιερέως

इसे आगे-पीछे किया जा सकता है ताकि यह समझने में आसान हो। ""सभी महायाजक, पुरनिए और शास्त्री एक साथ वहाँ इकट्ठा हुए थे

ἦν συνκαθήμενος μετὰ τῶν ὑπηρετῶν

इस शब्द का उपयोग यहाँ कहानी रेखा में बदलाव को चिन्हित करने के लिए किया गया है जब लेखक हमें पतरस के बारे में बताना आरम्भ करता है।

Mark 14:55

δὲ

जब पतरस ने यीशु का पीछा किया, तो वह महायाजक के आँगन में रुक गया। यह स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""और वह महायाजक के आँगन तक चला गया"" (देखें: )

εἰς τὸ θανατῶσαι αὐτόν

पतरस आँगन में काम करने वाले सुरक्षाकर्मियों के साथ बैठ गया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह सुरक्षाकर्मियों के बीच आँगन में बैठ गया था"" (देखें: लक्षणालंकार)

οὐχ ηὕρισκον

इस शब्द का उपयोग यहाँ कहानी रेखा में बदलाव को चिन्हित करने के लिए किया गया है जब लेखक हमें यीशु पर मुकदमा चलाए जाने के बारे में बताना जारी रखता है।

Mark 14:56

ἐψευδομαρτύρουν κατ’ αὐτοῦ

यह वे लोग नहीं थे जो यीशु को मृत्युदण्ड देंगे; इसके बजाए, वे किसी और को ऐसा करने का आदेश देंगे। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने यीशु को मृत्युदण्ड दे दिया हो"" या ""यीशु को मृत्युदण्ड देने के लिए उनके पास कोई हो"" (देखें: रूपक)

ἴσαι αἱ μαρτυρίαι οὐκ ἦσαν

उन्हें यीशु के विरूद्ध गवाही नहीं मिली जिससे कि वे उसे दोषी ठहराएँ और उसे मार डालें। वैकल्पिक अनुवाद: ""परन्तु उन्हें कोई गवाही नहीं मिली जिससे कि उसे दोषी ठहराएँ"" (देखें: )

Mark 14:57

ἐψευδομαρτύρουν κατ’ αὐτοῦ

यहाँ झूठी गवाही बोलने का वर्णन ऐसे किया गया है जैसे कि यह एक भौतिक वस्तु थी जिसे कोई उठा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसके विरूद्ध झूठी गवाही बोलकर उस पर आरोप लगाया"" (देखें: रूपक)

Mark 14:58

ἡμεῖς ἠκούσαμεν αὐτοῦ λέγοντος

इसे सकारात्मक रूप में लिखा जा सकता है। ""परन्तु उनकी गवाही ने एक-दूसरे का विरोध किया

τὸν χειροποίητον

यहाँ झूठी गवाही बोलने का वर्णन ऐसे किया गया है जैसे कि यह एक भौतिक वस्तु थी जिसे कोई उठा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसके विरूद्ध झूठी गवाही बोलकर उस पर आरोप लगाया"" (देखें: विशिष्ट एवं संयुक्त ‘‘हम’’)

διὰ τριῶν ἡμερῶν

हमने यीशु को कहते सुना। ""हम"" शब्द उन लोगों को प्रकट करता है जो यीशु के विरूद्ध झूठी गवाही लाए और उन लोगों को सम्मिलित नहीं करता जिनसे वे बोल रहे हैं। (देखें: उपलक्षण अलंकार)

ἄλλον…οἰκοδομήσω

यहाँ ""हाथ"" लोगों को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""लोगों द्वारा बनाया गया ... बिना किसी मनुष्य की सहायता के"" या ""लोगों द्वारा निर्मित ... बिना किसी मनुष्य की सहायता के"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 14:59

οὐδὲ…ἴση ἦν

तीन दिन के भीतर। इसका अर्थ है कि मन्दिर तीन दिन की अवधि के भीतर बनाया जाएगा।

Mark 14:58

मन्दिर"" शब्द पिछले वाक्यांश से समझा गया है। इसे दोहराया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक अन्य मन्दिर का निर्माण करेगा"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 14:60

ἀναστὰς…εἰς μέσον

एक दूसरे का विरोध किया। इसे सकारात्मक रूप में लिखा जा सकता है।

οὐκ ἀποκρίνῃ οὐδέν? τί οὗτοί σου καταμαρτυροῦσιν?

जब यीशु उत्तर देते हैं कि वह मसीह है, तो महायाजक और सभी अगुवे उसे मार डाले जाने के योग्य व्यक्ति होने के रूप में उस पर दोष लगाते हैं।

Mark 14:61

ὁ…Υἱὸς τοῦ Εὐλογητοῦ

यीशु क्रोधित भीड़ के मध्य में उनसे बात करने के लिए खड़ा हो जाता है। यह दिखाने के लिए अनुवाद करें कि जब यीशु बोलने के लिए खड़ा हुआ था तो कौन उपस्थित था। वैकल्पिक अनुवाद: ""महायाजकों, शास्त्रियों और पुरनियों के मध्य खड़ा हुआ"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 14:60

महायाजक यीशु से उस जानकारी के बारे में नहीं पूछ रहा है जो गवाहों ने कही हैं। वह यीशु से यह प्रमाणित करने के लिए कह रहा है कि गवाहों ने जो गलत कहा है वह गलत है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्या तू उत्तर नहीं देने वाला है? इस गवाही के उत्तर में तू क्या कहता है जो ये लोग तेरे विरोध में कह रहे हैं?"" (देखें: आम विशेषण और पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

Mark 14:62

ἐκ δεξιῶν καθήμενον τῆς δυνάμεως

यहाँ परमेश्वर को ""धन्य"" कहा जाता है। ""पुत्र"" का अनुवाद उसी शब्द के साथ करना सबसे अच्छा है, जो आपकी भाषा स्वभाविक रूप से मानवीय पिता के ""पुत्र"" के सन्दर्भ में उपयोग करती है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परम धन्य का पुत्र"" या ""परमेश्वर का पुत्र"" (देखें: लक्षणालंकार और प्रतीकात्मक कार्य)

ἐρχόμενον μετὰ τῶν νεφελῶν τοῦ οὐρανοῦ

इसके सम्भावित दो अर्थ हैं: 1) महायाजक के प्रश्न का उत्तर देने के लिए और 2) स्वयं को ""मैं हूँ"" कहने के लिए, जो परमेश्वर ने पुराने नियम में स्वयं को कहा था।

Mark 14:63

διαρρήξας τοὺς χιτῶνας αὐτοῦ

यहाँ ""सर्वशक्तिमान"" एक उपनाम है जो परमेश्वर का प्रतिनिधित्व करता है। ""परमेश्वर के दाहिने हाथ"" पर बैठना परमेश्वर से महान सम्मान और अधिकार प्राप्त करने का एक प्रतीकात्मक कार्य है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह सर्व-शक्तिमान परमेश्वर बगल में सम्मान के स्थान पर बैठता है"" (देखें: रूपक)

τί ἔτι χρείαν ἔχομεν μαρτύρων?

यहाँ बादलों को यीशु के साथ होने को वर्णित किया गया है जब वह लौटता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब वह आकाश के बादलों में होकर नीचे आता है"" (देखें: भाषणगत प्रश्न)

Mark 14:64

ἠκούσατε τῆς βλασφημίας

महायाजक अपने कपड़ों को इस उद्देश्य के तहत फाड़ डाला ताकि उस पर उसके अपमान और भय को प्रकट किया जा सके यीशु ने जो कहा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अपने वस्त्रों को अपमान में फाड़ डाला

οἱ…πάντες

इसे एक कथन के रूप में लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""निश्चित रूप से हमें और अधिक लोगों की आवश्यकता नहीं है जो इस व्यक्ति के विरूद्ध गवाही देंगे!"" (देखें: )

Mark 14:65

ἤρξαντό τινες ἐμπτύειν

यीशु ने जो कहा था यह उसे सन्दर्भित करता है, जिसे महायाजक ने निन्दा कहा था। वैकल्पिक अनुवाद: ""तुमने उस निन्दा को सुना है जिसे उसने बोला है"" (देखें: )

περικαλύπτειν αὐτοῦ τὸ πρόσωπον

कमरे में सभी लोग

προφήτευσον

कमरे में कुछ लोग

οἱ ὑπηρέται

उन्होंने उसके चेहरे को कपड़े से ढक दिया या आँखों पर पट्टी बाँध दी, इसलिए वह नहीं देख सकता था। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक पट्टी से उसके चेहरे को ढकने के लिए"" (देखें: )

Mark 14:66

उन्होंने उसे भविष्यद्वाणी करने के लिए कह कर उसका मजाक उड़ाया, कि उसे कौन मार रहा था। वैकल्पिक अनुवाद: ""भविष्यद्वाणी कर किसने तुझे मारा"" (देखें: )

κάτω ἐν τῇ αὐλῇ

लोग जो राज्यपाल के घर की रक्षा करते थे

μία τῶν παιδισκῶν τοῦ ἀρχιερέως

जैसा कि यीशु ने भविष्यद्वाणी की थी, पतरस मुर्गे के बाँग देने से पहले तीन बार यीशु का इंकार करता है।

Mark 14:68

ἠρνήσατο

आंगन में बाहर

οὔτε οἶδα, οὔτε ἐπίσταμαι σὺ τί λέγεις

वे दासी लड़कियाँ महायाजक के लिए काम किया करती थीं। वैकल्पिक अनुवाद: ""दासी लड़कियों में से एक जो महायाजक के लिए काम किया करती थी"" (देखें: दोहरात्मक)

Mark 14:69

ἡ παιδίσκη

इसका अर्थ दावा करना है कि कुछ सच नहीं है। इस प्रकरण में, पतरस कह रहा था कि दासी लड़की ने उसके बारे में जो कहा वह सच नहीं था।

ἐξ αὐτῶν

जानता"" और ""समझता"" दोनों का यहाँ एक ही अर्थ है। पतरस जो कह रहा है उस पर जोर देने के लिए अर्थ को दोहराया गया है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मैं वास्तव में नहीं समझता हूँ कि तुम किस बारे में बात कर रही हो"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 14:71

ἀναθεματίζειν

यह वही दासी लड़की है जिसने पहले भी पतरस की पहचान की थी।

Mark 14:72

εὐθὺς…ἀλέκτωρ ἐφώνησεν

लोग पतरस को यीशु के चेलों में से एक के रूप में पहचान रहे थे। इसे अधिक स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु के चेलों में से एक"" या ""उनमें से एक जो उस व्यक्ति के साथ रहे हैं, जिसे उन्होंने गिरफ्तार किया है"" (देखें: )

ἐκ δευτέρου

यदि आपकी भाषा में आपके पास उस व्यक्ति के लिए कोई नाम है जो किसी को धिक्कारता है, बताएँ कि परमेश्वर को। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर की शपथ खाकर उसे धिक्कारने लगा"" (देखें: क्रमसूचक संख्याएँ)

ἐπιβαλὼν

मुर्गा एक पक्षी है जो सुबह बड़े भोर में पुकारता है। जो जोरदार आवाज वह करता है वह ""बांग"" होती है।

दूसरा यहाँ एक क्रमिक संख्या है। (देखें: मुहावरे)

इस मुहावरे का अर्थ है कि वह दु:ख से अभिभूत था और अपनी भावनाओं का नियन्त्रण खो दिया था। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह दु:ख से अभिभूत था"" या ""उसने अपनी भावनाओं का नियन्त्रण खो दिया था"" (देखें: व्यंग्यात्मक और निन्दा, ठट्ठा, ठट्ठा करनेवाला, निंदा, हँसी उड़ाना, ताना कसना, उपहास का पात्र)

Mark 15

Mark 15:1

δήσαντες τὸν Ἰησοῦν, ἀπήνεγκαν

मरकुस 15 सामान्य टिप्पणियाँ

इस अध्याय में पाई जाने वाली विशेष धारणाएँ

""मन्दिर का पर्दा दो भागों में विभाजित हो गया था""

मन्दिर का पर्दा एक महत्वपूर्ण प्रतीक था जो दिखाता था कि लोगों के पास कोई होना चाहिए जो उनके लिए परमेश्वर से बात करे। वे सीधे परमेश्वर से बात नहीं कर सके क्योंकि सभी लोग पापी हैं और परमेश्वर पाप से घृणा करता है। परमेश्वर ने यह दिखाने के लिए पर्दे को विभाजित किया कि लोग अब सीधे परमेश्वर से बात कर सकते हैं क्योंकि यीशु ने अपने पापों के लिए भुगतान किया है।

कब्र

जिस कब्र में यीशु को दफनाया गया था (मरकुस 15:46) वह उस कब्र की तरह थी जिसमें धनी यहूदी परिवारों ने अपने मृतकों को दफनाया हुआ था। यह एक चट्टान में काटा गया एक वास्तविक कमरा था। इसमें एक ओर एक सपाट स्थान था जहाँ वे तेल और मसाले डालकर और कपड़े में लपेट कर देह को रख सकते थे। फिर वे कब्र के सामने एक बड़ी चट्टान लुड़का देंगे ताकि कोई भी भीतर देख न सके या प्रवेश न कर सके।

इस अध्याय में बोले जाने वाले महत्वपूर्ण पात्र

कटाक्ष

यीशु की आराधना करने का नाटक यीशु (मरकुस 15:19) और एक राजा से बात करने का नाटक दोनों करके (मरकुस 15:18), सैनिकों और यहूदियों ने दिखाया कि उन्होंने यीशु से घृणा की और विश्वास नहीं किया कि वह परमेश्वर का पुत्र था। (देखें: शब्दों की प्रति बनाना या उधार लेना)

इस अध्याय में अनुवाद सम्बन्धी अन्य सम्भावित कठिनाइयाँ

एली, एली, लमा शबक्तनी?

यह अरामी में एक वाक्यांश है। मरकुस यूनानी अक्षरों का उपयोग करके इनकी आवाजों को लिख कर लिप्यांतरित करता है। उसके बाद वह इसका अर्थ बताता है। (देखें: लक्षणालंकार)

παρέδωκαν Πειλάτῳ

जब महायाजक, पुरनिए, शास्त्री और महासभा ने यीशु को पिलातुस को सौंप दिया, तो उन्होंने यीशु पर कई बुरे कामों को करने का आरोप लगाया। जब पिलातुस ने पूछा कि क्या उन्होंने जो कहा वह सच था, तो यीशु ने उसे उत्तर नहीं दिया।

Mark 15:2

σὺ λέγεις

उन्होंने यीशु को बाँध लेने का आदेश दिया, परन्तु यह उन सुरक्षाकर्मियों के लिए होता जो वास्तव में उसे बाँधते और उसे ले जाते। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने यीशु को बाँध लेने का आदेश दिया और फिर वह ले जाया गया था"" या ""उन्होंने सुरक्षाकर्मियों को यीशु को बाँधने का आदेश दिया और फिर वे उसे ले गए"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 15:1

वे यीशु को पिलातुस के पास ले गए और यीशु का नियन्त्रण उसके पास स्थानांतरित कर दिया।

Mark 15:4

ὁ δὲ Πειλᾶτος πάλιν ἐπηρώτα αὐτὸν

सम्भावित अर्थ हैं 1) यह कहने के द्वारा, यीशु कह रहा था कि वह पिलातुस था, यीशु नहीं, जो उसे यहूदियों का राजा कह रहा था। वैकल्पिक अनुवाद: ""तूने स्वयं ऐसा कहा है"" या 2) यह कहने के द्वारा, यीशु ने निहित किया कि वह यहूदियों का राजा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हाँ, जैसा कि तूने कहा था, मैं हूँ"" या ""हाँ। यह ऐसा ही है जैसा तूने कहा है ""(देखें: )

οὐκ ἀποκρίνῃ οὐδέν?

कई बातों में यीशु पर आरोप लगा रहे थे या ""कह रहे थे कि यीशु ने कई बुरे कामों को किया है

ἴδε

पिलातुस ने फिर से यीशु से पूछा

Mark 15:5

ὥστε θαυμάζειν τὸν Πειλᾶτον

इसे सकारात्मक रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""क्या तुम्हारे पास कोई उत्तर है

Mark 15:6

देखो या ""सुनो"" या ""जो कुछ मैं तुमको बताने वाला हूँ उस पर ध्यान दो

δὲ

इसने पिलातुस को हैरान कर दिया कि यीशु ने उत्तर नहीं दिया और स्वयं को नहीं बचाया।

Mark 15:7

ἦν δὲ ὁ λεγόμενος Βαραββᾶς, μετὰ τῶν στασιαστῶν δεδεμένος

पिलातुस, यह अपेक्षा करते हुए कि भीड़ यीशु को चुनेगी, एक कैदी को छोड़ने का प्रस्ताव रखता है, परन्तु इसके बजाए भीड़ बरअब्बा की माँग करती है।

Mark 15:8

αἰτεῖσθαι καθὼς ἐποίει αὐτοῖς

इस शब्द का उपयोग मुख्य कहानी में एक विराम को चिन्हित करने के लिए यहाँ किया गया है जब लेखक पिलातुस के द्वारा चल रही पर्व पर एक कैदी को छोड़ने की परम्परा के बारे में और बरअब्बा के बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी देने की ओर मुड़ जाता है। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 15:10

ἐγίνωσκεν γὰρ ὅτι διὰ φθόνον παραδεδώκεισαν αὐτὸν οἱ ἀρχιερεῖς

उस समय बरअब्बा नामक एक व्यक्ति था, जो कुछ अन्य लोगों के साथ जेल में था। उन्होंने रोमी सरकार के विरूद्ध विद्रोह करते समय हत्या की थी

διὰ φθόνον…οἱ ἀρχιερεῖς

यह पिलातुस के पर्व में एक कैदी को छोड़ने को प्रकट करता है। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""उनके लिए एक कैदी को छोड़ना जैसा कि उसने पहले किया था"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 15:11

ἀνέσεισαν τὸν ὄχλον

यह इस बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी है कि यीशु को पिलातुस को क्यों सौंप दिया गया था। (देखें: रूपक)

μᾶλλον…ἀπολύσῃ

उन्होंने यीशु से ईर्ष्या की, सम्भवतः इसलिए कि बहुत से लोग उसके पीछे चल रहे थे और उसके चेले बन रहे थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""महायाजक यीशु से ईर्ष्या रखते थे। यही कारण है कि वे"" या ""महायाजक लोगों के मध्य यीशु की लोकप्रियता से ईर्ष्या रखते थे। यही कारण है कि वे"" (देखें: पदन्यूनता)

Mark 15:12

लेखक महायाजकों के भीड़ को उकसाने या उनसे आग्रह करने के बारे में बोलता है जैसे कि भीड़ किसी ऐसी चीज का कटोरा थी जिसे वे हिला रहे थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""भीड़ को उकसाया"" या ""भीड़ से आग्रह किया"" (देखें: )

τί οὖν ποιήσω λέγετε τὸν Βασιλέα τῶν Ἰουδαίων?

उन्होंने यीशु के बदले बरअब्बा को रिहा करने का अनुरोध किया। वैकल्पिक अनुवाद: ""यीशु के बदले छोड़ देना"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 15:14

ὁ δὲ Πειλᾶτος ἔλεγεν αὐτοῖς

भीड़ यीशु की मौत को माँगती है, इसलिए पिलातुस उसे सैनिकों को दे देता है, जो उसका मजाक उड़ाते हैं, उसे काँटों का मुकुट पहनाते हैं, उसे मारते हैं, और उसे क्रूस पर चढ़ाने के लिए बाहर ले जाते हैं।

Mark 15:15

τῷ ὄχλῳ τὸ ἱκανὸν ποιῆσαι

पिलातुस ने पूछा कि वह यीशु के साथ क्या करे यदि वह बरअब्बा को उनके लिए छोड़ देता है। यह स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""यदि मैं बरअब्बा को छोड़ देता हूँ, तो मुझे यहूदियों के राजा के साथ क्या करना चाहिए"" (देखें: )

τὸν Ἰησοῦν φραγελλώσας

पीलातुस ने भीड़ से कहा

φραγελλώσας

वह करने के द्वारा भीड़ को प्रसन्न कर दे जो भी वे उससे करवाना चाहते थे

καὶ παρέδωκεν…ἵνα σταυρωθῇ

पिलातुस ने वास्तव में यीशु को कोड़े नहीं लगाए अपितु उसके सैनिकों ने लगाए।

Mark 15:16

τῆς αὐλῆς, ὅ ἐστιν πραιτώριον

कोड़े। ""कोड़े मारना"" एक विशेष रूप से दर्दनाक चाबुक से पीटा जाना है।

ὅλην τὴν σπεῖραν

पिलातुस ने अपने सैनिकों से यीशु को ले जाकर क्रूस पर चढ़ाने के लिए कहा। इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अपने सैनिकों को उसे ले जाने और उसे क्रूस पर चढ़ाने के लिए कहा"" (देखें: )

Mark 15:17

ἐνδιδύσκουσιν αὐτὸν πορφύραν

यह वह स्थान थी जहाँ रोमी सैनिक यरूशलेम में रहते थे, और जब राज्यपाल यरूशलेम में होता था तब वह वहाँ रुकता था। वैकल्पिक अनुवाद: ""सैनिकों के बैरकों का आँगन"" या ""राज्यपाल के निवास का आँगन

ἀκάνθινον στέφανον

सैनिकों की पूरी इकाई

Mark 15:18

Χαῖρε, Βασιλεῦ τῶν Ἰουδαίων

बैंगनी राजसी लोगों के द्वारा पहना जाने वाला एक रंग था। सैनिकों ने विश्वास नहीं किया था कि यीशु राजा था। उन्होंने उसका उपहास करने के लिए उसे इस तरह कपड़े पहना दिए क्योंकि दूसरों ने कहा था कि वह यहूदियों का राजा था।

Mark 15:19

καλάμῳ

काँटेदार शाखाओं से बना एक मुकुट

τιθέντες τὰ γόνατα

उठे हुए हाथ से ""नमस्कार"" का अभिवादन केवल रोमी सम्राट का अभिवादन करने के लिए प्रयोग किया जाता था। सैनिकों ने विश्वास नहीं किया था कि यीशु यहूदियों का राजा था। इसके बजाए उन्होंने उसका मजाक उड़ाने के लिए यह कहा। (देखें: रूपक)

Mark 15:21

ἀγγαρεύουσιν…ἵνα ἄρῃ τὸν σταυρὸν αὐτοῦ

एक छड़ी या ""एक लाठी

ἀπ’ ἀγροῦ

एक व्यक्ति जो अपने घुटनों को झुकाता है, इसलिए घुटने को झुकाने वाले लोगों को कभी-कभी ""घुटनों को टेकना"" कहा जाता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""घुटने टिकाए"" या ""घुटने टेकना"" (देखें: )

καὶ ἀγγαρεύουσιν, παράγοντά…τὸν πατέρα Ἀλεξάνδρου καὶ Ῥούφου

रोमी कानून के मुताबिक, एक सूबेदार एक व्यक्ति को मजबूर कर सकता था कि वह उसका बोझ उठाने के लिए सड़क पर आए। इस प्रकरण में, उन्होंने शमौन को यीशु के क्रूस को ले जाने के लिए मजबूर कर दिया।

Σίμωνα…Ἀλεξάνδρου…Ῥούφου

शहर के बाहर से

Κυρηναῖον

यह उस व्यक्ति के बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी है जिसे सैनिकों ने यीशु के क्रूस को ले जाने के लिए मजबूर किया था। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Mark 15:22

ये लोगों के नाम हैं। (देखें: )

Κρανίου Τόπος

यह एक स्थान का नाम है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Κρανίου

सैनिक यीशु को गुलगुता ले आते हैं, जहाँ वे उसे दो अन्य लोगों के साथ क्रूस पर चढ़ाते हैं। बहुत से लोग उसका मजाक उड़ाते हैं।

Mark 15:23

ἐσμυρνισμένον οἶνον

खोपड़ी वाला स्थान या ""खोपड़ी का स्थान।"" यह एक स्थान का नाम है। इसका अर्थ यह नहीं है कि वहाँ बहुत सारी खोपड़ियाँ हैं। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 15:22

एक खोपड़ी सिर की हड्डियाँ होती हैं, या एक सिर जिस पर कोई माँस नहीं है।

Mark 15:23

यह बताना सहायक हो सकता है कि एक दर्द से राहत देने वाली दवा है। वैकल्पिक अनुवाद: ""मूर्र नामक एक दवा के साथ मिश्रित दाखरस"" या ""मूर्र नामक एक दर्द से राहत देने वाली दवा के साथ मिश्रित दाखरस"" (देखें: क्रमसूचक संख्याएँ)

Mark 15:26

τῆς αἰτίας αὐτοῦ

तीसरा यहाँ एक सामान्य संख्या है। यह सुबह के 9 बजे को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""सुबह के 9 बजे"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 15:27

ἕνα ἐκ δεξιῶν καὶ ἕνα ἐξ εὐωνύμων αὐτοῦ

सैनिकों ने इस चिन्ह को यीशु के ऊपर क्रूस पर टांग दिया। वैकल्पिक अनुवाद: ""उन्होंने यीशु के सिर के ऊपर क्रूस पर एक चिन्ह लगा दिया जिस पर"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 15:29

κινοῦντες τὰς κεφαλὰς αὐτῶν

वह अपराध जिसे करने का वे उस पर आरोप लगा रहे थे

οὐὰ

इसे और अधिक स्पष्ट रूप से लिखा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक उसके दाहिने ओर एक क्रूस पर और एक उसके बाईं ओर एक क्रूस पर"" (देखें: विस्मयादिबोधक)

ὁ καταλύων τὸν ναὸν καὶ οἰκοδομῶν ἐν τρισὶν ἡμέραις

यह एक क्रिया है जो लोग यह दिखाने के लिए करते हैं कि उन्होंने यीशु को अस्वीकृत कर दिया था।

Mark 15:31

ὁμοίως

यह उपहास का विस्मयादिबोधक है। अपनी भाषा में उपयुक्त विस्मयादिबोधक का प्रयोग करें। (देखें: )

ἐμπαίζοντες πρὸς ἀλλήλους

लोग यीशु को उसके द्वारा प्रकट करते हैं जो उसने पहले भविष्यद्वाणी की थी कि वह करेगा। वैकल्पिक अनुवाद: ""तूने कहा था कि तू मन्दिर को नष्ट कर देगा और इसे तीन दिनों में फिर से बना देगा"" (देखें: )

Mark 15:32

ὁ Χριστὸς, ὁ Βασιλεὺς Ἰσραὴλ καταβάτω

यह उस तरीके को प्रकट करता है कि जिसके द्वारा यीशु के साथ चल रहे लोग उसका उपहास कर रहे थे।

πιστεύσωμεν

अपने बीच में यीशु के बारे में मजाकिया बातें कह रहे थे

ὠνείδιζον

अगुवों ने विश्वास नहीं किया था कि यीशु, इस्राएल का राजा मसीह है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह स्वयं को मसीह और इस्राएल का राजा कहता है। तो उसे नीचे आने दो ""या"" यदि वह वास्तव में मसीह और इस्राएल का राजा है, तो उसे नीचे आ जाना चाहिए"" (देखें: )

Mark 15:33

यीशु में विश्वास करने के तरीके। वैकल्पिक अनुवाद: ""उस पर विश्वास करें"" (देखें: )

ὥρας ἕκτης

मजाक उड़ाया, अपमानित किया

σκότος ἐγένετο ἐφ’ ὅλην τὴν γῆν

दोपहर में अन्धकार पूरे देश को तीन बजे तक ढाँपे रहता है, जब यीशु जोर से चिल्लाता है और मर जाता है। जब यीशु मर जाता है, तो मन्दिर का पर्दा ऊपर से नीचे तक फट जाता है।

Mark 15:34

τῇ ἐνάτῃ ὥρᾳ

यह दोपहर या 12 पूर्वाहन को प्रकट करता है।

Ἐλωῒ, Ἐλωῒ, λεμὰ σαβαχθάνει

यहाँ लेखक बाहर अन्धेरा होने को ऐसे वर्णन करता है कि जैसे अन्धेरा एक लहर थी जो देश पर चली थी। वैकल्पिक अनुवाद: ""पूरा देश अन्धेरा हो गया"" (देखें: शब्दों की प्रति बनाना या उधार लेना)

ἐστιν μεθερμηνευόμενον

यह दोपहर के तीन बजे को प्रकट करता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""दोपहर में तीन बजे"" या ""दोपहर के मध्य में

Mark 15:35

καί τινες τῶν παρεστηκότων, ἀκούσαντες ἔλεγον

ये अरामी शब्द हैं जिनको आपकी भाषा में समान ध्वनियों के साथ नकल किया जाना चाहिए। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 15:36

ὄξους

माध्यम

καλάμῳ

यह स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि जो यीशु ने कहा था उन्होंने वह गलत समझा। वैकल्पिक अनुवाद: ""जब वहाँ खड़े लोगों में से कुछ ने उसके शब्दों को सुना, तो उन्होंने गलत समझा और कहा"" (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

ἐπότιζεν αὐτόν

सिरका

चिपके रहते हैं। यह एक सरकण्डे से बनी हुई एक लाठी थी।

इसे यीशु को दिया। उस व्यक्ति ने लाठी को पकड़ लिया ताकि यीशु स्पंज से सिरके को पी सके। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसे यीशु के पास ले गया"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 15:39

ὁ παρεστηκὼς ἐξ ἐναντίας αὐτοῦ

मरकुस प्रकट रहा है कि स्वयं परमेश्वर ने मन्दिर को पर्दे को विभाजित कर दिया था। इसे सक्रिय रूप में अनुवाद किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर ने मन्दिर के पर्दे को दो भागों में विभाजित कर दिया"" (देखें: मुहावरे)

ὅτι οὕτως ἐξέπνευσεν

यह वही सूबेदार है जिसने यीशु को क्रूस पर चढ़ाने वाले सैनिकों की निगरानी की थी।

Υἱὸς Θεοῦ

यहाँ ""उसके सामने"" एक मुहावरा है जिसका अर्थ किसी की ओर देखना है। वैकल्पिक अनुवाद: ""जो यीशु के सामने खड़ा था"" (देखें: पुत्र और पिता का अनुवाद करना)

Mark 15:40

ἀπὸ μακρόθεν θεωροῦσαι

यीशु की मृत्यु कैसे हुई थी या ""जिस तरह यीशु की मृत्यु हो गई थी

ἡ Ἰακώβου τοῦ μικροῦ καὶ Ἰωσῆ μήτηρ

यह यीशु के लिए एक महत्वपूर्ण पदवी है। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

Ἰακώβου τοῦ μικροῦ

बहुत दूर से देखा

Ἰωσῆ

जो याकूब की ... और योसेस की माँ थी। यह कोष्ठक के बिना लिखा जा सकता है।

Σαλώμη

छोटा याकूब इस व्यक्ति को याकूब नाम के किसी अन्य व्यक्ति से अलग करने के लिए सम्भवतः ""छोटा"" दर्शाया गया था।

Mark 15:41

αἳ ὅτε ἦν ἐν τῇ Γαλιλαίᾳ ἠκολούθουν αὐτῷ…αὐτῷ εἰς Ἱεροσόλυμα

यह योसेस यीशु के छोटे भाई वाला व्यक्ति नहीं था। देखें कि आपने उसी नाम का अनुवाद कैसे किया है मरकुस 6:3। (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

συναναβᾶσαι αὐτῷ εἰς Ἱεροσόλυμα

सालोमी एक स्त्री का नाम है। (देखें: पृष्ठभूमि की जानकारी)

Mark 15:42

जब यीशु गलील में था, तब ये स्त्रियाँ उसके पीछे... उसके साथ यरूशलेम को गई थीं। यह उन स्त्रियों के बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी है जिन्होंने एक दूरी से क्रूस पर चढ़ाए जाने को देखा था। (देखें: रूपक)

ὀψίας γενομένης

यरूशलेम इस्राएल में लगभग किसी अन्य भी स्थान से अधिक ऊँचा था, इसलिए लोगों के लिए यरूशलेम के लिए ऊपर जाने और उससे नीचे आने की बात करना सामान्य था।

Mark 15:43

ἐλθὼν Ἰωσὴφ ὁ ἀπὸ Ἁριμαθαίας, εὐσχήμων

अरिमितिया का यूसुफ पिलातुस से यीशु के शरीर की माँग करता है, जिसे वह सन के कपड़े में लपेटता है और एक क्रब में रख देता है।

Ἰωσὴφ ὁ ἀπὸ Ἁριμαθαίας

यहाँ शाम को इस तरह कहा गया है कि यह ऐसा कुछ था जो एक स्थान से दूसरे स्थान पर ""आने"" में सक्षम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""शाम हो गई थी"" या ""यह शाम का समय था"" (देखें: नए एवं पुराने सहभागियों का परिचय)

εὐσχήμων βουλευτής…τὴν Βασιλείαν τοῦ Θεοῦ

वाक्यांश ""वहाँ आया"" यूसुफ के पिलातुस के पास जाने को प्रकट करता है, जिसे पृष्ठभूमि की जानकारी देने के बाद भी वर्णित किया गया है, परन्तु उसके आने पर जोर देने के लिए और कहानी में उसे प्रस्तुत करने में सहायता के लिए पहले प्रकट किया गया है। आपकी भाषा में ऐसा करने का एक अलग तरीका हो सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""अरिमितिया का यूसुफ सम्मानित व्यक्ति था"" (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

εἰσῆλθεν πρὸς τὸν Πειλᾶτον

अरिमतिया का यूसुफ। यूसुफ एक व्यक्ति का नाम है, और अरिमतिया उस स्थान का नाम है जहाँ रहता वह है। (देखें: पृष्ठभूमि की जानकारी)

ᾐτήσατο τὸ σῶμα τοῦ Ἰησοῦ

यह यूसुफ के बारे में पृष्ठभूमि की जानकारी है। (देखें: अनुमानित ज्ञान एवं अंतर्निहित सूचना)

Mark 15:44

ὁ δὲ Πειλᾶτος ἐθαύμασεν εἰ ἤδη τέθνηκεν; καὶ προσκαλεσάμενος τὸν κεντυρίωνα

पिलातुस के पास गया या ""जहाँ पिलातुस था वहाँ गया

Mark 15:45

ἐδωρήσατο τὸ πτῶμα τῷ Ἰωσήφ

यह स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि वह देह को प्राप्त करना चाहता था ताकि वह इसे दफन कर सके। वैकल्पिक अनुवाद: ""इसे दफनाने के लिए यीशु की देह को प्राप्त करने की अनुमति माँगी"" (देखें: )

Mark 15:46

σινδόνα

पिलातुस ने लोगों को यह कहते हुए सुना कि यीशु मर चुका था। इसने उसे आश्चर्यचकित कर दिया, इसलिए उसने सूबेदार से पूछा कि क्या यह सच था। यह स्पष्ट किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""पिलातुस आश्चर्यचकित था जब उसने सुना कि यीशु पहले से ही मर चुका था, इसलिए उसने सूबेदार को बुलाया"" (देखें: )

καθελὼν αὐτὸν…καὶ προσεκύλισεν λίθον

उसने यूसुफ को यीशु की देह को लेने की अनुमति दी

μνήματι ὃ ἦν λελατομημένον ἐκ πέτρας

मलमल एक सन के पौधे के तंतुओं से बना हुआ कपड़ा है। देखें कि आपने इसका अनुवाद कैसे किया है मरकुस 14:51

λίθον ἐπὶ

आपको यह स्पष्ट करने की आवश्यकता हो सकती है कि यूसुफ को सम्भवतः अन्य लोगों से सहायता मिली जब उसने यीशु की देह को क्रूस से नीचे उतारा, उसे कब्र में रखने के लिए तैयार किया, और कब्र को बन्द कर दिया। वैकल्पिक अनुवाद: ""उसने और दूसरों ने उसे नीचे उतार लिया ... फिर उन्होंने एक पत्थर लुढ़का दिया"" (देखें: )

Mark 15:47

Ἰωσῆτος

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""एक कब्र जिसे किसी ने पहले से ही ठोस चट्टान में से काटा था"" (देखें: नामों का अनुवाद कैसे करें)

ἐθεώρουν ποῦ τέθειται

के सामने एक विशाल समतल पत्थर

Mark 16

यह योसेस यीशु के छोटे भाई वाला व्यक्ति नहीं था। देखें कि आपने उसी नाम का अनुवाद कैसे किया है मरकुस 6:3। (देखें: Matthew 28:1-2

Mark 16:1

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह स्थान जहाँ यूसुफ और दूसरों ने यीशु के शरीर को दफनाया था"" (देखें: )

καὶ διαγενομένου τοῦ Σαββάτου

मरकुस 16 सामान्य टिप्पणियाँ

इस अध्याय में पाई जाने वाली विशेष धारणाएँ

कब्र

कब्र जिसमें यीशु को दफनाया गया था buried (मरकुस 15:46) ऐसी कब्र की तरह थी जिसमें धनी यहूदी परिवार अपने मृतकों को दफनाया करते थे। यह एक चट्टान में काटा गया एक वास्तविक कमरा था। इसमें एक ओर एक सपाट स्थान था जहाँ वे तेल और मसाले डालकर और कपड़े में लपेट कर देह को रख सकते थे। फिर वे क्रब के सामने एक बड़ी चट्टान लुड़का देंगे ताकि कोई भी भीतर देख न सके या प्रवेश न कर सके।

इस अध्याय में अनुवाद सम्बन्धी अन्य सम्भावित कठिनाइयाँ

एक जवान सफेद वस्त्र पहने हुए

मत्ती, मरकुस, लूका और यूहन्ना सभी ने यीशु की कब्र पर स्त्रियों के साथ सफेद कपड़ों में स्वर्गदूतों के बारे में लिखा था। दो लेखकों ने उन्हें पुरुष कहा है, परन्तु यह केवल इसलिए है क्योंकि स्वर्गदूत मानवीय रूप में थे। दो लेखकों ने दो स्वर्गदूतों के बारे में लिखा, परन्तु अन्य दो लेखकों ने उनमें से केवल एक के बारे में लिखा। इन सन्दर्भों में से प्रत्येक का अनुवाद करना सबसे अच्छा है जैसे यह यूएलटी अनुवाद में सन्दर्भों में जैसा कहा गया है वैसे ही सटीकता से कहते हुए दिखाई देता है। देखें: मत्ती 28:1-2 and मरकुस 16:5 and लूका 24:4 and यूहन्ना 20:12)

Mark 16:4

ἀποκεκύλισται ὁ λίθος

सप्ताह के पहले दिन, स्त्रियाँ भोर में आती हैं क्योंकि वे मसालों को यीशु की देह पर मलने की अपेक्षा करती हैं। वे एक जवान व्यक्ति को देखकर आश्चर्यचकित है जो उन्हें बताता है कि यीशु जीवित है, परन्तु वे डरती हैं और किसी को भी नहीं बताती हैं।

Mark 16:6

ἠγέρθη

सब्त के बाद, अर्थात्, सप्ताह का सातवाँ दिन, समाप्त हो गया था और सप्ताह का पहला दिन आरम्भ हो गया था।

Mark 16:9

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""किसी ने पत्थर को लुड़का दिया था"" (देखें: )

स्वर्गदूत बड़ा जोर देकर बता रहा है कि यीशु मरे हुओं में से जी उठा है। इसे सक्रिय रूप में अनुवाद किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""वह जी उठा है!"" या ""परमेश्वर ने उसे मृतकों में से जीवित कर दिया है!"" या ""उसने स्वयं को मरे हुओं में से जी उठाया है!"" (देखें: )

Mark 16:11

यीशु पहले मरियम मगदलीनी के सामने प्रकट होता है, जो चेलों को बताती है, फिर वह देश में जाते हुए दो अन्य लोगों के सामने प्रकट होता है, और बाद में वह ग्यारह चेलों को दिखाई देता है।

Mark 16:12

रविवार को

उन्होंने मरियम मगदलीनी को कहते हुए सुना

Mark 16:13

उनमें से दो"" ने यीशु को देखा, परन्तु वह पहले दिखने वाले रूप से अलग दिखता था।

Mark 16:14

उनमें से दो ""जो उसके साथ थे"" (मरकुस 16:10)

शेष चेलों ने उस पर विश्वास नहीं किया जो राह में जाने वाले उन दोनों ने कहा था।

जब यीशु उन ग्यारहों से मिलते हैं, तो वह उन्हें उनके अविश्वास के लिए डाँटता है और उन्हें सुसमाचार का प्रचार करने के लिए पूरे संसार में जाने के लिए कहता है।

ये वे ग्यारह प्रेरित हैं जो यहूदा के, उन्हे छोड़ देने के बाद बचे थे।

यह भोजन करने के लिए एक उपनाम है, जो उन दिनों में लोगों को भोजन खाने का एक सामान्य तरीका था। वैकल्पिक अनुवाद: ""वे भोजन खा रहे थे"" (देखें: मुहावरे)

Mark 16:15

यीशु की संस्कृति में, जब लोग भोजन के लिए इकट्ठा होते थे, तो वे एक निचली मेज के किनारे पर तकियों का सहारा लेते हुए अपनी बगलों पर झुक जाते थे।

यीशु अपने चेलों को डाँट रहा है क्योंकि वे उस पर विश्वास नहीं करते हैं। इस मुहावरे का अनुवाद करें ताकि यह समझा जा सके कि चेले यीशु पर विश्वास नहीं कर रहे थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""विश्वास करने से मना कर दिया"" (देखें: लक्षणालंकार और अतिशयोक्ति)

Mark 16:16

यहाँ ""जगत"" संसार के लोगों के लिए एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""हर स्थान पर जाओ जहाँ लोग हैं"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

यह हर स्थान पर पाए जाने वाले लोगों के लिए एक बढ़ा चढ़ा कर बोला गया शब्द और एक उपनाम है। वैकल्पिक अनुवाद: ""पूर्ण रीति से हर कोई"" (देखें: कर्तृवाच्य एवं कर्मवाच्य)

Mark 16:17

जो"" शब्द किसी को भी प्रकट करता है। यह वाक्य सक्रिय किया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर उन सभी लोगों को बचाएगा जो विश्वास करते हैं और तुम्हें उन्हें बपतिस्मा देने की अनुमति देते हैं"" (देखें: मानवीकरण)

जो"" शब्द किसी को भी प्रकट करता है। यह उपवाक्य सक्रिय बनाया जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर उन सभी लोगों को दोषी ठहराएगा जो विश्वास नहीं करते हैं"" (देखें: )

मरकुस आश्चर्यकर्मों की बात ऐसे करता है जैसे कि वे लोग हों जो विश्वासियों के साथ चल रहे थे। वैकल्पिक अनुवाद: ""विश्वास करने वाले लोगों को देखने वाले लोग इन बातों को होता हुआ देखेंगे और जानेंगे कि मैं विश्वासियों के साथ हूँ"" (देखें: लक्षणालंकार)

Mark 16:19

सम्भावित अर्थ हैं 1) यीशु एक सामान्य सूची दे रहा है: ""मेरे नाम में वे इस तरह के कामों को करेंगे: वे"" या 2) यीशु एक सटीक सूची दे रहा है: ""ये वे बातें हैं जो वे मेरे नाम से करेंगे: वे।

यहाँ ""नाम"" यीशु के अधिकार और शक्ति से जुड़ा हुआ है। देखें कि ""तेरे नाम में"" का अनुवाद कैसे किया गया है मरकुस 9:38। वैकल्पिक अनुवाद: ""मेरे नाम के अधिकार से"" या ""मेरे नाम की शक्ति से"" (देखें: प्रतीकात्मक कार्य)

Mark 16:20

इसे सक्रिय रूप में कहा जा सकता है। वैकल्पिक अनुवाद: ""परमेश्वर ने उसे स्वर्ग में उठा लिया, और वह बैठ गया"" (देखें: मुहावरे)